सरिता विशेष

सफलता के लिए सैक्सुअली आकर्षण का होना जरूरी है. यह बात केवल ग्लैमर वर्ल्ड के लिए ही नहीं बल्कि हर क्षेत्र में इस का असर देखने को मिलता है. हर कोई चाहे वह पुरुष हो या महिला इस की चाहत रखता है. यही सोच फिल्म अभिनेत्री सनी लियोनी भी रखती हैं. 2011 से बौलीवुड में कदम रख चुकी इस अभिनेत्री ने अपनी एक खास जगह बना ली है. उन्हें आज हर तरह की फिल्म और टीवी शो में काम करने का मौका मिल रहा है. वे खुद को धन्य मानती हैं कि आज उन का नाम हर निर्मातानिर्देशक जानता है. उन की इस कामयाबी के पीछे उन का सैक्सी लुक है, जिस की मांग आजकल फिल्मकारों को होती है.

कनाडा के ओंटारिओ में जन्मीं सनी लियोनी का असली नाम करनजीत कौर वोहरा है. सनी के पिता चंडीगढ़ के पंजाबी सिख हैं और मां हिमाचल प्रदेश के सिरमौर की हैं. बचपन से ही सनी चुस्त थीं, हमेशा युवकों के साथ हौकी खेलती थीं. आइस स्केटिंग उन्हें काफी पसंद था. जब करनजीत 13 वर्ष की थीं तब उन के मातापिता अमेरिका के कैलिफोर्निया में जा कर बस गए. उन की पढ़ाई वहीं पूरी हुई. सनी की इच्छा थी कि वे नर्स बनें. डाक्टर के काम से वे नर्स के काम को ज्यादा अहम मानती थीं. इस के लिए उन्होंने नर्सिंग का कोर्स भी किया. कोर्स के दौरान अपनी फ्रैंड के कहने पर वे मौडलिंग के लिए एक फोटोग्राफर से मिलीं और एक मैगजीन के कवर पर भी स्थान प्राप्त कर लिया. यहीं से उन की पोर्न की नींव पड़ी. सनी ने 21 साल की उम्र में पोर्न इंडस्ट्री में कदम रखा. मैगजीन के कवर पेज पर फोटो प्रकाशित होने के बाद सनी के पास औफर्स की भरमार लग गई. अमेरिका के सब से बडे़ पोर्न प्रोडक्शन हाउस से सनी को 3 साल का ऐग्रीमैंट मिला. साथ ही उन्हें पोर्न फिल्म इंडस्ट्री में भी ऐंट्री मिली.

उस दौरान सनी 35 पोर्न फिल्मों की हीरोइन बनीं और 25 पोर्न फिल्मों का उन्होंने निर्देशन किया. शुरूशुरू में वे केवल समलैंगिक पोर्न फिल्में ही किया करती थीं, जिन में वे सिर्फ युवतियों के साथ अभिनय करती थीं, लेकिन बाद में उन की पौपुलैरिटी देख कर उन्हें पुरुषों के साथ भी फिल्में करने के औफर मिलने लगे. अंत में वे पुरुषों के साथ फिल्म करने को राजी हुईं. उस ने मैट एर्रिक्सन के साथ कुछ फिल्में कीं.

