चना सेहत के लिहाज से सब से उम्दा अनाज है. यही कारण है कि मिठाइयों में चने के बेसन का सब से ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है. लड्डू और बरफी के अलावा और भी कई मिठाइयां इस से तैयार की जाती हैं. अब बेसन व चीनी के साथ कुछ मेवे मिला कर बेसनमेवा बरफी भी तैयार होने लगी है. बेसनमेवा बरफी की कीमत ज्यादा होती है, जबकि बेसन और चीनी से बनने वाली मिठाइयों की कीमत कम होती है. बेसन का मिठाइयों में सब से ज्यादा इस्तेमाल इसलिए होता है, क्योंकि इस से बनने वाली मिठाइयां ज्यादा दिनों तक चलती हैं. बेसन, चीनी और घी से तैयार होने वाली मिठाइयों में सब से अधिक स्वाद आता है. गणेश मिष्ठान के मोहित गुप्ता कहते हैं, ‘पहले बेसन से तैयार मिठाइयों को सस्ती मिठाई माना जाता था. अब मेवा मिलने के बाद बेसन की मिठाइयां भी महंगी हो गई हैं. ये भी खास मिठाइयों में गिनी जाने लगी हैं.’

गांवों के बाजारों में बेसन से बनने वाली मिठाइयां खूब मिलती हैं. मोहित गुप्ता कहते हैं, ‘खोए से तैयार होने वाली मिठाइयों में मिलावट का अंदेशा बना रहता है. कई बार खोया ही मिलावटी होता है. ऐसे में बेसन से तैयार मिठाई शुद्ध होती है. इस में खराब होने वाली चीजें नहीं मिली होती हैं. लिहाजा यह स्वास्थ्य के लिए भी अच्छी मानी जाती है.’ लड्डू के बाद बेसन की बरफी काफी चलन में है. इसे बनाना बेहद आसान होता है, लिहाजा लोग बेसन की बरफी बनाने का कारोबार भी कर सकते हैं. शहरों से ले कर गांवों तक यह खूब चलन में है. बेसन की बरफी चौकोर, तिकोनी व अलगअलग आकारों की बनती है.

बनाने का तरीका

बेसन की बरफी बनाने के लिए 250 ग्राम बेसन, 250 ग्राम चीनी, 200 ग्राम घी, 2 बड़े चम्मच दूध, 2 बड़े चम्मच काजू (पिसे हुए), 1 चम्मच पिस्ता और 4 छोटी इलायची (दाने निकाल लें) सामग्री के रूप में लें. बरफी बनाने के लिए बेसन को प्लेट में रखें. दूध डाल कर मिश्रण तैयार करें. मिश्रण को ठीक तरह से छानें. बेसन का दाना तैयार हो जाएगा. काजू, पिस्ता और इलायची को तैयार रखें. कड़ाही में घी डाल कर गरम करें. घी में बेसन के तैयार दाने डालें. धीरेधीरे भूनें. जब बेसन से घी अलग होने लगे तो भूनना बंद कर के बेसन को किसी प्लेट में निकाल लें. अब कड़ाही में चीनी और आधा कप पानी डाल कर 2 तार की चाशनी पकाएं. चाशनी बनने के बाद भुना बेसन डाल कर मिलाएं. अब काजू और इलायची के दाने डाल कर मिलाएं.

किसी प्लेट में घी लगा कर चिकना करें और बरफी का तैयार मिश्रण उस में डाल कर ठीक से फैला दें. मिश्रण के ऊपर कटे पिस्ते लगा कर चम्मच से दबा दें. कुछ देर में बरफी जम जाएगी. जमी हुई बरफी को मनपसंद आकार में काटें. बरफी को हमेशा एयरटाइट डब्बे में रखें. इस से वह लंबे समय तक खराब नहीं होगी. मिठाइयों की शौकीन अनामिका मित्रा कहती हैं, ‘बेसन की बरफी बना कर घर में आने वाले मेहमानों को खिलाई जा सकती है. इस से शुद्ध मिठाई बाजार में नहीं मिलेगी. इसे बनाना भी सरल होता है. इसे सभी लोग पसंद करते हैं.’