इंग्लैंड क्रिकेट टीम के हरफनमौला खिलाड़ी जफर अंसारी ने वकालत में करियर बनाने के लिए 25 साल की उम्र में ही क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास की घोषणा कर दी है. अंसारी के इंग्लिश काउंटी क्लब सर्रे ने इसकी घोषणा की.

अंसारी ने पिछले साल अक्टूबर में बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था. बाएं हाथ के स्पिनर जफर पिछले साल पांच टेस्ट मैचों के लिए भारत आने वाली इंग्लैंड टीम का हिस्सा थे. उन्होंने भारत के खिलाफ दो टेस्ट मैच भी खेले. प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उन्होंने कुल 71 मैच खेले हैं जिनमें उन्होंने 128 विकेट लिए. अपने करियर में उन्होंने इंग्लैंड के लिए तीन टेस्ट और एक वनडे खेला.

जफर अंसारी ने कहा, ‘सात साल तक प्रोफेशनल क्रिकेटर के तौर पर खेलने और कुल मिलाकर करीब दो दशक तक क्रिकेट खेलने के बाद मैंने अपने क्रिकेट करियर को खत्म करने का फैसला किया है. यह एक बहुत मुश्किल फैसला है और मैंने इसे काफी सोच समझकर लिया है.’

अंसारी ने 2015 में आयरलैंड के खिलाफ इंग्लैड की वनडे टीम में डेब्यू किया था. वो आठ साल की उम्र से ही सर्रे काउंटी क्लब के लिए खेल रहे हैं.

जफर अंसारी ने कहा, मैंने सर्रे के लिए 8 साल की उम्र से खेलना शुरू किया और क्लब तब से मेरे जीवन का अहम हिस्सा है. सर्रे ने हमेशा मुझे पूरी तरह सपॉर्ट किया है. इतने सालों तक मेरा समर्थन करने के लिए मैं हमेशा क्लब का आभारी रहूंगा. मैं बड़े दुख के साथ अलविदा कह रहा हूं.'

आगे उन्होंने कहा, “इस समय संन्यास की घोषणा करना हैरानी की बात है. मैंने हमेशा से क्रिकेट को अपने जीवन का एक हिस्सा बनाए रखा है, लेकिन मुझे अपनी कुछ और महत्वकांक्षाओं को भी पूरा करना है. मैं अपने दूसरे करियर को आगे बढ़ाना चाहता हूं, शायद वकालत में. इसके लिए अभी से शुरुआत करनी होगी.”

अंसारी ने कैंब्रिज विश्वविद्यालय से राजनीति शास्त्र, दर्शनशास्त्र और समाजशास्त्र में ऑनर्स के साथ स्नातक डिग्रियां ली हैं और रॉयल होलोवे कॉलेज से इतिहास में मास्टर की पढ़ाई कर रखी है.

सर्रे काउंटी टीम के निदेशक एलेक स्टुअर्ट ने कहा, “अंसारी एक अच्छे खिलाड़ी हैं और उनके इस फैसले की हम सबको इज्जत करनी चाहिए.” जफर के संन्यास के बाद केविन पीटरसन ने ट्वीट करके उन्हें उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी है.