मैट काफी दिनों तक उन के मंगेतर भी रहे, लेकिन जब उन्होंने दूसरे पुरुषों के साथ पोर्न फिल्में करनी शुरू कीं तो उन का रिश्ता टूट गया और सनी अब अपना प्रोडक्शन हाउस चला रहे डेनियल वीबर से मिलीं, उन के साथ कई फिल्में कीं और आज वे उन के पति हैं, जो उन का पूरा काम देखते हैं. सनी भारत बिग बौस टीवी शो के जरिए आईं, जहां वे 49 दिन रहीं. वहीं निर्मातानिर्देशक महेश भट्ट ने उन्हें फिल्म ‘जिस्म टू’ का औफर दिया, जिसे उन्होंने तुरंत स्वीकार कर लिया. यहीं से उन का बौलीवुड का सफर शुरू हुआ. इस के बाद ‘रागिनी एमएमएस टू’, ‘एक पहेली लीला’, ‘मस्तीजादे’, ‘वन नाइट स्टैंड’ आदि फिल्मों में काम किया. उन्हें हिंदी बोलना और समझना अच्छी तरह आता है, वे यूथ की पसंदीदा ऐक्टै्रस हैं, इसलिए ‘स्प्लिटविला 9’ में एक बार फिर शो होस्ट कर रही हैं, उन से मिल कर बात करना रोचक था. पेश हैं, सनी से हुई बातचीत के मुख्य अंश :

इस शो से जुड़ने की वजह और आप का सैक्सी लुक कितना आकर्षित करता है?

मुझे इस शो की थीम पसंद आई. मैं अपने सैक्सी लुक पर अधिक ध्यान नहीं देती, लेकिन इसी लुक की वजह से मैं इस शो का हिस्सा बनी हूं. इस शो के सभी युवक और युवतियां गुडलुकिंग हैं. सारे युवक सिक्स पैक वाले हैं. सब की अच्छी बौडी है. युवतियां भी सुंदर हैं.

लव में शारीरिक आकर्षण का होना कितना आवश्यक होता है?

सब से पहले आप उस की पर्सनैलिटी को ही देखते हैं. उस की कदकाठी, चेहरा, हेयरस्टाइल सबकुछ. उस के बाद ही उस से प्यार होता है. अगर वही सही नहीं है तो आकर्षण कैसा?

आप ने हिंदी कैसे सीखी, जबकि आप विदेश में पलीबढ़ीं?

मैं ने हिंदी का टीचर रखा था. मेरे लिए हर कोई ट्यूटर है. स्टाफ से ले कर टीम के सभी लोगों से मैं कुछ न कुछ हमेशा सीखती हूं.

विदेश और इंडिया की फिल्म इंडस्ट्री में क्या अंतर पाती हैं?

बहुत अंतर है. दोनों एकदम अलग हैं. यहां मुझे अधिकतर काम अपनी फिगर पर मिल रहा है, जबकि अमेरिका में मेरी अलग पहचान थी. मैं ने कभी सोचा भी नहीं था कि मुझे यहां इतना काम मिलेगा. मेरे लिए यहां काम करना ‘ड्रीम कम ट्रू’ वाली बात है.

अब तक की जर्नी कैसी रही?

5 साल की इस जर्नी में बहुत सारे उतारचढ़ाव आए, जिन से मैं ने काफी कुछ सीखा. लोग मेरी पिछली जिंदगी के बारे में पूछते हैं. लेकिन उस दौरान मुझे जो काम मिला मैं ने कर्मठता से उसे पूरा किया. तब मुझे वह ठीक लगा. अब नहीं लगता इसलिए कुछ अलग करने की कोशिश कर रही हूं. जब आप सैलिब्रिटी होते हैं तो आप की जिंदगी एक खुली किताब होती है. आप कुछ भी छिपा नहीं सकते. मैं एक बात और कहना चाहती हूं कि सैक्सुअली अट्रैक्टिव होने के साथसाथ अगर आप नौलेज भी अच्छीखासी रखते हैं तो अधिक से अधिक लोग आप के दीवाने बन जाएंगे.

यहां की संस्कृति से आप कैसे सामंजस्य बैठाती हैं?

मैं रियल लाइफ में पंजाबी हूं, मुझे यहां के संस्कार पता हैं. यहां का फूड मैं बहुत पसंद करती हूं. काम के समय कुछ भी खा लेती हूं. पर फ्राइडे व सैटरडे को पिज्जा नाइट या इटालियन फूड का दिन होता है, जबकि संडे को साधारण खाना खाती हूं. मेरे घर का माहौल हमेशा पंजाबी रहा है. मेरे घर में हमेशा मेरी मां पंजाबी खाना बनाती थीं.

