बचपन से ही ऐक्टिंग करने का शौक रखने वाली सैयामी खेर नासिक की रहने वाली हैं. उन्होंने तेलुगु फिल्मों से अपना ऐक्टिंग कैरियर शुरू किया और ‘मिर्ज्या’ उन की पहली हिंदी फिल्म है. सैयामी खेर की दादी उषाकिरण पुराने जमाने की हीरोइन रह चुकी हैं. उन की बूआ तन्वी आजमी हैं. हालांकि उन के पिता एक मौडल रह चुके हैं और उन की मां ‘मिस इंडिया’ रह चुकी हैं, पर वे सब सैयामी खेर को फिल्मी चकाचौंध से दूर रखना चाहते थे, इसलिए वे नासिक में रहे, लेकिन सैयामी को अदाकारी विरासत में मिली है.

खेलों में दिलचस्पी रखने वाली सैयामी खेर को पता नहीं था कि वे हिंदी फिल्मों में इतने बडे़ बैनर तले काम करेंगी. पेश हैं, उन से हुई बातचीत के खास अंश:

आप का फिल्मों में कैसे आना हुआ?

मैं नासिक की रहने वाली हूं. मुझे पहाड़ों पर जाना और क्रिकेट खेलना पसंद था. मेरी पढ़ाईलिखाई मुंबई में हुई. कालेज के दौरान मैं हमेशा थिएटर में भी भाग लेती थी. इस के अलावा नादिरा बब्बर के साथ ‘एकजुट’ थिएटर ग्रुप में भी काम किया. मैं ने बहुत सारे इश्तिहारों में भी काम किया. इस तरह मैं ऐक्टिंग की तरफ मुड़ी. मुझे पहले तेलुगु फिल्म मिली और अब हिंदी.

आप को हिंदी फिल्म ‘मिर्ज्या’ का औफर कैसे मिला?

इस फिल्म के आडिशन देने के 6 महीने बाद पता चला कि मुझे यह फिल्म मिली है. इस दौरान डायरैक्टर राकेश ओमप्रकाश मेहरा ने मुझे दिल्ली में 3 महीने की घुड़सवारी सीखने के लिए भेजा था.

हर्षवर्धन कपूर के साथ काम करने का तजरबा कैसा रहा?

बहुत अच्छा था. हम दोनों की कैमिस्ट्री अच्छी रही. हर्षवर्धन ने मुझे हर सीन को करने में सहज बनाया.

इस फिल्म में किस सीन को फिल्माना सब से ज्यादा मुश्किल था?

इस फिल्म की  शूटिंग राजस्थान और लद्दाख में हुई. दोनों ही जगह की आबोहवा बहुत अलग थी. एक जगह तो मुझे बर्फ के पानी में उतर कर जाना पड़ा. वह सीन मेरे लिए बहुत ही मुश्किल था, लेकिन मैं ने किया.

फिल्मों में गरमा गरम सीन करने में आप कितना सहज होती हैं?

अगर वे सीन फिल्म का हिस्सा हैं, स्क्रिप्ट की मांग हैं, तो करने में कोई हर्ज नहीं. लेकिन जरूरत के बिना मैं कोई गरमागरम सीन नहीं करती.

खाली समय में आप क्या करना पसंद करती हैं?

मुझे म्यूजिक और स्पोर्ट्स का काफी शौक है. समय मिलने पर मैं लता मंगेशकर, किशोर कुमार, आशा भोंसले वगैरह गायकों के पुराने गीत सुनती हूं. इस के अलावा मैं सुबहसवेरे दौड़ती हूं. मेरी कोशिश रहती है कि मैं हर दिन 20 किलोमीटर दौड़ लूं. मैं कई बार मुंबई मैराथन भी दौड़ चुकी हूं. ऐक्टिंग के अलावा मुझे खेलना बहुत पसंद है. मैं सचिन तेंदुलकर की फैन हूं.

आप का ड्रीम प्रोजैक्ट क्या है?

मुझे राकेश ओमप्रकाश मेहरा के डायरैक्शन में बनी कोई फिल्म, जिस में अमिताभ बच्चन हों, करने की इच्छा है. इस के अलावा मैं हमेशा कैमरे के सामने रहना चाहती हूं.

आप की कौन सी फिल्में रुपहले परदे पर आ रही हैं?

अभी मैं मणिरत्नम की तेलुगु फिल्म में काम करने वाली हूं.