सरिता विशेष

सरकार की कोशिश बीमा कंपनियों के उत्पादों को जनोपयोगी बनाने की है और इस के लिए भारतीय बीमा नियामक विकास प्राधिकरण यानी इरडा ने कमर कस ली है. इरडा ने बीमा कंपनियों को सख्ती से नियमों का अनुपालन करने को कहा है और इस के लिए ताजा दिशानिर्देश जारी किए हैं जिस के कारण इस साल बीमा क्षेत्र के बाजार को लुभाने के लिए 400 से अधिक बीमा उत्पाद बाजार में आएंगे.

नए साल की शुरुआत में ही कई उत्पाद लौंच किए जा चुके हैं. जीवन बीमा निगम यानी एलआईसी जैसी बड़ी कंपनी नए दिशानिर्देश के तहत जीवन सरल, जीवन आनंद, जीवन मधुर जैसी योजनाओं को वापस ले कर उन की जगह कई नई योजनाएं लौंच कर चुकी है.

आईसीआईसीआई पू्रडैंशियल, एचडीएफसी लाइफ, मैक्स लाइफ, रिलायंस लाइफ, पीएनबी मेटलाइफ जैसी कंपनियां भी बाजार में नए उत्पाद उतारने की घोषणा कर चुकी हैं. बीमा कंपनियोें के उत्पाद विश्वसनीय और ग्राहक के अनुकूल हों तभी बड़ी संख्या में लोगों को बीमा उत्पादों से जोड़ा जा सकता है. हर व्यक्ति का भविष्य सुरक्षित रहे, इस के लिए बीमा कंपनियों में ईमानदारी व उन के उत्पाद आमजन के अनुकूल होने चाहिए और इस काम में इरडा महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकता है.