राजद सुप्रीमो लालू यादव और उनकी बीबी राबड़ी देवी को ‘सूटेबल बहू’ की तलाश है. उन्हें ऐसी बहू चाहिए, जो उनका और उनके घर का ख्याल रखे. नौकरी करने वाली या राजनीति करने वाली बहू उन्हें कतई नहीं चाहिए. उन्हें सीधी-सादी और घरेलू लड़की ही चाहिए. लालू कहते हैं कि लड़की के लिए कोई खास क्राइटेरिया नहीं है. वह राबड़ी देवी जैसी सोच-विचार वाली सीधी-सादी लड़की खोज रहे हैं, जो हर हाल में साथ निभाए और परिवार का ख्याल रखे.

लालू-राबड़ी के बेटे तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव बिहार के मोस्ट एलिजिबल बैचलर हैं. उनका बड़ा बेटा तेजप्रताप बिहार का स्वास्थ्य मंत्री है और छोटे बेटे तेजस्वी यादव उपमुख्यमंत्री हैं. दोनों के लिए जोर-शोर से लड़की देखने और चुनने की कवायद शुरू कर दी गई है. लालू के दोनों बेटे 2015 के बिहार विधान सभा चुनाव में पहली बार जीत हासिल कर विधान सभा पहुंचे थे और उसके बाद नीतीश सरकार में मंत्री बनाए गए थे. तेजप्रताप ने महुआ विधान सभा सीट से चुनाव जीता था और तेजस्वी यादव ने राघोपुर सीट से चुनाव जीता था.

लालू और राबड़ी दावा करते हैं कि वह अपने दोनों बेटों की शादी में दहेज नहीं लेंगे. राबड़ी इसमें एक बात जोड़ती हैं कि दहेज तो नहीं लेंगे, लेकिन कोई गाय देना चाहेगा तो जरूर ले लेगें. राबड़ी यह भी कहती हैं कि उन्हें गुणवान और सुंदर बहू चाहिए. तेजप्रताप भी विवाह को लेकर पूछे गए सवालों के जबाब में कहते हैं कि वह अपने माता-पिता की पसंद की लड़की से ही विवाह करेंगे.

लालू और राबड़ी के 2 बेटे और 7 बेटियां हैं. सातों बेटियों का विवाह हो चुका है. मीसा भारती, रागिनी, लक्ष्मी, हेमा, रोहिणी, चंदा और धुर लालू की बेटियां हैं. सभी अपनी परिवारिक जिम्मेवारियां संभाल रही हैं. बड़ी बेटी मीसा भारती को पिछले साल राज्य सभा का सदस्य बनाया गया था. उनके पति        शैलेश कुमार इंजीनियर हैं और उनके 2 बच्चे हैं.

पिछले साल यह हवा जोरों से चली थी कि योग गुरू बाबा रामदेव के किसी रिश्तेदार की बेटी से तेजप्रताप का विवाह तय हो चुका है और उसके बदले बिहार के हाजीपुर में रामदेव को डेयरी फार्म खोलने के लिए जमीन मुहैया की जाएगी. यह बात बाद में अफवाह साबित हो कर रह गई.

पिछले दिनों भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने चुटकी लेते हुए कहा था कि लालू यादव ने अपने बेटों को राजनीति में सेटल कर दिया है और अब उनकी शादी कर देनी चाहिए. मोदी के इस मजाक पर तेजप्रताप तैश में आ गए और कह डाला कि मोदी अपने बेटे का विवाह क्यों नहीं करते हैं? क्या वह नपुंसक है? उनकी इस बात पर बिहार की सियासत गरमा गई तो लालू और नीतीश को उस पर पानी डालने के लिए आगे आना पड़ा. तब मामला ठंडा पड़ा था और मोदी चुप हो गए थे.

बिहार के सियासी हलकों और राजद के अंदरखाने में यह चरचा गरम रहती है कि अकसर अपने ललाट पर चंदन-टीका लगा कर घूमने वाले 28 साल के तेज प्रताप अपने छोटे भाई तेजस्वी को उप मुख्यमंत्री बनाए जाने से खासे नाराज रहते हैं. इस बात को लेकर वह अपने पिता लालू यादव से भी नाराज रहते हैं. अकसर वह मंदिरों के चक्कर लगाते रहते हैं. कई बार देर रात को उठ कर भी किसी मंदिर की ओर निकल पड़ते हैं. कभी तेजप्रताप कभी कृ़ष्ण का रूप धर कर बांसुरी बजाने लगते हैं तो कभी हलवाई की दुकान में जलेबी छानने लगते हैं. कभी कुम्हार की चाक पर हाथ साफ कर मिट्टी के बर्तन बनाने लगते हैं.

COMMENT