बड़ी बहन की शादी का मौका हो तो घर में खुशी का माहौल होता ही है. ऐसे में फुल ऐंजौय करने का मौका भी मिलता है, लेकिन अगर हम सिर्फ ऐंजौय करने के चक्कर में सारी जिम्मेदारियों को पेरैंट्स के सिर पर डाल कर खुद फ्री हो जाएं तो यह ठीक नहीं है, क्योंकि इस से जहां उन का स्ट्रैस बढ़ेगा वहीं अकेले होने के कारण वे चीजों को ज्यादा अच्छी तरह से हैंडिल नहीं कर पाएंगे और कोईर् न कोई गलती कर ही जाएंगे, जिस से सारी मेहनत पर पानी फिर जाएगा. ऐसे में घर में छोटे होने के बावजूद आप की जिम्मेदारी बनती है कि अपने पेरैंट्स के साथ हाथ बंटाएं ताकि इस बेहतरीन माहौल का सभी मजा ले पाएं औैर किसी को शिकायत का मौका भी न मिले.

आप निम्न चीजों में अपना रोल अदा कर सकते हैं :

शौपिंग में करें हैल्प

चाहे रिश्तेदारों के देनेलेने के कपड़े हों या फिर खुद बहन के लिए शौपिंग करनी हो, आप पेरैंट्स के इस काम को हलका कर सकते हैं, जैसे अगर पापा किसी काम में बिजी हैं और वे मार्केट जाने के लिए समय नहीं निकाल पा रहे है, तो आप मम्मी व बहन को शौपिंग कराने के लिए ले जाएं ताकि पापा भी अपना काम कर लें और शौपिंग का काम भी निबट सके.

सामान की पैकिंग का जिम्मा लें खुद पर

मैरिज में दिया जाने वाला सामान तो खरीद लिया है, लेकिन अब उसे पैक करने की जिम्मेदारी भी है. बाहर से पैकिंग करवाना काफी महंगा पड़ता है. इसलिए अगर आप सब भाईबहन मिल कर इस काम को कर लें तो न केवल यह काम आसानी से होगा बल्कि सस्ता भी पड़ेगा.

वैडिंग कार्ड के लिए करें मार्केट रिसर्च

वैडिंग कार्ड का और्डर देने से पहले मार्केट में रेट पता कर लें कि सिंपल से ले कर क्रिएटिव कार्ड की क्या कौस्ट है और कौन सा दुकानदार ज्यादा डिस्काउंट दे रहा है. इस से आप के पापा पर सिर्फ और्डर देने का काम रह जाएगा. हो सके तो जिन फ्रैंड्स के घर अभी हाल में ही शादी हुई है, उन से भी आप एक अंदाजा ले सकते हैं.

मेहमानों के रहने का बंदोबस्त

अगर आप के घर में मेहमानों को ठहराने के लिए पर्याप्त स्पेस नहीं है, तो आप को उन के रहने का बंदोबस्त करना पड़ेगा, इस के लिए आप अपने पापा की हैल्प यह बता कर कर सकते हैं कि पापा हमारे एरिया में फलांफलां मकान खाली हैं, हम उन के मालिकों से इन्हें किराए पर लेने की बात कर सकते हैं. आप अपने फ्रैंड्स से भी रिक्वैस्ट कर सकते हैं कि क्या उन के खाली फ्लोर को 1-2 दिन के लिए हम इस्तेमाल कर सकते हैं. अगर वे इस में हामी भर दें तो आप के पापा का काम काफी आसान हो जाएगा.

संगीत नाइट का अरेंजमैंट करें

बहन के संगीत प्रोग्राम में जान डालने के लिए आप पहले से ही बहन के फेवरिट गानों के साथसाथ हिट सौंग्स को भी डाउनलोड कर के पैनड्राइव में सेव कर लें, साथ ही म्यूजिक प्लेयर का भी बंदोबस्त कर के रखें ताकि ऐनवक्त पर कोई प्रौब्लम न हो. अगर डीजे वाला धोखा दे जाए तो आप का अपना अरेंजमैंट संगीत की रात का मजा खराब नहीं होने देगा.

