सरिता विशेष

मध्य प्रदेश के छोटे से कसबे की इस लड़की को बचपन से ही फैशन से बहुत लगाव था. डाक्टर पापा चाहते थे कि लाडली भी डाक्टर बन कर उन का हौस्पिटल संभाले पर कृतिका का मन तो कहीं और रमा था. डाक्टरी की पढ़ाई पढ़ने के लिए कोटा भेजा गया, लेकिन पढ़ाई बीच में ही छोड़ कर फैशन डिजाइनर बनने दिल्ली आ गईं.

निफ्ट में पढ़ाई के दौरान ही मौडलिंग का जो शौक लगा वह मुंबई आ कर फिल्म इंडस्ट्री में पूरा हुआ. पढ़ाई के दौरान ही पहला शो ‘यहां के हम सिकंदर’ में काम कर चुकीं कृतिका ने ‘कितनी मुहब्बत है’ और ‘कुछ तो लोग कहेंगे’ जैसे धारावाहिकों से दर्शकों के बीच काफी लोकप्रियता हासिल की है. टीवी शोज के साथ ही उन्होंने कई शौर्ट फिल्में भी की हैं, लेकिन छोटे परदे से वे अपना मोह नहीं तोड़ पाईं.

28 साल की कृतिका हमेशा अपनी ड्रैसिंग सैंस को ले कर जानी जाती हैं. इन दिनों वे निर्देशक निखिल सिन्हा के शो ‘चंद्रकांता’ में राजकुमारी चंद्रकांता का रोल कर रही हैं.

पेश हैं शो के प्रमोशन के मौके पर उन से हुई दिलचस्प बातचीत के कुछ अंश:

कभी सोचा नहीं था यहां तक पहुंच पाऊंगी

कृतिका बताती हैं, ‘‘मैं मध्य प्रदेश के एक छोटे से कसबे से हूं. मैं ने सोचा भी नहीं था कि मैं कभी ऐक्ट्रैस बनूंगी. मेरे पापा डाक्टर थे. मैं जब पढ़ाई के लिए दिल्ली आई तब मुझे सिर्फ यह पता था कि या तो मुझे डाक्टर बनना है या फिर फैशन डिजाइनर. ऐक्ट्रैस बनने की सोची ही नहीं थी. लेकिन जब एनएसडी और कमानी में थिएटर देखती तब दिल में कहीं ऐक्टिंग करने की हूक उठती. जब निफ्ट में मैं फैशन डिजाइनर का कोर्स कर रही थी तब शौकिया मौडलिंग भी करने लगी थी. तभी किसी ने कहा था कि तुम्हें एक बार मुंबई जरूर जाना चाहिए. कालेज की छुट्टियों के दौरान वहां गई. ‘यहां के हम सिकंदर’ शो के लिए औडिशन दिया और चुनाव हो गया. जैसे ही पापा को मालूम हुआ तो उन्हें झटका लगा. मैं उन्हें पहले भी झटका दे चुकी थी, क्योंकि उन्होंने मुझे डाक्टर की पढ़ाई के लिए कोटा भेजा था, पर मैं बीच में ही पढ़ाई छोड़ कर फैशन डिजाइनर बनने दिल्ली आ गई थी.’’

कैमरे के सामने ही ऐक्टिंग सीखी

‘‘मैं ने कोई ऐक्टिंग का कोर्स नहीं किया है. मैं फैशन डिजाइनर के तौर पर अपना कैरियर बनाना चाहती थी. अगर पहले मालूम होता तो जरूर ऐक्टिंग का कोर्स करती. मैं यह तो नहीं कह सकती कि मेरा कभी मन ही नहीं हुआ कि नाटकों में अभिनय करूं लेकिन कभी मौका भी नहीं मिला. काफी कम उम्र में ही मेरा चयन ‘यहां के हम सिकंदर’ शो के लिए हो गया, तो एनएसडी में अभिनय सीखने के बारे में सोच ही नहीं पाई. एनएसडी में पोस्ट ग्रैजुएशन कोर्स था. जब तक सोचती तब तक ऐक्ट्रैस बन गई थी.’’

