आज के समय में स्ट्रैस यानी तनाव जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुका है. एक अमेरिकी वैज्ञानिक के मुताबिक स्ट्रैस मस्तिष्क में दबी हर प्रेरणा मांसपेशियों और त्वचा में दबाव पैदा करती है. जब तक इसे किसी क्रिया से निकाला नहीं जाता, मांसपेशियों में स्ट्रैस बना रहता है. इस स्ट्रैस से थकान और डिप्रैशन जन्म लेता है जो धीरेधीरे किसी गंभीर बीमारी का रूप ग्रहण कर लेता है. फिर क्यों न इस स्ट्रैस से बचा जाए और खुशहाल जिंदगी जी जाए.

दिल खोल कर हंसें

मत भूलिए कि हंसी कुदरत का अनुपम उपहार है. दिल खोल कर हंसना रूप को निखारता है वहीं यह कई रोगों की अचूक दवा भी है. सुबह का स्वागत खुद को आईने में मुसकराते हुए देख कर करें. पूरा दिन खिलाखिला गुजरेगा. फिर हंसी पर किसी प्रकार का टैक्स तो लगता नहीं, इसलिए बेझिझक मुसकराहटों का आदानप्रदान करें. मशहूर डा. ली बर्क के अनुसार, हंसी शरीर के इलाज का प्राकृतिक व मान्य तरीका है.

गिनिए हंसी के फायदे

हंसी ह्यूमन सिस्टम को सक्रिय करती है. इस से प्राकृतिक किलर सैल्स में वृद्धि होती है जो वायरस से होने वाले रोगों और ट्यूमर सैल्स को नष्ट करते हैं. हंसी दिल की सब से अच्छी ऐक्सरसाइज है. यह टी सेल्स की संख्या में बढ़ोतरी करती है. इस से एंटीबौडी इम्यूनोग्लोब्यूलिन-ए की मात्रा बढ़ती है. यह सांस की नली में होने वाले इन्फैक्शन से बचाव करती है. हंसने से तनाव पैदा करने वाले हारमोंस का लेवल कम होता है. खुल कर हंसना चेहरे और गले की मांसपेशियों के लिए शानदार ऐक्सरसाइज है.

कैफीन को कहें बाय

आमतौर पर लोग स्ट्रैस कम करने के लिए चाय, कौफी, चौकलेट या सौफ्टडिं्रक वगैरह लेते हैं. इन में ड्रग्स की तरह तेजी से असर करने वाले तत्त्व होते हैं. ये तत्त्व शरीर की प्रतिरोधक क्षमता कम कर के स्ट्रैस पैदा करते हैं. कहावत है, जहर को जहर मारता है. कैफीन इसी सिद्धांत पर काम कर के स्ट्रैस कम करती है. यह शरीर में कुछ विषैले तत्त्व पैदा करती है जो फ्री रैडिकल्स पैदा करते हैं. ये मस्तिष्क में तंतुओं की संवेदनशीलता को कम करते हैं. इसी कारण स्ट्रैस कम होने का झूठा एहसास होता है और व्यक्ति दिनप्रतिदिन इस की मात्रा बढ़ाने के लिए मजबूर होता जाता है.

कैफीनरहित दिन बिता कर आप इस से होने वाले स्ट्रैस से छुटकारा पा सकते हैं. आप बदलाव महसूस करेंगे. उत्साह, ऊर्जा, अच्छी नींद, कम हार्टबर्न और मांसपेशियों को लचीला पाएंगे. अगर आप अचानक कैफीन छोड़ते हैं तो माइग्रेन जैसे तेज दर्द के शिकार हो सकते हैं. इसलिए कैफीन से छुटकारा पाने का सब से आसान तरीका अपने डेली रुटीन से प्रतिदिन एक प्याला कौफी कम करना है.

पैदल चलें

पैदल चलना सब से अच्छी ऐक्सरसाइज है. खाने से पहले तेजतेज चलना आंतों को गति देता है जिस से पाचन शक्ति बढ़ जाती है. खाने के बाद टहलने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है. पैदल चलते समय ली जाने वाली गहरी सांसें फेफड़ों की क्षमता बढ़ाती हैं और खून का प्रवाह भी नियंत्रित करती हैं. नंगे पैर चलने से एक्यूप्रैशर जैसा लाभ मिलता है.

स्ट्रैस एड्रीनल हारमोन के तीखे हमले से पैदा होता है. यह दिल की धड़कन और ब्लडप्रैशर को बढ़ा देता है. ध्यान करना एड्रीनल हारमोन की गति को नियंत्रित कर के स्ट्रैस शिथिल करता है. ध्यान करने का मतलब शरीर और खुद के प्रति जागरूक होना है. अगर इसे बढ़ा लिया जाए तो उन समस्याओं के समाधान खुद ही मिलने शुरू हो जाते हैं जिन के कारण स्ट्रैस पैदा होता है. ऐक्सरसाइज और ध्यान को रुटीन में शामिल कर के तनमन को चुस्त बनाया जा सकता है.

आज की भागदौड़ वाली जिंदगी में व्यक्ति अपनी क्षमता का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल कर रहा है. शारीरिक गतिविधियों के कारण घुटनों में लैक्टिक एसिड पैदा होता है. जब शरीर में इस की मात्रा बहुत बढ़ जाती है तो हम थकान महसूस करते हैं.

दरअसल, इंटरल्यूकिन-6 नामक अणु मस्तिष्क को धीमा चलने का संकेत भेजते हैं. इस का अर्थ होता है कि अब मांसपेशियों से ज्यादा काम नहीं लिया जा सकता. लंबे समय तक चली शारीरिक गतिविधियों के बाद इंटरल्यूकिन-6 का लेवल सामान्य से 60 से 100 गुना तक बढ़ जाता है. तब हमें आराम की जरूरत महसूस होती है.

नींद है जरूरी

सोना स्ट्रैस दूर करने का सब से आसान तरीका है. 8 घंटे की नींद फिर से काम करने के लिए एनर्जी देती है. इसलिए काम में व्यस्त क्षणों के बीच थोड़ा सा ब्रेक ले कर मीठी झपकी लेनी चाहिए ताकि तनमन तरोताजा हो कर फिर काम करने के लिए तैयार हो जाए. कम से कम 5 और ज्यादा से ज्यादा 20 मिनट तक ली गई झपकी जादू सा असर करती है. यह काम के उबाऊ क्षणों के बीच आप के तनमन को फूलों पर बिखरी ओस जैसी ताजगी से भर देती है.

याद रखें, हम सभी में ऊर्जा की लहरें कुलांचें भरती हैं. उन्हें बहने का सही रास्ता दीजिए. गार्डनिंग, बुक्स रीडिंग, स्विमिंग, म्यूजिक सुनना, पेंटिंग, ड्राइविंग जैसे अपने मनपसंद शौक को कुछ समय दे कर आप स्ट्रैस से कोसों दूर रह सकते हैं.