सरिता विशेष

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिये कांग्रेस ने जब घोषणापत्र जारी किया तो युवाओं और महिलाओं की जोरशोर से बात की. घोषणा पत्र जारी करने वालों में युवा तो कोई था ही नहीं और महिला के नाम पर दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ही मौजूद थी. 125 साल पुरानी कांग्रेस में युवा नेताओं को उपर आने नहीं दिया जा रहा. यही नहीं इन नेताओं में ज्यादातर उत्तर प्रदेश के बाहर के हैं. जिनका उत्तर प्रदेश से कोई भावनात्मक लगाव नहीं है. ऐसे में यह लोग लोकल युवा नेताओं को मंच तक पहुंचने ही नहीं देते. एक नजर डालिये घोषणाप़त्र जारी करने वाले इन नेताओं और उनकी उम्र पर.

एक तरफ नजर डाले तो पूर्व प्रदेश अध्यक्ष निर्मल खत्री, राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उत्तर प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर, प्रभारी गुलाम नबी आजाद, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद, पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित और राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी खडे दिखते है. आधे से अधिक नेता ऐसे है जो उत्तर प्रदेश के लिये बाहरी है.

असल में यह नेता उत्तर प्रदेश की जनता से कम और कांग्रेस हाई कमान के ज्यादा नजदीक है. यह युवा कर्मठ और जमीनी स्तर के नेताओं को कांग्रेस हाई कमान से दूर रखना चाहते हैं. कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में युवाओं, महिलाओं और मजदूरों की बात की है. घोषणापत्र को जारी करते समय मंच पर ऐसे लोग दिखते तो जनता को उम्मीद होती कि चुनाव के बाद कांग्रेस इन लोगों की तरक्की के लिये काम करेगी. इसके अभाव में घोषणापत्र महज एक दिखावा बन कर रह गया. इस पर भरोसा करने को कोई तैयार नहीं है. घोषणापत्र को हिन्दी, उर्दू और अंग्रेजी में जारी किया गया. घोषणापत्र के जारी करने के बाद वहा मौजूद कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने कहा कि पार्टी में केवल उम्र दराज लोगों के मंच पर होने से यह संदेश जाता है कि पार्टी में नये चेहरों का अभाव है.

कांग्रेस ने महिलाओं को पंचायतों में 50 फीसदी आरक्षण देने की बात कही है. विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 10 फीसदी महिलाओं को भी विधानसभा का टिकट नहीं दिया है. कांग्रेस इस चुनाव में समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ रही है. उसे अगर अपने संगठन और जनाधार को विस्तार देना है तो केवल राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के नाम से काम नहीं चलने वाला उसे उत्तर प्रदेश में युवा नेताओं और महिलाओं को संगठन में आगे लाना होगा. कांग्रेस अभी विपक्ष में है उसके पास अवसर है. अगर वह अभी तैयारी नहीं करेगी तो लोकसभा चुनाव के समय दोबारा से अपने पैरों पर खड़ा होना मुश्किल होगा. कांग्रेस पार्टी की नीतियों से पार्टी का कार्यकर्ता निराश है.

कांग्रेस का उत्तर प्रदेश कार्यालय राजधानी लखनऊ की कैंट विधानसभा क्षेत्र में आता है. जहां पर कांग्रेस से विधायक रही रीता बहुगुणा जोशी अब भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं. रीता के प्रचार में कांग्रेस के लोग लगे हैं. यह बात संगठन को नहीं दिख रही. इससे साफ पता चलता है कि कांग्रेस के हवाहवाई नेताओं को उस विधानसभा की सच्चाई भी नहीं पता है जहां उनके प्रदेश कार्यालय बना है. अगर लोकल नेताओं को प्रमुखता दी गई होती तो वह ऐसी परेशानियों को समझ अपने कार्यकर्ताओं को अनुशासन में रख सकता था.