केन्द्र सरकार ने लालबत्ती को खत्म कर वीवीआईपी कल्चर खत्म करने की बात कही है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 31वीं बार लोगों से अपनी मन की बातमें कहा कि अब वीआईपी नहीं ईपीआई यानि एवरी पर्सन इज इंपॉर्टेंट का जोर होगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में वीआईपी संस्कृति के खिलाफ लोगों में नफरत है. प्रधानमंत्री की बात अपनी जगह सही है. देखने वाली बात यह है कि वीआईपी कल्चर केवल लाल और नीली बत्ती में ही नहीं है. हर सरकार के समय में उसके कार्यकर्ताओं में भी वीआईपी कल्चर आ जाता है. उत्तर प्रदेश में योगी सरकार के समय में लाल गमछासंस्कृति वीवीआईपी कल्चर बन गया है.

इसका सबसे बड़ा प्रभाव दो पहिया वाहनों से लेकर लक्जरी गाडियों तक में देखा जाता है. मोटर बाइक की सवारी करने वाला तो धूप से बचने के लिये हेलमेट की जगह पर लाल गमछे का प्रयोग करने लगा है. लक्जरी एसी गाडियों में बैठे लोग इसका प्रयोग क्यों करते हैं यह बात समझ से परे नहीं है. पुलिस ही नहीं सरकारी विभागों में बिचैलियों का काम करने वाले यह लोग सत्ता के पसंद के रंग को अपने से जोड लेते हैं. बसपा और सपा सरकार के समय भी यह चलन खूब चल रहा था. योगी सरकार के आने के बाद लाल गमछा वीआईपी कल्चर को दिखाने का एक जरीया बन गया है.

यह बात अपनी जगह पूरी तरह से सही है कि ऐसे लोग किसी पार्टी के नहीं होते. यह सरकार बदलते ही अपनी पार्टी बदल लेते हैं. ऐसे में अब योगी सरकार में लाल गमछे और केसरियां रंग के कपड़ो का चलन बढ गया है. लाल गमछा तो दुकानों पर आते ही बिक जाता है. इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि पुलिस चेकिंग के दौरान इनको रोकने से पुलिस परहेज करने लगी है. ऐसे कपडों को देखकर सरकारी विभागों में उसकी बात को सुना जाने लगा है. ऐसे कपड़े पहन कर लोग दंबगई करने लगते हैं.

लखनऊ में प्रदेश की विधानसभा से मात्र 1 किलोमीटर दूर वर्लिगटन चौराहे पर लडकियां का मसाज पार्लर चल रहा था. जो सेक्स की गतिविधियों में लिप्त था. इसका संचालन एक ऐसा ही नेता था तो हिन्दूवादी संगठन से विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुका था. पुलिस ने सूचना के आधार पर छापा मारकर पार्लर बंद कराया. आरोपियों को जेल भेज दिया. अगले ही दिन वह जमानत पर बाहर आ गये. टोल टैक्स न देना पड़े इसलिये सत्ता के मद में रंगे लोग दंबगई करते हैं.

लाल और नीली बत्ती तो केवल ऐसे लोगों के ही पास थी जिनको सरकार देती थी. सत्ता के रंग की दबगई तो वह लोग करते हैं जिनका सरकार से कोई लेना देना नहीं होता. इसके बाद भी वह वीआईपी कल्चर को पूरी तरह से मजा लेते हैं. प्रधानमंत्री को अगर सच में वीआईपी कल्चर खत्म करना है तो लाल नीली बत्ती के साथ लाल गमछा संस्कृति को भी रोकना होगा. यह लाल नीली बत्ती से अधिक घातक है. दो पहिया चलाने वाले जिस तरह से सड़को पर बाइक चलाते हैं उससे दुर्घटना का खतरा बढ़ रहा है. पुलिस को हेलमेट की जगह लाल गमछा पहन कर गाडी चलाने वालों को रोकना चाहिये.