परिवार

कमियां निकालने वालों से कैसे निबटें
By पारुल भटनागर | 19 January 2017
‘निंदक नियरे राखिए...’ यह तो आप ने सुना ही होगा. इस का सीधा अर्थ है कि आलोचना से कभी घबराना नहीं चाहिए बल्कि आलोचक को अपने पास रखना चाहिए.