कुछ अलग हट कर करना पसंद है

‘‘चंद्रकांता के लिए कई लोगों ने औडिशन दिया. जब मुझे इस किरदार का प्रस्ताव मिला तो मैं सब से पहले यही सोच रही थी कि मुझे क्यों चंद्रकांता के लिए चुना गया. मैं ने अपने अब तक के कैरियर में इस तरह का किरदार कभी नहीं निभाया है. लेकिन देवकीनंदन खत्री के उपन्यास के बारे में सुना बहुत था कि इस में एक राजकुमारी की कहानी है और राजकुमारी बनना मेरा बचपन का सपना था. जब यह शो दूरदर्शन पर आता था तब मैं बहुत छोटी थी. मुझे सही से याद भी नहीं है कि क्या कहानी थी पर शिखा स्वरूप और इरफान खान द्वारा निभाए गए पात्र अभी भी याद हैं. जब मैं ने सीरियल साइन किया तब थोड़ी सी कन्फ्यूज थी कि पता नहीं लोगों को मेरा यह बदला लुक पसंद आएगा भी या नहीं. लेकिन अब महसूस होता है कि मैं ने सही फैसला लिया है. यह शो टीवी के सभी टिपिकल पैटर्न को ब्रेक कर रहा है. फिर चाहे वह भाषा हो अथवा ऐक्ट्रैस के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला ऐक्स्ट्रा मेकअप.’’

सभी तरह के रोल पसंद हैं

कृतिका वैब सीरीज भी कर चुकी हैं. लेकिन उन का कहना है, ‘‘वैब सीरीज और टीवी दोनों अलगअलग मीडियम हैं. मैं किसी में मस्तमौला लड़की बनी हूं तो किसी में सीधीसादी मुझे दोनों माध्यमों में मौका मिला. मैं ने 3 शौर्ट फिल्में भी की हैं. हर माध्यम में काम करना चैलेंजिंग होता है. लेकिन मुझे ऐसे काम करना पसंद है. अगर बौलीवुड में कभी चांस मिलता है, तो मैं वहां भी पूरी शिद्दत के साथ काम करूंगी. लेकिन कोई अच्छा औफर आता है तब. हां, अगर रिऐलिटी शो के नाम पर बिग बौस से औफर आया, तो कभी नहीं करूंगी, क्योंकि वहां जो होता है वह मैं नहीं कर सकती.’’

दिल्ली अब भी दिल में है

कृतिका कहती हैं, ‘‘आज भी जब दिल्ली आती हूं, तो कनाट प्लेस और मंडी हाउस जाना नहीं भूलती. इन जगहों से मेरी कई यादें जुड़ी हैं. मंडी हाउस में प्ले देखने जाती थी, कत्थक वर्कशौप करती थी. वहां की आर्ट गैलरी में भी जाना मुझे बहुत पसंद था. अगर आप दिल्ली में रह चुकी हैं, तो कहीं भी जा कर सर्वाइव कर सकती हैं. दिल्ली एक ऐसी जगह है, जो आप को एक लड़की के तौर पर स्ट्रौंग और स्मार्ट बना देती है. फिर आप दुनिया में कहीं भी रह सकती हैं. इसीलिए जब मैं मुंबई गई, तो कोई मुश्किल नहीं हुई.

फिट रहने का राज

लंबी शूटिंग के चलते मैं हमेशा यह ध्यान रखती हूं कि शरीर की ऐनर्जी कम न हो पाए, इसलिए थोड़ीथोड़ी देर में कुछ खाते रहती हूं. मैं इस समय व्हीट और डेरी प्रोडक्ट्स बिलकुल नहीं ले रही हूं. टीवी इंडस्ट्री में लगातार काम करने के लिए खुद की फिटनैस का ध्यान रखना हमारे लिए बहुत जरूरी है. मैं ज्यादा कुछ नहीं केवल अपनी नानीदादी के जमाने का हैल्दी खाना मतलब मोटे अनाज वाला खाना खाती हूं. खूब पानी पीती हूं. घर का बना खाना इस समय मेरी डाइट का हिस्सा है.

शादी अभी नहीं, इसीलिए बौयफ्रैंड छोड़ा

 

कृतिका ने अपने बौयफ्रैंड सिद्धार्थ बिजपुरिया से ब्रेकअप कर लिया है. खबर है कि शादी को ले कर कुछ आपसी विवाद के कारण यह ब्रेकअप हुआ है. सिद्धार्थ इस रिश्ते को खत्म नहीं करना चाहते और वे कृतिका से पैचअप करने की कोशिश भी कर रहे हैं, लेकिन कृतिका अब इस रिलेशन को आगे नहीं चलाना चाहतीं, क्योंकि वे अभी शादी के लिए तैयार नहीं हैं, जबकि सिद्धार्थ उन्हें शादी करने के लिए फोर्स कर रहे थे.