आजकल नोटबंदी के दौर में उपजी नकदी की कमी से निबटने के लिए गांवदेहात सामान के बदले सामान लेनेदेने के पुराने दौर में वापस चले गए हैं. इस से किसानों को नुकसान हो रहा है, क्योंकि उन की उपज औनेपौने दामों पर बिक रही है. वैसे, विनिमय एक सिद्धांत है. जिस में किसी चीज को खरीदने के लिए पैसे की जगह पर दूसरी चीज ही देनी होती है. गांव में चीनी, नमक, मसाले और जरूरत की दूसरी चीजों को खरीदने के लिए किसान धान को देता है, तो दुकानदार धान को नकद पैसे की तरह से लेता है. इस को ऐसे समझा जा सकता?है कि जैसे चीनी की कीमत 40 रुपए किलोग्राम है और धान की कीमत 10 रुपए किलोग्राम तो 1 किलोग्राम चीनी की खरीद के लिए किसान को 4 किलोग्राम धान देना पड़ रहा?है.

परेशानी की बात यह है कि दुकानदार धान की कीमत बाजार में चल रही कीमत से कम लगाते हैं. ऐसे में दुकानदार को दोहरा मुनाफा हो रहा है. वह चीनी पर फायदा तो कमा ही रहा है, कम कीमत पर धान ले कर भी उस पर अलग से मुनाफा पा रहा?है. किसानों का जो धान बाजार में 12 से 15 रुपए प्रति किलोग्राम बिक रहा है, वह दुकानदार 10 से 12 रुपए में ही खरीद रहा है. किसान बाजार में धान ले कर 1-2 महीने के बाद पैसा देने की बात कर रहा है. ऐसे में किसान अपनी जरूरतों के लिए धान को दे कर दूसरे सामान ले रहा है.

हो रहा नुकसान

गांव के लोग अपनी छोटीछोटी जरूरतों के लिए वस्तु विनिमय का सहारा तो पहले भी लेते थे, पर अब खाद, बीज और दूसरी खरीदारी के लिए भी ‘वस्तु विनिमय’ का सहारा लेने लगे?हैं. गांव के आसपास लगने वाले बाजारों को देखें तो वहां पर लगे आनाज के ढेर देख कर पता चलता है कि लोग किस तरह से नकदी न होने से परेशान हैं और अपने धान को औनेपौने दाम पर बेच रहे हैं. लखनऊ के इटौंजा गांव के रहने वाले दिवाकर कहते हैं, ‘धान को बेच कर पैसा नकद नहीं मिल रहा. ऐसे में हम इसे बेच कर जरूरत का दूसरा सामान ले रहे हैं.’ इसी गांव के रहने वाले सुरेश कहते हैं, ‘धान बेच कर हम अभी काम चला ले रहे हैं. धान के बिकने के बाद से हम आगे कैसे गुजरबसर करेंगे, पता नहीं. अब हमें शहरों में काम नहीं मिल रहा. अगर ऐसे ही हालात आगे चलते रहे और मजदूरी नहीं मिली, तो गुजरबसर कर पाना मुमकिन नहीं होगा.’

बेकार हो रही फसल

गांवों में नकदी की कमी के चलते किसान परेशान हैं. वे अपने गुस्से का इजहार करने के लिए उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ पहुंच गए. भारतीय किसान यूनियन के बैनर के तले किसान विधानसभा भवन के सामने पहुंच गए और सैकड़ों क्विंटल आलू और धान की फसल राहगीरों को बांटने लगे. भारतीय किसान यूनियन के मंडल अध्यक्ष हरिनाम सिंह वर्मा ने बताया कि वे किसानों की समस्याओं को ले कर विधानसभा भवन पर प्रदर्शन को ले कर जिला प्रशासन से इजाजत मांग रहे थे, पर जिला प्रशासन कोई बात सुनने को तैयार नहीं था. हरिनाम सिंह वर्मा ने बताया कि न तो किसानों से धान खरीदा जा रहा है, न ही रबी की बोआई के लिए नहरों में पानी है. खादबीज मुहैया नहीं हैं. आलू का दाम 200 रुपए प्रति क्विंटल है, जबकि किसानों को?स्टोर मालिकों को 220 रुपए प्रति क्विंटल किराया देना पड़ रहा है. ऐसे में किसान न तो रबी की बोआई कर पा रहे हैं, न ही अपना धानआलू बेच पा रहे?हैं.

नहीं मिल रहा बैंकों से पैसा

यह हाल केवल लखनऊ के किसानों का ही नहीं है, बल्कि देशभर के किसानों का यही हाल है. हर जगह किसान बेहाल हैं. जिन किसानों का बैंक में अपना पैसा जमा है, उन किसानों को भी पैसा नहीं मिल रहा है. किसान रातरात भर जागजाग कर बैंकों के सामने लाइनें लगाए हैं. इस के बाद भी उन को जरूरत भर का पैसा नहीं मिल रहा है. शादी और दूसरे कामों के लिए किसान अपने पैसों के होते हुए भी खर्च के लिए पैसा नहीं निकाल पा रहे हैं. ऐसे में किसान परेशान हो रहे हैं.