सेक्स पति पत्नी के आपसी संबंधों को मजबूती देता है. जब एक पक्ष को एतराज हो तो यही सेक्स तलाक का आधार भी बन सकता है. भारत में अभी वैवाहिक बलात्कार कानून को मान्यता नहीं मिली है. इससे पत्नी को पति के खिलाफ बलात्कार कानून का प्रयोग करने का अधिकार हासिल नहीं है. महिला अधिकारों की बात करने वाले इस बात की हिमायत कर रहे हैं कि देश में वैवाहिक बलात्कार कानून लागू किया जाये. वैवाहिक बलात्कार कानून भले ही देश में लागू न हो पर सेक्स का आधार बनाकर तलाक मांगने और पति को परेशान करने के मामले तेजी से बढ रहे हैं. पारिवारिक न्यायालयों, पुलिस थानों और सामाजिक संगठनों के पास ऐसे तमाम ममाले आते हैं, जिनमें पत्नी की तरफ से पति के खिलाफ आईपीसी की धरा 377 के तहत मुकदमा लिखे जाने की बात कहीं जाती है. पति के खिलाफ यह धारा लगाई जाये इसके लिये पत्नी कहती है कि उसके पति ने उसके साथ जबरन अननैचुरल सेक्स यानि अप्राकृतिक सेक्स संबंध बनाया गया. कई बार यह आरोप भी लगाया जाता है कि अप्राकृतिक सेक्स संबंध की कोशिश की गई.

पति परिवार कल्याण संस्था की प्रमुख इंन्दू सुभाष कहती है ‘तलाक लेने के समय पति पत्नी के बीच दूरी इतना बढ जाती है कि पत्नी पति को ज्यादा से ज्यादा परेशान करने की कोशिश करती है. इसके लिये वह कडे से कडे कानून का सहारा लेना चाहती है. धारा 377 इसमें सबसे अधिक कारगर होती है. आईपीसी की धारा 377 संज्ञेय अपराध की श्रेणी में आती है. इसके तहत जमानत लेना मुश्किल ही नहीं असंभव होता है. आरोप लगाने के बाद पत्नी को कुछ साबित करने की जरूरत नहीं होती. पति को ही अपनी बेगुनाही साबित करनी पडती है. अगर पति के खिलाफ आरोप सही पाया जाता है तो उसे 10 साल तक की सजा हो सकती है.’ इस तरह के आरोप से घबराकर पति जल्द ही तलाक के लिये राजी हो जाता है. यही कारण है कि पत्नियां तलाक के लिये धारा 377 को आधार बनाने लगी हैं.

कानून के जानकार लोग मानते है कि धारा 377 का आरोप लगने के बाद उससे दामन बचा पाना पति के लिये मुश्किल हो जाता है. इसलिये वह सरलता से पत्नी की बात को मानकर उसे तलाक देने पर राजी हो जाता है. अप्राकृतिक सेक्स को लेकर जो कानून बना है उसके अनुसार पति पत्नी के बीच भी इसको गैर कानूनी माना गया है. इसलिये धारा 377 के तहत इस बात का अधिकार है कि अप्राकृतिक सेक्स संबंधों के खिलाफ कानून की मदद ले सके. ऐसे में अब पत्नियों ने धारा 377 को तलाक के आधार के रूप में प्रयोग करना शुरू कर दिया है. देखने वाली बात यह है कि ऐसे आधार बनाने वाली पत्नियों में उम्र की कोई बाधा नहीं है. पति के साथ शादी के 20 साल गुजारने वाली पत्नी से लेकर शादी करके आई नई नवेली दुल्हन तक ऐसे आरोप लगा रही है. पुलिस विभाग के लोग मानते है कि पहले इस तरह की शिकायतें कभी कभार सुनने को मिलती थी. अब ऐसे आरोप सामान्य बात हो गये है.