फिल्म समीक्षा

हाफ गर्ल फ्रेंड : कमजोर पटकथा व निर्देशन
अपने हर उपन्यास पर बनी सफल फिल्मों से निर्माताओं को कमाई करते देख इस बार इस फिल्म का सह निर्माण कर चेतन भगत अपना हाथ जला बैठे हैं.