बौलीवुड के रफटफ हीरो और ‘अन्ना’ के नाम से मशहूर सुनील शेट्टी सेहत को ले कर काफी चाकचौबंद रहते हैं और वे आम लागों को भी सेहतमंद रहने के लिए जागरूक बनाने की मुहिम चला रहे हैं. वे कहते हैं, ‘‘सेहत को ले कर अकसर लोग फुरसत न मिलने का बहाना बनाते हैं, जो बाद में उन्हें महंगा ही पड़ता है. जब मैं 55 साल की उम्र में फिट रह सकता हूं, तो और लोग क्यों नहीं रह सकते हैं?’’

पटना में एक जिम का उद्घाटन करने पहुंचे हीरो सुनील शेट्टी एक ‘फिटनैस गुरु’ के रूप में नजर आए. बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि देश और देह को सेहतमंद रख कर हम अपनी तरक्की कर सकते हैं और देश का भी भला कर सकते हैं. हर इनसान को रोजाना नियमित रूप से कसरत करने के लिए कुछ समय निकालना चाहिए. पैदल घूमना भी एक बेहतरीन कसरत है. कसरत से फिट रहने में मदद मिलती है.

आज 55 साल की उम्र में भी अपनी अच्छी सेहत का राज बताते हुए उन्होंने कहा कि वे अपनी सेहत को ले कर जागरूक हैं और लोगों को भी जागरूक होने की सलाह देते हैं. सेहत को तरजीह दे कर ही लोग खुद, परिवार, कारोबार, नौकरी वगैरह को भी अच्छी तरह से संभाल सकते हैं.

लोग अकसर यह कहते हैं कि आज की भागदौड़ वाली जिंदगी में कसरत करने के लिए समय ही नहीं मिलता है. वे सारा कुसूर खानपान और भागदौड़ की जिंदगी को ठहरा देते हैं. सच तो यह है कि सेहत की अनदेखी करने से मोटापा, डायबिटीज जैसी तमाम बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं. जिम में ऐक्सपर्ट ट्रेनर की मदद से मोटापा, डायबिटीज और कई तरह की बीमारियों से नजात पाई जा सकती है या कंट्रोल में रखा जा सकता है. जो लोग जिम नहीं जा सकते हैं, वे रोज एकाध घंटा घर पर ही कसरत को जरूर समय दें. साल 1992 में हिंदी फिल्म ‘बलवान’ से हीरो के तौर पर अपना फिल्मी कैरियर शुरू करने वाले सुनील शेट्टी ने अपनी आने वाली फिल्मों के बारे में बताया कि अभी ‘हेराफेरी-3’ पर काम चल रहा है और कुछ और फिल्मों पर बात चल रही है.

बिहार के बारे में उन्होंने कहा कि फिल्म इंडस्ट्री में बिहार की काफी अहमियत है. कई फिल्मों में बिहारी किरदारों को देखा जा सकता है, वहीं दूसरी ओर फिल्मों के कारोबार के लिहाज से भी फिल्म वालों का ध्यान बिहार पर टिका रहता है. बिहार और उत्तर प्रदेश में जब कोई फिल्म चलती है, तभी सुपरहिट मानी जाती है.

‘बलवान’, ‘मोहरा’, ‘गोपीकिशन’, ‘दिलवाले’, ‘टक्कर’, ‘शस्त्र’, ‘सपूत’, ‘धड़कन’,  ‘बौर्डर’, ‘भाई’, ‘विनाशक’, ‘हेराफेरी’, ‘रिफ्यूजी’, ‘एलओसी-कारगिल’ समेत तकरीबन 110 फिल्मों में तरहतरह के किरदारों को निभा चुके सुनील शेट्टी की बेटी आथिया शेट्टी ने भी बौलीवुड में धमाकेदार कदम रखा है.

आथिया शेट्टी के बारे में सुनील का कहना है कि उन में ऐक्टिंग का हुनर है और बौलीवुड में भलेबुरे की पहचान भी है. उन की पहली फिल्म ‘हीरो’ को लोगों ने काफी पसंद किया है और वे इंडस्ट्री में खुद अपना ठोस मुकाम बनाने का दम रखती हैं. अवार्ड वापसी के बारे में पूछने पर सुनील शेट्टी ने कहा कि सब से बड़ा पुरस्कार तो जनता का प्यार और सपोर्ट होता है. इस के बगैर किसी कलाकार, फिल्मकार, साहित्यकार का वजूद नहीं हो सकता है. सम्मान के तौर पर मिली किसी चीज को लौटा देने भर से सम्मान की वापसी नहीं हो जाती है. वैसे तो हर इनसान की अपनीअपनी सोच और समझ होती है. कोई भी अपनी मरजी का काम करने के लिए आजाद है.