गंगा किनारे सभाएं और सत्संग करने के पौराणिक रिवाज को निभाने का आनंद ही कुछ और है. यह आनंद आरएसएस के मुखिया मोहन भागवत कानपुर में उठा रहे हैं, मौका है संघ के प्रांत प्रचारकों की सालाना बैठक का, जो पांच दिन चलती है. यह बैठक लगभग गोपनीय है, जिसमे खास खास लोगों को ही जाने का सौभाग्य मिल रहा है. बगैर किसी अनौपचारिक /औपचारिक घोषणा के ही लगाने वालों ने अंदाजे लगा लिए कि हो न हो जरूर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के मद्देनजर रणनीति बन रही है, क्योकि वहां भाजपा अच्छी स्थिति में नहीं है और अगर कोई चेहरा पेश कर ही सपा बसपा को टक्कर दी जाना जरूरी हो गया है, तो वह नाम इस मीटिंग में तय किया जा सकता है (यह और बात है कि अभी तक कोई बलि का बकरा बनने तैयार नहीं हुआ है).

6 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर सहित सब कुछ ठीक ठाक चल रहा था कि आल इंडिया सुन्नी उलेमा काउंसिल ने मोहन भागवत से मिलने समय मांग लिया. यह समय बाकायदा संघ का प्रोटोकाल निभाते एक चिट्ठी के जरिये संघ प्रतिनिधियों से मांगा गया. कहीं भागवत मिलने से इंकार न कर दें, इसलिए 6 सवाल भी इसमे नत्थी कर दिये गए, जिससे सनद रहे और संघ व भागवत को वक्त जरूरत घेरा जा सके. ये सवाल हैं…

1 – क्या आरएसएस देश को हिन्दू राष्ट्र बनाना चाहता है

2 – आरएसएस भारत को हिन्दू राष्ट्र मानता है तो क्या वह हिन्दू धर्म ग्रंथो के अनुसार देश चलाना चाहता है

3 – आप यानि संघ व भागवत हम मुसलमानो से कैसा राष्ट्र प्रेम चाहते हैं

4 – धर्म परिवर्तन पर आरएसएस के क्या विचार हैं

5 – इस्लाम से संघ क्या चाहता है

6 – आप इस्लाम के बारे में क्या जानते हैं.

ये ऐसी पहेलियां हैं जिन्हें भागवत बूझेंगे तो भी और न बूझें तो भी दिक्कत में पड़ने वाले हैं, क्योकि इनमे से कुछ सवालों के जबाब तो बड़े पैमाने पर हिन्दू भी संघ से साफ साफ सुनने की उम्मीद रखते हैं. भागवत चुप रहें या जवाब दें या हाल फिलहाल सवाल टरका दें, देखना दिलचस्प होगा, क्योकि उनके जबाब कुछ भी हों नुकसान तो भाजपा को ही पहुंचाएंगे.

यूपी में मुस्लिम वोट भाजपा को न मिलें, यह चिंता की बात संघ के लिए नहीं है. उसकी कोशिश यह है कि ये वोट सपा, बसपा और कांग्रेस में बंट जाएं तो ही 200 सीटों के बारे में सोचा जाना चाहिए. उधर मुल्ला उलेमा भी कम नहीं हैं, इसलिए उन्होने इस दफा बड़ी शराफत दिखाते मोहन भागवत से ईदी में चंद ऐसे सवालों के जबाब मांगे हैं, जिन्हें दिया गया तो दिवाली फीकी पड़ जाएगी.