वैन्यू के बंदोबस्त की देखरेख

वैन्यू बुक कराने की जिम्मेदारी तो पापा को ही बखूबी निभाने दें, क्योंकि बुकिंग में जरा सी गड़बड़ी होने पर काफी परेशानी हो सकती है. लेकिन आप यहां इस तरह अपनी जिम्मेदारी निभा सकते हैं कि मैरिज से एक दिन पहले जिस से वैन्यू बुक कराया है उसे कौल कर के रिमाइंड करवा सकते हैं औैर मैरिज वाले दिन वहां जा कर जायजा लें कि सबकुछ ठीक चल रहा है न.

बहन की ख्वाहिशों को करें सपोर्ट

इस दिन को ले कर हर लड़केलड़की के मन में कई तरह की ख्वाहिशें होती हैं, लेकिन घर के रीतिरिवाजों के कारण उन्हें अपनी इच्छा को दबाना पड़ता है. ऐसे में आप अपनी बहन की हर जायज ख्वाहिश को सपोर्ट करें, जैसे अगर आप की फैमिली में चूड़ा पहनने का रिवाज नहीं है, लेकिन बहन पहनना चाहती है तो आप इस के लिए घर के बड़ों को राजी करें कि इस से किसी का कोई नुकसान नहीं होने वाला बल्कि समय के साथ खुद में बदलाव लाना जरूरी है. इस से वे आप की बात को जरूर मानेंगे औैर बहन के चेहरे पर भी खुशी आएगी.

बैंक के कार्यों में करें हैल्प

अगर आप के पापा को ईबैंकिंग की नौलेज नहीं है और इस चक्कर में उन का काफी समय बरबाद हो रहा है तो बैंक के कार्यों को निबटाने में आप उन की सहायता कर सकते हैं. यहां तक कि एटीएम से पैसा निकालने में भी उन की हैल्प करें.

खुद के पास भी रखें थोड़ा पैसा

घर में शादी का माहौल हो, ऐसे में हर छोटीछोटी चीज के लिए पापा को डिस्टर्ब करते रहने से काम नहीं बनने वाला. इसलिए आप पहले से ही पापा से 5-6 हजार रुपए ले कर रखें ताकि अगर ऐनवक्त पर कोई चीज खरीदनी पड़ जाए या बहन को ही कुछ मंगाना पड़ जाए तो इस के लिए आप को पापा या मम्मी का इंतजार न करना पड़े बल्कि आप खुद ही सब आसानी से हैंडिल कर लें. इस से आप छोटी उम्र से ही चीजों को हैंडिल करना सीख जाएंगे.

बहन का रखें खयाल

नए परिवार में जाने के डर से अगर  बहन खानापीना छोड़ देगी तो इस से वे इस मूवमैंट को ऐंजौय भी नहीं कर पाएगी औैर चक्कर वगैरा आने का डर भी बना रहेगा. इसलिए आप उस के खानेपीने का खयाल रखें, समय पर उसे जूस वगैरा देते रहें. साथ ही मम्मीपापा की भी प्रौपर केयर करें, तभी आप इस जिम्मेदारी को अच्छे से निभा पाएंगे.

बरातियों के वैलकम में न छोड़ें कमी

पापा को पहले ही कह दें कि आप चाचा वगैरा के साथ मेन वैन्यू पर जिम्मेदारी संभालें और हम कजिंस के साथ मिल कर रीअसैंबल पौइंट पर. इस से काम बंट जाएगा. ध्यान रखें बरातियों के वैलकम में कमी न रहने पाए. साथ ही बहन के फ्रैंड्स को भी पूरा ऐंटरटेन करें. यहां तक कि उन्हें छोड़ने या फिर अपने यहां ठहराने का बंदोबस्त करें.

अपनी जिम्मेदारियों को निभाने के बीच आप को इस बात का भी ध्यान रखना होगा कि हर काम बजट में हो. इस तरह आप छोटे होते हुए भी बड़ों की काफी मदद कर पाएंगे.