सरिता विशेष

बिहार को अपराध और भ्रष्टाचार से निजात दिलाने का दावा कर रही महागठबंधन की सरकार पर पहला कलंक राजद के ही विधायक सरोज यादव ने लगा डाला. पिछले 20 नबंबर को नीतीश कुमार ने अपने कैबिनेट के साथ शपथ लिया और 23 नबंबर को राजद विधायक ने आरा के चारपोखरी थाना के थानेदार कुवंर गुप्ता को जान से मारने की धमकी दे डाली. थानेदार को कसूर यही था कि उसने पहली बार विधायक बने सरोज यादव की पैरवी सुनने से मना कर दिया था.

यादव ने 23 नबंबर को एक हत्याकंड के मामले में थानेदार को फोन किया और थानेदार ने इस मामले में पुलिस के सीनियर अफसरों से बात करने की सलाह दी. इससे विधयक का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया और थानेदार को पटक कर मारने और जान लेने की धमकी दे डाली. विधायक ने बाद में सपफाई देते हुए कहा कि थानेदार ने उन्हें औकात में रहने की धमकी दी थी, जिसके बाद थानेदार को पटक कर मारने की बात कहीं.