आज महिलाएं घर की देहरी पार कर ऊंचे से ऊंचे मुकाम तक पहुंच रही हैं. मिस वर्ल्ड का खिताब लेना हो या मिस यूनिवर्स का, कौरपोरेट वर्ल्ड में नाम कमाना हो या पुरुषप्रधान क्षेत्रों में उत्कृष्टता साबित करनी हो, महिलाएं सामाजिक बेडि़यों को तोड़ कर आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ रही हैं.

उन की सोच बोल्ड हुई है और इस के साथ ही उन के लुक और व्यक्तित्व में भी निखार आया है. पहनावा हो या मेकअप बोल्डनैस और इंडिपैंडैंसी हर पहलू में नजर आती हैं.

चर्चा में रहना है पसंद

हाल ही में दंगल फेम फातिमा शेख अपने बोल्ड फोटो शूट की वजह से सुर्खियों में रहीं. फातिमा ने इंस्टाग्राम पर 2 बोल्ड फोटो साझा किए. इन में वे बीच पर स्विमसूट पहने नजर आ रही हैं.

आज महिलाएं इस तरह के बोल्ड लुक द्वारा चर्चा में आने से गुरेज नहीं करतीं, बल्कि ऐंजौय करती हैं. बोल्ड लुक का एक उदाहरण मलाइका अरोड़ा भी हैं, जो अकसर अपने फैशन और बोल्ड स्टेटमैंट के लिए चर्चा में बनी रहती हैं.

क्रिएटिविटी का फंडा

आजकल लड़कियां और महिलाएं फैशनेबल और बोल्ड दिखने के लिए अपना अलग स्टाइल बनाती हैं. स्टाइल से ही ऐटीट्यूड डैवलप होता है, जिसे लोग हमेशा याद रखते हैं.

श्री लाइफस्टाइल की जौइंट मैनेजिंग डाइरैक्टर शीतल कपूर कहती हैं, ‘‘आप ने कौन सी फैंसी ड्रैस पहनी है इस से लोगों को मतलब नहीं होता, आप ने उसे कैसे कैरी किया है यह बात माने रखती है. ड्रैस लोगों की नजरों में आए और उन्हें अच्छी लगे, फिर चाहे वह इंडियन हो या वैस्टर्न. कोशिश करें कुछ ऐसा स्टाइल बनाएं जो अलग भी हो, बोल्ड भी हो और आप पर जंचे भी.

‘‘उदाहरण के लिए साड़ी एक पारंपरिक परिधान है पर आज की लड़कियां बौलीवुड हस्तियों से प्रभावित हो कर उसे ग्लैमरस टच देने से नहीं चूकतीं. साड़ी के साथ मैडरिन कौलर ब्लाउज, हाल्टर नैक ब्लाउज, लोकट स्लीवलैस ब्लाउज और नैट स्लीव वाले ब्लाउज कैरी कर काफी बोल्ड और स्टाइलिश नजर आती हैं.’’

फैशन का असर हर उम्र पर

अब महिलाएं खुद पर उम्र का असर नहीं आने देतीं. आज के समय में फैशन में बदलाव का असर हर उम्र में दिखता है. मां, नानीदादी, बूआ वगैरह पहले साडि़यां या सलवारकमीज के अलावा कुछ नहीं पहनती थीं. अब वे भी उतनी ही मौडर्न दिखना चाहती हैं, जितनी कि उन की बेटी और बहू. अब वे भी जींस, ट्राउजर, टीशर्ट और शर्ट में खुद को कंफर्टेबल पाती हैं और हमेशा जवां दिखना चाहती हैं.

आत्मविश्वास के लिए बोल्ड मेकअप

गिनीज रिकौर्ड होल्डर मेकअप आर्टिस्ट इशिका तनेजा कहती हैं कि मेकअप इनसान की ऊपरी सुंदरता ही नहीं निखारता, बल्कि दुनिया के सामने खुद को प्रस्तुत करने का आत्मविश्वास भी पैदा करता है. मेकअप के जरीए सुंदर बन कर महिला के मन में फीलगुड फैक्टर और आत्मविश्वास कूटकूट कर भर जाता है. इस आत्मविश्वास के साथ वह जो भी काम करती है, उस में सफलता निश्चित हो जाती है.

इशिका कहती हैं कि बोल्ड मेकअप आप को भीड़ से अलग करता है. बोल्ड दिखने के लिए आजकल ब्लैक और ट्रांसपैरेंट शेड के मसकारे की जगह पिंक से ले कर ग्रीन और यलो शेड के कलरफुल मसकारे ट्राई किए जाने लगे हैं. ये कलरफुल शेड्स न केवल आप की आंखों को बड़ा और खूबसूरत बनाते हैं, बल्कि ब्लैक मसकारे के मुकाबले ज्यादा आकर्षक भी नजर आते हैं.

