सरिता विशेष

कोई सेवानिवृत अभिनेत्री अगर सपा सांसद अमर सिंह के साथ दिखे, तो इसका सीधा सा मतलब यही होता है कि वह जल्द ही राजनीति मे दिखेगी और हाल फिलहाल प्रवेश परीक्षा दे रही है. बॉबी गर्ल डिंपल कपाड़िया इन दिनो अमर सिंह के साथ नजर आ रहीं हैं तो लगाने वाले अंदाजा यही लगा रहे हैं कि वे कौन सी विधान सभा सीट से लड़ सकती हैं. फ़िल्मकारों से अमर सिंह के मधुर और अनौपचारिक  संबंध किसी सबूत के मोहताज नहीं हैं. इन दिनों पूरी तरह सपा प्रमुख मुलायम सिंह की तीमारदारी में जुटे अमर सिंह अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं कि सपा फिर से सत्ता मे आए और इस बाबत यथासंभव जो बन सकता है वे कर रहे हैं, डिंपल को वाराणसी घुमाना इसका उदाहरण है.

हालांकि राजनीति में फिल्म कलाकारों का आना कोई नई बात नहीं है, लेकिन उन्हें लेकर अनुभव अच्छे नहीं रहे हैं, लगता ऐसा है कि वे महज वक्त काटने और अपनी शोहरत भुनाने सियासत में चले आते हैं. राजनीतिक दलों को इनसे इकलौता फायदा यह होता है कि मुफ्त में भीड़ जुटाने वाला स्टार प्रचारक मिल जाता है. उत्तर प्रदेश विधानसभा  चुनाव के दंगल में इस दफा भी थोक में फिल्मी सितारे ताल ठोकते नजर आएंगे, तो मजा आम जनता को आएगा.

बूढ़ी हो चली हेमा मालिनी से जनता आज भी शोले फिल्म का संवाद चल धन्नो तेरी इज्जत का सवाल है सुनने की फरमाइश करती है तो शाटगन के नाम से मशहूर शत्रुघ्न सिन्हा से खामोश और कह देना छेनु आया था सुनती है. बात जहां तक डिंपल के आने की सुगबुगाहट की है तो वे भी जनता का मनोरंजन करने कुछ न कुछ सुनाएंगी, क्योकि पब्लिक अब मुफ्त में वोट नहीं देती. हालाकि उनकी एंट्री उनकी कद काठी के हिसाब से नहीं हो रही है. उनके पति राजेश खन्ना कांग्रेस से दो दफा सांसद रहे हैं और भाजपाई दिग्गज लालकृष्ण आडवाणी को हराकर भी सनसनी मचा चुके हैं.

बहरहाल अमर सिंह अपनी उपयोगिता तो सिद्ध कर ही रहे हैं जिसके लिए वे जाने जाते हैं राजनीति में वे जयाप्रदा और राज बब्बर के भी गाड़ फादर हैं. यह जुदा बात है कि राज बब्बर अब प्रदेश  कांग्रेस के अध्यक्ष हैं.