बेहद कम समय में हिंदी फिल्म जगत का लोकप्रिय सितारा बन चुकी अभिनेत्री सोनम कपूर अपने सामाजिक दायित्व भी समझती हैं. महिलाओं के हित में कुछ करने का जज्बा लिए सोनम कपूर से सोमा घोष ने फिल्मों समेत तमाम पहलुओं पर बातचीत की.
 
फिल्म ‘रांझणा’ और ‘भाग मिल्खा भाग’ में सादगीपूर्ण अभिनय कर चर्चित हुई अभिनेत्री सोनम कपूर पिछले दिनों फिल्म ‘बेवकूफियां’ में सैक्सी भूमिका में नजर आईं. अपने 5 साल के कैरियर में सोनम पहली बार परदे पर बिकिनी में दिखाई दीं. जिस के कारण वे लोगों के बीच में चर्चा का विषय बनी रहीं.
किसी भी फिल्म का चयन करते समय सोनम अपनी उन्नति के ग्राफ को अधिक देखती हैं. उन का कहना है कि हर दिन कुछ ग्रोथ होनी आवश्यक है ताकि काम में रुचि बनी रहे. वे कहती हैं, बिना ग्रोथ के किरदार निभाने में मजा नहीं आता.
फिल्म को साइन करते वक्त वे पिता की राय अवश्य लेती हैं. उन के पिता अनिल कपूर 30 वर्षों से फिल्म इंडस्ट्री में हैं. वे बताती हैं कि मेहनत, टाइम पर पहुंचना और सब के साथ अच्छा व्यवहार रखना आदि बातों का हमेशा ध्यान रखती हूं. सोनम कहती हैं, ‘‘मम्मी के बिना मैं कोई काम नहीं कर सकती. बहन रिया कपूर मेरी पार्टनर है. हम जो भी करते हैं साथसाथ करते हैं. भाई हर्षवर्धन कपूर छोटा है पर उस की राय बहुत ‘स्ट्रौंग’ है. मैं उस का आइडिया भी अपनाती हूं.’’
सैलिब्रिटी चाइल्ड होने के सोनम को कई फायदे नजर आते हैं. वे कहती हैं कि मैं इंडस्ट्री में पलीबढ़ी हूं, इसलिए हमारे लिए काम करना आसान है क्योंकि लोग हमें जानते हैं. पर मेहनत और प्रतिभा के बिना आप सफल नहीं हो सकते.
सोनम कपूर इन दिनों फिल्म में बिकिनी और अंतरंग दृश्य को ले कर चर्चा में हैं पर वे इसे गलत नहीं मानतीं. कहती हैं, ‘‘अगर कहानी की मांग है तो उसे करना ही पड़ता है. अभिनय के क्षेत्र में हर तरह की ऐक्ंिटग करनी पड़ती है,’’ आगे वे कहती हैं, ‘‘मेरे पिता एक कलाकार हैं और खुले विचारों के हैं. उन्होंने मुझे अभिनेत्री बनने के लिए प्रोत्साहित किया.’’
सोनम को हर लड़की की तरह फैशन करना पसंद है. उन्हें कपड़े, ज्वैलरी और जूते खरीदना बहुत अच्छा लगता है. वे फूडी हैं, पंजाबी डिशेज पसंद हैं. इसलिए शरीर को बैलेंस रखने के लिए वे दिन में 2 घंटे वर्कआउट करती हैं जिस में वेट टे्रनिंग और योगा शामिल होता है.
सोनम की 2 फिल्में आने वाली हैं. एक फिल्म ‘खूबसूरत’ उन की बहन रिया कपूर बना रही हैं. यह फिल्म 80 के दशक की ‘खूबसूरत’ की रीमेक है. इस के अलावा वे अरबाज खान के प्रोडक्शन तले बन रही फिल्म ‘डौली की डोली’ में भी अभिनय कर रही हैं.
एक मशहूर प्रसाधन कंपनी की ब्रैंड ऐंबैसेडर सोनम महिला अधिकारों को ले कर सजग हैं. वे कहती हैं कि उन सभी महिलाओं को पुरस्कृत किया जाना चाहिए जिन्होंने कठिन हालात में काम किया है. जब मैं 15 साल की थी तो अपने अलावा किसी और के बारे में सोच नहीं सकती थी. पर बंगाल की 15 वर्षीय देवाद्रिता मंडल ने एक पेय बना कर, उन बच्चों का ध्यान रखा जो कुपोषण के शिकार हैं. इस पेय से उन्हें थोड़ा पोषण मिलेगा.
वहीं सोनम ने मांओं से आग्रह किया कि वे बेटों को समझाएं कि वे अपनी पत्नी, गर्लफ्रैंड या बहन के साथ किस तरह का व्यवहार करें. अगर मां ही बेटेबेटी में फर्क करेगी तो दुनिया उसे अच्छी नजरों से नहीं देख सकती. उन्होंने बताया कि वे पिछले 7 सालों से महिलाओं में कैंसर 
के प्रति जागरूकता, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण पर काम कर रही हैं.
तनाव के समय सोनम अपने परिवार और दोस्तों के बीच रहती हैं. उन्हें अकेले रहना पसंद नहीं.