सरिता विशेष

फिटनैस को हमेशा बनाए रखना जरूरी है. ज्यादातर महिलाएं इस मौसम में सुस्त हो जाती हैं. चाहे गृहिणी हो या वर्किंग महिला, मौनसून में बाहर निकल कर वर्कआउट करना पसंद नहीं करती. ऐसे में पाचनशक्ति कमजोर होने के साथसाथ कई और बीमारियां भी घेर लेती हैं. ऐसे में अगर आसान फिटनैस टिप्स मिल जाएं तो घर पर भी वर्कआउट करना आसान हो जाता है.

मुंबई के साईंबोल डांस ऐंड फिटनैस सैंटर की फिटनैस ऐक्सपर्ट, मनीषा कपूर कई वर्षों से महिलाओं को ट्रेनिंग दे रही हैं. पेश हैं, मनीषा द्वारा सुझाए गए फिटनैस टिप्स:

– उमस भरे मौसम में पसीना अधिक आता है. ऐसे में पानी ज्यादा पीना चाहिए. दिन में 10-12 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए.

– इस मौसम में खीरा, मौसमी फल जिन में तरबूज, खरबूज आदि अधिक मात्रा में लें. इन में पानी ज्यादा होता है.

– वर्कआउट को ऐंजौय के रूप में करें, केवल व्यायाम के रूप में ही नहीं. अगर आप को डांस पसंद है तो वह भी कर सकती हैं. कम से कम 15 से 20 मिनट वर्कआउट करें.

– गरमी और बारिश में बाहर जाना संभव नहीं होता, इसलिए घर पर रह कर बौडी वेट ऐक्सरसाइज, स्ट्रैचेस आदि किए जा सकते हैं.

– वर्कआउट से पहले प्रौपर वार्मअप होना न भूलें वरना पेशियों में इंजरी का खतरा रहता है.

– वर्कआउट के बाद कूल डाउन पोजीशन में अवश्य रहें.

– वैसे तो कभी भी वर्कआउट कर सकती हैं, लेकिन सुबह और शाम वर्कआउट करना अच्छा रहता है. इस समय मौसम थोड़ा ठंडा रहता है.

– वर्कआउट के दौरान श्वास हमेशा नाक से ही लें, हालांकि इस से आप थोड़ी धीमी हो जाएंगी, लेकिन आप की कैलोरी बिना थकान के जल्दी बर्न हो जाएगी.

– वर्कआउट के समय हमेशा हलके रंग के आरामदायक कपड़े पहनें.

– वर्कआउट करते वक्त अगर थकान अनुभव करें तो तुरंत रुक कर पंखे के नीचे बैठ कर सुस्ता लें.

– व्यायाम के समय मन को शांत रखने के लिए कोई मनपसंद गाना सुन सकती हैं. इस से मन में आए किसी भी विचार से मुक्ति पा सकती हैं, क्योंकि भले ही दिन भर आप भागदौड़ का काम करती हों, लेकिन उस समय आप का मन किसी टारगेट या काम को खत्म करने का होता है. जब आप वर्कआउट करती हैं तो आप का मस्तिष्क उसे फौलो करता है.

– व्यायाम परिवार या फ्रैंड्स के साथ मिल कर भी कर सकती हैं. इस से आलस नहीं आएगा और फिटनेस रुटीन बना रहेगा.

– सही डाइट इस मौसम में बहुत जरूरी होती है. अधिक मिठाई और तलीभुनी चीजों से परहेज करें. अपने भोजन में फलसब्जियां अधिक शामिल करें.

– मौनसून में बाहर जाती हैं, तो केला, खरबूज, सेब आदि काट कर रख लें. इन के अलावा नीबू पानी, आम पन्ना, छाछ, कोकम शरबत आदि भी ले सकती हैं.

– बाहर निकलें तो पानी की बोतल साथ जरूर रखें. इस पानी में पुदीना पत्ती, खीरा और नीबू छोटे आकार में काट कर रख लें. पानी पीएंगी तो उस में इन सब का स्वाद और कूलनैस आ जाती है, जिस से आप फ्रैश फील करती हैं.

– जंक फूड जिस में नमक की मात्रा अधिक हो, खासकर चिप्स, अचार और चटनी कम खाएं.

– खाना बनाने में धनिया पत्ती, पुदीना पत्ती और सौंफ का अधिक प्रयोग करें, क्योंकि इस से शरीर ठंडा रहता है. गरममसाले का प्रयोग कम करें.

– अधिक देर तक खुले और कटे हुए फल गरमियों या मौनसून में न खाएं, क्योंकि इस मौसम में बैक्टीरिया जल्दी पनपता है.

– सब्जियों को पकाने से पहले अच्छी तरह धो लें. जरूरत पड़े तो थोड़े कुनकुने पानी में नमक डाल कर उन्हें धो लें.

– 7-8 घंटे जरूर सोएं.

– इस मौसम में कोई नई हौबी अपनाने की कोशिश करें.

– बाहर से घर आते ही मेडिकेटेड साबुन से हाथपैर धो कर अपनेआप को फ्रैश रखें. यह पर्सनल हाईजीन के लिए जरूरी है.

– इस मौसम में पैरों का खास ध्यान रखना पड़ता है, क्योंकि बारिश में बाहर का गंदा पानी पैरों की उंगलियों में इन्फैक्शन कर सकता है. पैर सूखे रहें, इस पर ध्यान दें. जरूरत पड़े तो बोरिक ऐसिड या पाउडर का छिड़काव पांवों में करें.

– अनावश्यक बारिश के पानी में भीगना मौसमी बीमारी की वजह बन सकता है. इस से बचें.

– मौसम भले ही खराब हो, पर उस समय अच्छा फील करने के लिए मनपसंद संगीत का आनंद लें, किताबें पढ़ें और खुश रहने की कोशिश करें. इस से मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकती हैं.

आज से ही इन बातों पर अमल करें और फुहारों के मौसम में भी चुस्तदुरुस्त रहें.