सरिता विशेष

23 जुलाई से 3 अगस्त तक चलने वाले ग्लास्गो में 20वें कौमनवैल्थ गेम्स में भारत की ओर से कुल 224 खिलाडि़यों को परचम लहराने का मौका है. इस से पूर्व दिल्ली में कौमनवैल्थ गेम्स में 38 गोल्ड के साथ मैडल्स की सेंचुरी लगा कर भारतीय दल अपना दमखम दिखा चुका है. इस बार 7 पैरा ऐथलीट्स को भी भारतीय दल में शामिल किया गया है जो साइकिलिंग, लौन बौल्स, वेटलिफ्टिंग, एथलेटिक्स सहित तैराकी की 22 कैटेगरीज में हिस्सा लेंगे. रग्बी सेवंस, नैटबौल और ट्रायथलान को छोड़ कर भारतीय खिलाड़ी बाकी 14 खेलों की अलगअलग प्रतिस्पर्धाओं में हिस्सा लेंगे.

सरदार सिंह की अगुआई में पुरुष हौकी टीम से भी इस बार काफी उम्मीदें हैं. प्रमुख कोच टेरी वौल्श ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि वे टूर्नामैंट का अंत अच्छे प्रदर्शन के साथ करेंगे. टीम के कप्तान सरदार सिंह का कहना है कि पिछले कुछ हफ्तों में हम ने कड़ी मेहनत की है इसलिए उम्मीद है कि हम बेहतर प्रदर्शन करेंगे और हमारे अंदर इतनी क्षमता है कि हम किसी भी टीम को मुश्किल में डाल सकते हैं.

बहरहाल, भारतीय खिलाड़ी पूरे आत्मविश्वास के साथ मैदान में उतरेंगे. उन पर दबाव भी रहेगा क्योंकि वर्ष 2010 के कौमनवैल्थ गेम्स में भारतीय खिलाडि़यों का प्रदर्शन अच्छा रहा था. खिलाड़ी भी उम्मीद यही कर रहे हैं कि ज्यादा से ज्यादा मैडल मिलें ताकि भारत का नाम दुनिया के सामने गर्व से रखा जा सके.