सरिता विशेष

इंडियन प्रीमियर लीग 10 में डेविड वॉर्नर शानदार बल्लेबाजी कर रहे हैं. वॉर्नर के बल्ले ने सभी गेंदबाजों की नींद उड़ा रखी है. वॉर्नर आईपीएल में ना सिर्फ क्रिकेट के क्लासिक शॉट्स अच्छे खेलते हैं बल्कि इसके साथ-साथ वो स्विच हिट, रिवर्स स्वीप जैसे शॉट भी इतने बेहतरीन अंदाज से खेलते हैं कि विरोधी गेंदबाज परेशान हो जाता है और उसे समझ नहीं आता कि वॉर्नर के लिए फील्डिंग कैसी लगाई जाए.

आईपीएल के शुरुआती मैचों में डेविड वॉर्नर ने काफी संभलकर बल्लेबाजी की, उनका स्ट्राइक रेट इतना ज्यादा नहीं रहा लेकिन जैसे-जैसे टूर्नामेंट आगे बढ़ा सनराइजर्स हैदराबाद का ये कप्तान आक्रामक होता चला गया.

वैसे तो क्रिकेट की दुनिया में कई ऐसे बल्लेबाज हैं जो रिवर्स स्वीप और स्विच हिट लगा लेते हैं लेकिन वॉर्नर से अच्छा इन शॉटों को और कोई बल्लेबाज नहीं खेलता. इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि बाएं हाथ से बल्लेबाजी करने वाले वॉर्नर दाएं हाथ से भी बल्लेबाजी कर लेते हैं.

जी हां जब वॉर्नर ने 13 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया था तो उस दौरान उनके कोच ने उन्हें दाएं हाथ से बल्लेबाजी करने की सलाह दी थी क्योंकि वो बाएं हाथ से बल्लेबाजी करते हुए ज्यादातर शॉट्स हवा में खेलते थें. वॉर्नर ने कोच की सलाह पर एक सीजन तक दाएं हाथ से ही बल्लेबाजी की लेकिन इसके बाद वॉर्नर की मां ने उन्हें दोबारा बाएं हाथ से बल्लेबाजी करने को कहा जिसके बाद वॉर्नर ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.

वॉर्नर के अंदर इतनी गजब की प्रतिभा थी कि वो बिना कोई फर्स्ट क्लास मैच खेले सीधे ऑस्ट्रेलियाई टीम में सेलेक्ट हुए जो अब तक ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इतिहास का रिकॉर्ड है. वॉर्नर आज दुनिया के सबसे खतरनाकर टेस्ट वनडे और टी-20 बल्लेबाज हैं. ऐसी कोई जगह नहीं, ऐसा कोई टूर्नामेंट नहीं जहां उनके बल्ले से रन नहीं निकलते. अब आईपीएल में भी वॉर्नर ऐसा ही कर रहे हैं. सनराइजर्स हैदराबाद के लिए वो ताबड़तोड़ रन बनाकर उसे मैच जिता रहे हैं.