भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और बोरियो इलाके के विधायक ताला मरांडी अपने बेटे मुन्ना मरांडी की शादी कर के विवादों में घिर गए हैं. 11 साल की नाबालिग लड़की को बहू बना कर कानूनी पचड़े में वे ऐसे फंसे हैं कि उन के खिलाफ गोड्डा के बोआरीजार थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है. ताला मरांडी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 376 और पास्को ऐक्ट लगाया गया है. लड़की को प्रेमजाल में फंसाने और उसी से शादी करने का झांसा दे कर उस का यौन शोषण करने के मामले में उन का बेटा मुन्ना मरांडी भी बुरी तरह से फंस गया है.

खिजुरकया गांव की रहने वाली सीमा मुर्मू ने मुन्ना मरांडी के खिलाफ 22 जून, 2016 को प्रथम न्यायिक दंडाधिकारी के. आनंदा सिंह की अदालत में केस दाखिल कर यौन शोषण का आरोप लगाया था. कोर्ट के आदेश पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया और अब झारखंड रा य बाल संरक्षण आयोग ने नाबालिग के साथ मुन्ना मरांडी द्वारा शादी रचाने के मामले में स्वत: संज्ञान लिया. आयोग के सदस्य डाक्टर मनोज कुमार ने समूचे मामले पर गोड्डा के डीसी से रिपोर्ट मांगी है. आयोग ने दूल्हा और दुलहन के अलावा शादी समारोह में शामिल बरातियों और दूसरे लोगों के नामों की भी पूरी लिस्ट मांगी है. इस के बाद इस बाल विवाह में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी.

बाल विवाह करने के आरोप में फंसे ताला मरांडी सफाई देते हैं कि वे लोग गांव के रहने वाले हैं और गांवों में जन्म सर्टिफिकेट देख कर शादी नहीं होती है. रितु के मांबाप ने उन्हें बताया था कि उन की बेटी की उम्र 18 साल से ज्यादा है. उस के बाद ही वे अपने बेटे से रितु की शादी के लिए तैयार हुए. 11 साल की नाबालिग लड़की से शादी के मामले की जांच महागामा के एसडीओ ने की है. लड़की एसडीएन स्कूल में पढ़ती है और स्कूल के रजिस्टर में उस का जन्मदिन 25 जुलाई, 2005 दर्ज है. ताला मरांडी के बेटे मुन्ना मरांडी की उम्र 24 साल है और उस ने ग्रेजुएशन की डिगरी ले रखी है. उस ने 27, जून 2016 को रितु के साथ शादी की थी. मुन्ना मरांडी ने एक लड़की के साथ प्यार किया और दूसरी लड़की को विवाह का प्रस्ताव दे दिया. उस के बाद वह यही नहीं रुका, तीसरी लड़की के साथ सात फेरे ले लिए.

जिस लड़की के साथ उस ने मुहब्बत का खेल खेला था, अब वही उस के सामने मुसीबत बन कर खड़ी हो गई है और मुन्ना मरांडी पर यौन शोषण का मुकदमा दायर कर दिया है. मुन्ना मरांडी की रंगीनमिजाजी की कहानी यहीं खत्म नहीं होती है. गोड्डा जिले के खिजुरकया गांव की रहने वाली 19 साल की मैट्रिक पास लड़की सीमा मुर्मू का कहना है कि साल 2014 के झारखंड विधानसभा चुनाव के दौरान उस की मुलाकात मुन्ना से हुई थी. उस के बाद उन दोनों के बीच मुलाकातों का लंबा सिलसिला चल पड़ा. वे एकदूसरे को पसंद करने लगे. मुन्ना ने उसे मोबाइल फोन खरीद कर दिया, जिस पर दोनों कईकई घंटे तक प्यार की बातें किया करते थे. उस के बाद दोनों कई बार अकेले में मिले और मुन्ना ने शादी का झांसा दे कर कई दफा उस का यौन शोषण किया. उस के बाद अचानक वह शादी करने से मुकर गया. कई लड़कियों से रासलीला रचाने के बीच उस के घर वालों ने उस की शादी ममता हांदसा नाम की लड़की से पक्की कर दी. मुन्ना उस से शादी रचाने को तैयार भी हो गया, लेकिन मुन्ना की कारगुजारियों का पता ममता को लग गया और उस ने मुन्ना के साथ शादी करने से इनकार कर दिया.

21 साल की ममता हांसदा बीकौम की पढ़ाई कर रही है. वह कहती?है कि जिस लड़के से उस की शादी होने वाली थी, उस पर कोई दूसरी लड़की यौन शोषण का आरोप लगा रही है. ऐसे लड़के के साथ सात फेरे ले कर वह अपनी शादी को तमाशा नहीं बनाना चाहती थी. शादी की सारी तैयारियों के बीच जब ममता ने मना कर दिया, तो ताला मरांडी ने समाज की छीछालेदर से बचने के लिए तय तारीख को मुन्ना की शादी किसी और लड़की से कराने का मन बना लिया. उन्होंने शादी के अगुआ रहे भगन बास्की पर दबाव डाला कि वह अपनी बेटी रितु की शादी मुन्ना के साथ करा दे. रितु की उम्र 11 साल है और वह 7वीं जमात में पढ़ती है. भगन बास्की इस के लिए तैयार हो गया और 27 जून, 2016 को मुन्ना की शादी रितु से करा दी गई. इस मुद्दे पर पारिवारिक मामलों के वकील अनिल सिंह बताते?हैं कि मुन्ना और रितु की शादी के विवाद के मामले में कानून से राहत मिलना मुश्किल है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं