सरिता विशेष

फौरीतौर पर देखें तो लगता है कि लालबत्ती उतर जाने से वीआईपी कल्चर खत्म हो जायेगा. थोड़ा गहराई में जाये तो दिखता है कि लालबत्ती वीआईपी कल्चर को हाशिये पर ले जाने की पहली सीढ़ी है. हवाई जहाज के सफर से लेकर ट्रेन के सफर तक इसकी छाया का प्रभाव दिखता है. बड़े अफसर और नेता ही नहीं सत्ता पक्ष के पार्टी कार्यकर्ता तक प्रभावी होते हैं. वह भी वीआईपी कल्चर का एक हिस्सा होते हैं. बुंदेलखंड में पार्टी को संबोधित करते खुद सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ‘विकास कामों में हड़बड़ी होने से बीजेपी कार्यकर्ता कानून हाथ में न ले. वे गलत काम की शिकायत अपने जनप्रतिनिधि और पदाधिकारियों से करें. विपक्ष में थे तो धरना प्रदर्शन सब चलता था. अब धरना प्रदर्शन पार्टी कार्यकर्ताओं का काम नहीं है.’

असल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बहुत ही सरल तरह से बात को समझाने का प्रयास किया है. बहुमत की सरकार बनने के बाद भाजपा के नेताओं से अधिक भाजपा के साथ शामिल किये गये नेता और कार्यकर्ता सत्ता की हनक दिखा कर ठेका, रिश्वत, जमीनों मकानों के कब्जे के लिये झगड़ों को सुलझाने की आड़ में अफसरों से साठगांठ करने लगे हैं. यह दुखद हालात बन रहे हैं. जिस तरह का आरोप समाजवादी पाटी के कार्यकर्ताओं पर लग रहा था अब भाजपा में शामिल हुये कार्यकर्ता करने लगे हैं. भाजपा विधायक महेन्द्र सिंह यादव का टोल कर्मचारियों से मारपीट करना छोटा उदाहरण भर है. सरकार बनने के बाद कुछ लोग सरकार की छवि को दागदार बना रहे हैं. असल में इस वीवीआईपी कल्चर पर रोक जरूरी है.

केन्द्र सरकार ने वीआईपी कल्चर को कम करने के लिये लाल बत्ती लगी गाडियों से लालबत्ती उतराने का काम किया है. केन्द्र सरकार ने अमल के लिये 1 मई का समय दिया था. उसके पहले ही तमाम लोगों ने अपनी गाड़ियों से लालबत्ती उतारने का काम शुरू किया. लाल बत्ती कल्चर तभी खत्म होगा जब सत्तापक्ष के नेता, उनके समर्थक और अवसरवादी नेता तो भाजपा में सरकार बनने के समय शामिल हुये वह सयंम के साथ काम करे. अस्पताल जैसी जगहों पर जहां लोग लाइन में लगे हो संयम से काम ले. सड़क पर अपने वाहन से चलते समय दूसरी गाड़ियों को ठीक से पास दे.

केवल कानून बना देने या लालबत्ती उतारने से यह काम नहीं होने वाला. इसके लिये व्यवहार में बदलाव लाना होगा. खासकर सत्ता पक्ष और उससे जुड़े लोग सहनशीलता का प्रदर्शन करे और न्याय का साथ दे. लालबत्ती और हूटर का विरोध नया नहीं है. समय समय पर कई बार इसको रोकने और कम करने के प्रयास हुये हैं. इस प्रयास का सार्थक प्रभाव तभी दिखेगा, जब सत्ता पक्ष के लोग संयम से रहेंगे और अपने बीच में छिपे ऐसे लोगों को पहचान कर बाहर करेंगे जो पार्टी में घुसपैठ कर पार्टी की छवि को प्रभावित कर रहे हैं.