बोल्ड लुक में लिपस्टिक के डार्क शेड्स जैसे रैड और पिंक चेहरे को अट्रैक्टिव लुक ही नहीं देते, बल्कि डार्क कलर चेहरे को लंबे समय तक ऐनर्जेटिक भी रखते हैं.

इसी तरह आंखों का स्मोकी लुक बोल्ड मेकअप में पसंद किया जाता है. आईब्रोज को पूरी तरह से बढ़ा कर या बिना शेप के रखा जाता है या उन्हें बनवाया जाता है, तो पौइंटर्स न  दे कर स्ट्रेट रखा जाता है. नाखूनों को नया लुक देने के लिए नेल आर्ट का इस्तेमाल किया जाता है.

कौस्मैटिक सर्जरी से बोल्ड लुक

आज कौस्मैटिक सर्जरी ने यह कमाल कर दिखाया है कि लोग सिर्फ अपने चेहरे को ही नहीं वरन बौडी पार्ट्स को भी नया और बोल्ड लुक दे सकते हैं. बड़े शहरों में ही नहीं, बल्कि छोटे शहरों में भी बौडी कंटूरिंग क्लीनिक खुल गए हैं. महिलाएं शिल्पा शेट्टी जैसे कर्व, कैटरीना कैफ जैसे आकर्षक होंठ या प्रियंका चोपड़ा जैसा सैक्सी लुक पाने और बोल्ड दिखने के लिए यहां लाखों रुपए खर्च करने से भी गुरेज नहीं करतीं.

बीएलके सैंटर फौर कौस्मैटिक ऐंड सर्जरी के डा. लोकेश कुमार बताते हैं कि कौस्मैटिक सर्जरी द्वारा कई तरह से आकर्षक और बोल्ड लुक पाया जा सकता है जैसे:

फेस लिफ्टिंग: फेस लिफ्टिंग 2 तरह से की जाती है. पहला है पारंपरिक पद्घति जिस में सर्जिकल प्रक्रिया द्वारा ढीली त्वचा और झुर्रियों को ठीक किया जाता है. यह पूरी तरहएक औपरेशन जैसा होता है और 2-3 दिन अस्पताल में रहना पड़ता है. सर्जरी के द्वारा मांसपेशियों और त्वचा को टाइट कर दिया जाता है.

वे महिलाएं जिन्हें झुर्रियां नहीं हैं, मगर त्वचा ढीली पड़ने से चेहरा लटक गया हो, उन्हें बिना सर्जरी के फेसलिफ्ट कराने की सलाह दी जाती है. इस में डर्मल फिलर के द्वारा वौल्यूम बढ़ा दिया जाता है, जिस से त्वचा टाइट दिखती है. दूसरा तरीका है, त्वचा में थ्रेड डाल कर उसे अंदर ही अंदर टाइट कर देना, जिस से चेहरा लिफ्ट हो जाता है.

ब्रैस्ट कंटुअर्स: कई महिलाएं अपने स्तनों के आकार से संतुष्ट नहीं होतीं. उम्र के साथ स्तनों का ढीला हो जाना भी एक मुख्य समस्या है. ब्रैस्ट ऐनलार्जमैंट और ब्रैस्ट औगमैंटेशन द्वारा इन्हें मनचाहा आकार दिया जा सकता है. ब्रैस्ट इनहांसमैंट में सिलिकौन इंप्लांट सब से अधिक चलन में है. इस का कोई साइड इफैक्ट नहीं होता.

लिप सर्जरी: यह सर्जरी 2 कारणों से की जाती है. एक तो जिन के होंठ पतले होते हैं उन के लिए इनहांसमैंट सर्जरी की जाती है. इस में  सर्जरी के द्वारा होठों में स्टफिंग कर के उन के आकार को बड़ा किया जाता है.

दूसरा, जिन के होंठ बड़े और मोटे होते हैं, उन के लिए लिप रिडक्शन सर्जरी की जाती है. सर्जरी के अलावा एक नौन सर्जिकल तरीका भी है जिस में फिलर्स के द्वारा होंठों के लुक में बदलाव लाया जाता है.

नोज शेपिंग: कुछ लोगों की नाक उन के चेहरे पर सूट नहीं करती. सर्जरी के द्वारा नाक के आकार में बदलाव लाया जाता है ताकि वह उन के चेहरे पर फबे. इस सर्जरी के लिए अस्पताल में भरती होना पड़ता है और रिकवर होने में कम से कम 2-3 सप्ताह का समय लगता है.

टैटूज: आज की लड़कियों में अपने लुक को कूल और बोल्ड दिखाने के लिए टैटूज वगैरह बनवाने का क्रेज है. कुछ लड़कियां अपने मातापिता या अपने परिवार के किसी सदस्य के नाम का टैटू बनवाती हैं, अपने बौयफ्रैंड के नाम पर टैटू बनवाने वाली लड़कियों की भी कमी नहीं.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं