ऊंची जातियों की अगुवाई का दावा करने वाली भारतीय जनता पार्टी ने अब दूसरे दलों से मुकाबला करने के लिये अपने परंपरागत वोट बैंक से मुंह मोड लिया है. भाजपा की स्थापना के 36 वर्षो में 23 वर्ष ब्राहमण नेता ही उत्तर प्रदेश में पार्टी की कमान संभालते रहे है. कुछ साल ठाकुर और गुप्ता बिरादरी के नेता प्रदेश अध्यक्ष बने. पिछडे वर्ग के नेता बहुत कम समय तक प्रदेश अध्यक्ष रहे.

पार्टी ने कुर्सी से हटते ही उनको हाशिये पर डाल दिया. अब भाजपा ऊंची जातियों को बाय बाय कर पिछडों और दलितों को साधने का गणित लगाकर चुनाव जीतना चाहती है. इस क्रम में केवल उत्तर प्रदेश ही नहीं देश के दूसरे प्रदेशों में भी ऊंची जातियों को दरकिनार करते पिछडा और दलित समीकरण पर भरोसा किया है. भाजपा ने जातीय समीकरण के साथ हिन्दुत्व की पहचान को ध्यान में रखा है. जिससे वोटर खासकर ऊंचे वर्ग को खुश रखा जा सके. उत्तर प्रदेश से लेकर अरूणाचल तक भाजपा ने इस फार्मूला को अपनाया है.

भाजपा ने उत्तर प्रदेश, पंजाब, कर्नाटक, तेंलगाना और अरूणाचल प्रदेश में पार्टी के नये प्रदेश अध्यक्षों की घोषणा की, तो उसमें से एक भी ऊंची जाति का प्रदेश अध्यक्ष नहीं शामिल हो सका. इनमे एक दलित, दो ओबीसी, एक पिछडा (लिंगायतद्ध), और एक अनुसूचित जाति से है. भाजपा ने उत्तर प्रदेश में केशव प्रसाद मौर्या, पंजाब में विजय सांपला, कर्नाटक में बीएस यदुदरप्पा, तेलेगांना में के लक्ष्मण और अरूणाचल प्रदेश में तापिर गांव को पार्टी की कमान सौंप दी है.

इन नये प्रदेश अध्यक्षों में से करीब करीब सभी का राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के साथ काम करने का लंबा अनुभव रहा है. इससे जाहिर है कि भाजपा को नागपुर एजेंडे पर ही चलना है. संघ एक तरफ आरक्षण की समीक्षा और गरीब सवर्णो को आरक्षण दिये जाने की वकालत करता नजर आता है तो दूसरी तरफ ऊंची जातियों को बाय बाय भी कर रहा है.

भाजपा के नये प्रदेश अध्यक्षों में इस बात का ख्याल रखा गया है कि उनमें हिन्दुत्व का फैक्टर जरूर दिखे. दलितों के मुकाबले पिछडे वर्ग के नेताओं में धर्मिक आस्था अधिक होती है, इनको हिन्दुत्व से जोडना सरल होता है, इसलिये संघ ने पिछडे वर्ग के उन नेताओं को महत्व देना शुरू किया है जो दलित वर्ग के ज्यादा करीब है. उत्तर प्रदेश में 40 फीसदी पिछडे वर्ग का वोट बैंक है. भाजपा की नजर में सबसे खास चुनावी लडाई उत्तर प्रदेश में है. 2019 के लोकसभा चुनाव में जीत के लिये जरूरी है कि उत्तर प्रदेश मजबूत रहे.

उत्तर प्रदेश के नये प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या का संघ से पुराना नाता रहा है. पंजाब में विजय सांपला को प्रदेश की कमान दी गई. विजय सांपला केन्द्र सरकार में सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री है. भाजपा उनको अपने मुख्यमंत्री के रूप में देख रही है. कर्नाटक में सत्ता खो चुकी भाजपा को केवल बीएस येदुदरप्पा ही संकटमोचन दिखे. तेलगांना में के लक्ष्मण संघ के करीबी है. कट्टरवादी नेता है. सानिया मिर्जा को पाकिस्तानी बहू कहकर विवाद को हवा दी थी. अरूणाचंल प्रदेश में तापिर गांव को प्रदेश अध्यक्ष बना कर चुनावी तैयारी शुरू कर दी है.