सरिता विशेष

बड़ी संख्या में बाहरी लोगों को पार्टी का टिकट देने से नाराज भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं को समझाने के लिये पार्टी ने अपने घोषणापत्र में राम मंदिर को सबसे नीचे जगह दी है. राम मंदिर के लिये भाजपा के घोषणापत्र और प्रदेश अध्यक्ष का बयान आपस में मेल नहीं खाता. भाजपा के घोषणापत्र में कहा गया है कि संवैधानिक तरीके से हल निकाल कर पार्टी राम मंदिर बनवाने का काम करेगी. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव मौर्य कहते हैं ‘प्रदेश में बहुमत की सरकार बनते ही राम मंदिर के बनाने का रास्ता साफ हो जायेगा.’ अपने कैडर को खुश करने के लिये भाजपा ने मुसलिम वर्ग के प्रत्याशी को टिकट नहीं दिया है.

असल में भाजपा के नेता और कार्यकर्ता दोनो को ही राम मंदिर बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं है. दूसरे दलों की ही तरह से यह लोग भी चुनाव जीतने और सत्ता में रहने की कोशिश में रहते हैं. जब भी नाराजगी का मसला आता है तो राम मंदिर की याद आ जाती है. भाजपा ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में पार्टी के कमजोर होते जनाधार को देखते हुये बड़ी संख्या में दलबदल को बढ़ावा दिया. दूसरे दलों के नेताओं के आने से भाजपा का वोटर नाराज न हो इसके लिये पार्टी ने राम मंदिर की बात को कह दिया.

इसके पहले पार्टी कई बार यह की चुकी है कि राम मंदिर का मुद्दा उनका चुनावी एजेंडा नहीं है. अगर राम मंदिर चुनावी मुद्दा नहीं है तो इसे घोषणापत्र में शामिल क्यों किया गया? असल में राम मंदिर के मलहम को लगा भाजपा अपने नाराज लोगों को पार्टी से जोड़े रखना चाहती है. पार्टी अंदरखाने यह प्रचार भी कर रही है कि वह अकेली ऐसी पार्टी है जिसने एक भी मुसलिम को चुनाव लड़ने के लिये टिकट नहीं दिया है.

भाजपा ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की शुरुआत में मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को प्रदेश में चुनावी प्रचार का हिस्सा बनाने का प्रयास किया था. उत्तर प्रदेश के लोगों का उमा भारती के प्रति उत्साह न देख कर अब सांसद योगी आदित्यनाथ को अपने प्रचार अभियान से जोड़ा है. योगी आदित्यनाथ अपनी उपेक्षा से नाराज थे. वह हिन्दू महासभा के टिकट पर चुनाव लड़ कर खुद को मुख्यमंत्री का प्रत्याशी घोषित करना चाहते थे. योगी के अलग होने से भाजपा का नुकसान होता, ऐसे में पार्टी ने घोषणापत्र जारी करते समय योगी आदित्यनाथ को तवज्जों दी और राम मंदिर को चुनावी घोषणापत्र में शामिल किया.

अयोध्या के संत ज्ञानदास कहते हैं ‘राममंदिर मसला सुप्रीम कोर्ट में है. कोर्ट के फैसले से ही जो होगा वह हो सकता है. भाजपा केवल राम मंदिर बनाने की बात करती है. उसे हर बार यह बात चुनावों के समय ही याद आती है. जनता इस बात को समझती है. ऐसे में वह किसी झांसे में नहीं आने वाली. राम मंदिर बनाने में प्रदेश सरकार की कोई भूमिका नहीं है. केन्द्र सरकार ही पहल कर समझौते या आपसी समझौते से राम मंदिर का निर्माण कर सकती है. केन्द्र में भाजपा की ताकतवर सरकार को ढाई साल हो गया. राम मंदिर पर कोई कदम नहीं उठा. ऐसे में चुनाव के घोषणापत्र मे इसको शामिल करना केवल वोटरों को बरगलाने का हिस्सा भर है.’