एडल्ट फिल्मों से फैमिली फिल्मों में आने की अपनी इमेज को आप कैसे देखती हैं?

मैं ने कभी अपनी इमेज को बदलना नहीं चाहा. मुझे अपने जीवन से प्यार है. मैं जो भी हूं उस में खुश हूं. मैं ने हर तरह के अभिनय किए. अभी मेरी सारी फिल्में सीरियस परफौर्मैंस वाली हैं, एडल्ट नहीं. अगर दर्शकों को वे पसंद आएंगी तो मैं वैसी और भी फिल्में करूंगी.

एडल्ट फिल्मों में धर्म की दखलंदाजी कितनी होती है, फिर चाहे वह फिल्म विदेशी हो या स्वदेशी?

हर जगह सैंसरशिप है. यहां पर सवा अरब लोग हैं, इसलिए आवाज तेज होती है. विदेश में भी लोग हंगामा करते हैं और मैं इसे सही मानती हूं. अगर आप की उम्र 18 वर्ष है तो आप एडल्ट फिल्म अवश्य देखें, क्योंकि लाइफ की नैचुरल चीजों को जानना भी जरूरी है. लेकिन ये फिल्में समाज को गलत राह पर ले जा रही हैं, इसे मैं नहीं मानती, क्योंकि शोर मचाने वाले लोग ही ऐसी फिल्में अधिक देखते हैं.

आप की यंग जनरेशन से कितनी प्रतियोगिता है, जबकि आप की उम्र अब बढ़ रही है?

मैं ने हर काम उलटा किया और अब इंडस्ट्री में आई हूं लेकिन काम मिल रहा है. मेरे हिसाब से महिला को खुद तय करना पड़ता है कि कब वह शादी करे, कब बच्चा पैदा करे और कब काम करे. आज की जनरेशन यही चाहती है और करती भी है. लिमिटेशंस क्यों हों कि हम यह करें और वह न करें. ये सब हम खुद तय करते हैं. मैं ने शादी की और अब फिल्में कर रही हूं. मेरी किसी से कोई प्रतियोगिता नहीं है.

क्या बौलीवुड में आप की कोई फ्रैंड है?

मैं अभी यहां कुछ ऐसे लोगों से मिली हूं, जिन से मैं पहले कभी मिली नहीं थी. इन में प्रियंका चोपड़ा खास हैं.

आप का ड्रीम क्या है?

मेरे फ्रैंड्स व फैमिली स्वस्थ और सुरक्षित रहें और मैं अच्छा काम कर के सब का दिल जीतूं. मेरी निर्देशक संजय लीला भंसाली के साथ काम करने की इच्छा है.

कुछ मलाल रह गया है?

व्यक्तिगत रूप से ऐसा कुछ भी नहीं है. मैं ने जो भी किया अपनी मरजी से किया. मुझे लगा कि उस समय वही सही था. मुझे किसी ने यह नहीं कहा कि आप को यही करना है. मेरी लाइफ बहुत अच्छी है और मैं इस से खुश हूं.

अभी आप को शाहरुख खान के साथ फिल्म ‘रईस’ में एक गाना फिल्माने का मौका मिला. क्या इसे आप अपने कैरियर का अच्छा समय मानती हैं?

अवश्य, क्योंकि मैं न तो फिल्म इंडस्ट्री से थी और न ही यहां कोई मेरा अपना है. ऐसे में जब मुझे शाहरुख खान का फोन आया तो मैं चौंक गई और पूछने लगी कि क्या आप सही में सनी को ही फोन लगा रहे हैं? मुझे उन के साथ काम करने का मौका पा कर अच्छा लगा. अभी अरबाज खान के साथ भी एक फिल्म कर रही हूं.