भारत के महान टैनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस ने पिछले दिनों कहा कि वे पेले और मोहम्मद अली की तरह शीर्ष पर रहते हुए टैनिस को अलविदा कहना चाहते हैं. और वर्ष 2016 में रियो ओलिंपिक में पदक जीतने के बाद यह मौका मिल सकता है.

इन दिनों लिएंडर पेस निजी जीवन में बहुत कठिन दौर से गुजरे हैं और उन का टैनिस को अलविदा कहने का खयाल भी शायद इस से जुड़ा हुआ है. बेटी की परवरिश की जिम्मेदारी के लिए उन्हें अपनी पार्टनर रिया पिल्लई से कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी. इस पारिवारिक उलझन में इस का असर उन के प्रदर्शन में भी पड़ना लाजिमी है.

41 वर्षीय पेस ओलिंपिक कांस्य और 14 ग्रैंडस्लैम खिताब जीत चुके हैं. उन का मानना है कि मैं इंसान हूं और मैं वही भावनाएं महसूस करता हूं जो कोई अन्य कठिन समय के दौरान महसूस करता है. जब उन से पूछा गया कि उन की 8 वर्षीय बेटी अयाना इस बात को समझती है कि उस के मातापिता के बीच क्या चल रहा है तो पेस ने इस पर ज्यादा कुछ नहीं कहा.

लेकिन साफ प्रतीत हो रहा था कि वे दुखी हैं और एक पिता का दर्द क्या होता है उन के चेहरे पर साफ दिखाई पड़ रहा था. उन्होंने इस बात को भी स्वीकार किया कि वे एक जनूनी पिता हैं और टैनिस के प्रति भी वे काफी जनूनी हैं. उन का मानना है कि मेरे पास बेटी है जो बहुत मजबूत है और उस का मुझ से बहुत ईमानदारी भरा संबंध है. जैसेजैसे वह बड़ी हो रही है उसे मार्गदर्शन की जरूरत है. लिएंडर पेस पिता की जिम्मेदारियों को अच्छी तरह समझते हैं. लेकिन मेहनत से हासिल खेल की दुनिया में कमाया नाम वे गिराना नहीं चाहते. स्थितियां जो भी रहें फिलहाल रियो ओलिंपिक के लिए उन से काफी उम्मीदें हैं.