सरिता विशेष

पूनम झांवर बहुआयामी कलाकार के तौर पर कभी अभिनेत्री तो कभी सिंगर  के रूप में रूपहले परदे पर नजर आती रही हैं. हाल ही में राजेश कुमार से हुई बातचीत में पूनम ने नीरा राडिया प्रकरण पर बनने वाली फिल्म‘2जी राडिया-शन’ और ‘आर…राजकुमार’ से जुड़े अनुभवों को बांटा.

पिछले वर्ष की सब से चर्चित फिल्म ‘ओह माई गौड’ (ओएमजी) में गोपी मइया का किरदार निभा कर मोहरा गर्ल पूनम झांवर एक बार फिर से सुर्खियों में हैं. जल्द ही वे 2जी स्पैक्ट्रम घोटाले पर आधारित फिल्म ‘2जी राडिया-शन’  में मुख्य किरदार में और प्रभुदेवा की ‘आर…राजकुमार’ में शाहिद कपूर और सोनाक्षी सिन्हा के साथ विशेष भूमिका में नजर आएंगी. बहुत कम लोग जानते हैं कि पूनम अभिनेत्री के अलावा सिंगर, फिल्ममेकर और मौडल भी हैं. ओएमजी से पहले ज्यादातर लोग उन्हें फिल्म ‘मोहरा’ में सुनील शेट्टी के साथ ‘न कजरे की धार…’ गीत के लिए याद करते थे. जबकि इस के बाद उन्होंने इंडस्ट्री में म्यूजिक एलबम के अलावा कई हिंदी और मराठी फिल्में भी बनाई हैं. राजस्थान के रईस मारवाड़ी परिवार से संबंध रखने वाली पूनम ने ओएमजी के बाद से बदली अपनी जिंदगी और कैरियर के बारे में कई बातें बताईं. पेश हैं मुख्य अंश :

ओएमजी से एक तरह से कमबैक हुआ है आप का?

हां, कह सकते हैं. हालांकि इस से पहले मैं ने नाना पाटेकर के साथ ‘आंच’ फिल्म का निर्माण किया था. इस फिल्म में मैं लीड रोल में भी थी, इस के अलावा कई म्यूजिक एलबम भी किए, पर जो पहचान ओएमजी से मिली, उस हिसाब से यह कमबैक जैसा ही था. कई बार ऐसा होता है कि आप काम तो बहुत करते हैं पर समय और प्रचार ठीक न होने के चलते उन्हें नोटिस नहीं किया जाता और कई बार एक छोटा सा किरदार आप को सुर्खियों में ले आता है. ओएमजी में गोपी मइया का किरदार भी कुछ ऐसा ही था.

इस फिल्म में आप का किरदार बहुत छोटा था, आप को नहीं लगता कि कुछ और सींस और डायलौग मिलने चाहिए थे?

मुझे उस छोटे से रोल से वह पहचान मिल गई जो कई बड़ी भूमिकाओं से नहीं मिली थी.

ओएमजी जैसी सामाजिक सरोकार से जुड़ी फिल्म लंबे अरसे के बाद देखने को मिली, आप को नहीं लगता कि ऐसी फिल्में कम बनती हैं?

यह सच है कि बौलीवुड में कमर्शियल फिल्मों की तादाद ज्यादा देखने को मिलती है बजाय सामाजिक सरोकार से जुड़ी फिल्मों के. असल में ज्यादातर निर्मातानिर्देशकों की सोच ऐसी है कि मसाला फिल्में जितनी कमाई करती हैं, समाज को संदेश देने वाली फिल्में उतना नहीं कमा पातीं. चूंकि ज्यादातर निर्मातानिर्देशक फिल्मों को मुनाफा कमाने का जरिया मात्र मानते हैं, इसीलिए कोई भी समाज को संदेश देने वाली फिल्में बना कर घाटे का सौदा नहीं करना चाहता. जबकि इस मिथक को ओएमजी ने बौक्स औफिस पर जबरदस्त कमाई कर तोड़ा है. ऐसे में उम्मीद की जानी चाहिए कि लोगों का सामाजिक फिल्मों के प्रति रुझान बढ़ेगा.

व्यक्तिगत तौर पर आप समाज से कितना सरोकार रखती हैं?

इस देश का नागरिक और पब्लिक फिगर होने के नाते मैं अपनी क्षमता के मुताबिक सोशल इश्यूज को उठाने वाले संगठनों के साथ हमेशा जुड़ने की कोशिश करती हूं. महिला अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाली एनजीओ के साथ तो मैं आज भी जुड़ी हूं. इस के अलावा दिल्ली के रामलीला मैदान में जब अन्ना हजारे ने जनलोकपाल बिल के लिए अनशन किया था तब भी मंच पर जा कर मैं ने उन के आंदोलन को समर्थन दिया था. कोशिश यही रहती है कि सोशल कौज से जुड़ कर समाज के लिए कुछ करती रहूं.

कुछ साल पहले आप को ले कर नीरा राडिया प्रकरण पर फिल्म बनाने की घोषणा हुई थी, क्या हुआ?

दरअसल, 2 जी स्कैम और नीरा राडिया के मामले पर फिल्म बनाने की घोषणा पर उस दौरान कई लोगों को आपत्ति थी, जिस के चलते प्रोजैक्ट डिले होता गया. पर अब सारी अड़चनें खत्म हो चुकी हैं. अब यह फिल्म एक इंटरनैशनल प्रोजैक्ट की तरह हौलीवुड और बौलीवुड के बड़े बैनर्स के तले बन रही है.

क्या नीरा राडिया की आपत्ति के चलते यह फिल्म लटकी थी?

असल वजह कई थीं पर हां, यह भी एक वजह कही जा सकती है. कई लोगों ने बताया था कि नीरा नहीं चाहतीं कि उन के ऊपर बनने वाली फिल्म में उन की छवि को और भी खराब किया जाए. हालांकि असल वजह तो फिल्म निर्माता ही बता सकते हैं पर हालफिलहाल फिल्म से जुड़ी सारी रुकावटें दूर हो गई हैं.

अभिनय के अलावा आप ने सिंगिंग में भी हाथ आजमाया है?

जी हां, फिल्मों में अभिनय के साथसाथ मैं सिंगिंग को ले कर भी काफी उत्साहित थी. मेरे 2 म्यूजिक वीडियो भी आए थे, जिस में मैं ने अभिनय के साथसाथ गायन में भी हाथ आजमाया था. अली हैदर के म्यूजिक वीडियो ‘चांद सा मुखड़ा’ में भी नजर आई थीं. अभी तक मैं ने 9 म्यूजिक वीडियो और 3 एलबम ‘पू फौर यू’, ‘मेक मी होम बेबी’ और ‘पू क्या जलवा’ आ चुके हैं.

भविष्य की क्या योजनाएं हैं?

हालफिलहाल तो मैं 2जी स्कैम के अपने महत्त्वाकांक्षी प्रोजैक्ट पर पूरी तरह से फोकस कर रही हूं. इस के अलावा कुमार मंगत की फिल्म ‘मुठभेड़ : द प्लैंड एनकाउंटर’ साइन की है. साथ ही, कुछ रीजनल फिल्मों का निर्माण करने की भी योजनाएं हैं. और हां, प्रभुदेवा की निर्देशित फिल्म ‘आर…राजकुमार’ में भी बड़ा दिलचस्प किरदार निभाने का मौका मिला है.