हमारी समान्य जीवनशैली में पेट दर्द, सिरदर्द या बुखार का होना आम है. जैसे ही ये परेशानियां होती हैं हम तुरंत कोई एंटीबायोटिक दवाई खा लेते हैं. इससे हमारी परेशानी तुरंत खत्म हो जाती है पर पीछे से एक बड़ी परेशानी के आने का दरवाजा खुल रहा होता है. कई जानकारों और चिकित्सकों ने इन दवाइयों के निरंतर सेवन से पेट की गंभीर बीमारियों के होने की चेतावनी दी है.

कुछ जानकारों का मानना है कि जरूरत से अधिक एंटीबायोटिक लेने से आपको पेट की गंभीर बीमारियां हो सकती हैं. इससे डायरिया का खतरा काफी बढ़ जाता है. इसके अलावा प्रो-इंफेक्शन इम्यूनिटी विकसित हो सकती है, इसका मतलब है कि आपके शरीर में हुआ इंफेक्शन जल्दी ठीक नहीं होगा.

too much antibiotic are harmful

वर्तमान में एंटीबायोटिक प्रतिरोधक क्षमता विश्व के कुछ बड़े और गंभीर समस्याओं में से एक हो गई है. आज लोगों में एंटीबायोटिक दवाइयों से संबंधित जानकारी का अभाव है, जरूरी ये है कि लोगों को इससे जुड़ी जानकारी दी जाए और उन्हें जागरुक किया जाए.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, एंटीबायोटिक दवाइयां, वायरस संक्रमण को रोकने और उनके इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयां हैं. एंटीबायोटिक तब कारगर नहीं होता, जब इनके जवाब में बैक्टीरिया अपना स्वरूप बदल लेता है.

too much antibiotic are harmful

विश्व स्वास्थ्य संगठन की मानें तो बिना जरूरत के एंटीबायोटिक लेने से इम्यूनिटी कमजोर होती है, जो कि वैश्विक स्वास्थ्य के लिए सबसे बड़े खतरों में से एक है. लंबे समय तक एंटीबायोटिक लेने से उपजे संक्रमण से मरीज को अस्पताल में भर्ती रहना पड़ सकता है. बीमारी गंभीर होने पर मरीज की मौत भी हो सकती है.

Tags:
COMMENT