लड़कियां आमतौर पर अब नहीं चाहतीं कि उन्हें मोरैलिटी का उपदेश दिया जाए या टोकाटाकी की जाए. लेकिन कुछ मामले ऐसे होते हैं जो दर्शाते हैं कि लड़कियों को अपनी इज्जत नहीं, तो कम से कम हाथपैर बचाने के लिए सही हिफाजत करनी व रखनी चाहिए. दिल्ली के बेगमपुरा इलाके में एक रैस्तरां में शैफ का काम कर रही लड़की ने अपने को कुछ ज्यादा बोल्ड समझ लिया और नतीजा हुआ कि उसे 4-मंजिली बिल्डिंग से धक्का दे दिया गया.

लगता है वह लड़की कुछ ज्यादा घुलीमिली थी और तभी उस ने अपने 2 लड़के मित्रों और एक सहेली के साथ एक ही मोटरसाइकिल पर एक मौल में जाने का प्रोग्राम बना लिया. एक मोटरसाइकिल पर 4 में से जब वे लड़कियां हों तो उन की दशा क्या होगी, समझा जा सकता है. पर, यदि वह खुश थी तो साफ है कि उस की रजामंदी थी.

जब पुलिस वालों ने रोक कर 4 के एकसाथ चलने पर मोटरसाइकिल जब्त कर ली तो चारों ने एक आटोरिक्शा लिया. इस के बाद रास्ते में 2 को आटो में छोड़ कर एक लड़के  के साथ लड़की एक बन रहे मकान की चौथी मंजिल पर चली गई, जहां कोई मौजूद न था. वहां जो हुआ उसे छोडि़ए, पर थोड़ी देर में बिना कपड़ों के उसे चौथी मंजिल से धक्का दे दिया गया. तारों से उलझती हुई वह लहूलुहान हो कर सड़क पर आ गिरी.

अपने शरीर पर हर लड़की का अपना अधिकार है. समाज को या दूसरों को बोलने का हक नहीं है. सैक्स करना भी उस का अपना फैसला है. यदि वह 3 के बीच चिपक कर उमसभरी गरमी में एक ही मोटरसाइकिल पर बैठी थी तो आनंद पाने की अपेक्षा उसे थी ही. अगर वह चौथी मंजिल तक अपने मित्र के साथ गई तो कोई जबरदस्ती तो नहीं थी. यह उस का हक है कि वह क्या करे.

पर ऐसे मामलों में दूसरों को यह बताने का अधिकार है कि सार्वजनिक स्थानों पर वह न करें जो खतरनाक भी हो सकता है और दुखदायी भी. सैक्स का आनंद लेना भी हो तो सही जगह चुनें. बनते मकान को किसी भी काम के लिए चुनना गलत है.

बात नैतिकता की नहीं, व्यावहारिकता की है, जीवन के भविष्य की है, ब्लैकमेल होने के अंदेशे की है और हाथपैर तुड़वाने की है. लड़की का कहना कि वह सिर्फ बातें करने के लिए लड़के के साथ गई थी या उस की मां से मिलने गई थी तो बनते मकान की 4 मंजिलें चढ़ना आसान तो नहीं है. वह भी रात के 10 बजे.

आजादी का हक हर लड़की को है पर उसे अपनी आजादी को सूझबूझ कर इस्तेमाल करना तो सीखना ही होगा. सामाजिक वर्जनाओं और दकियानूसीपन को छोड़ भी दें तो भी दरिंदों के हाथ में अपनी आजादी का समर्पण करने का समर्थन नहीं किया जा सकता. इस लड़की का, चौथी मंजिल से गिरी या गिराए जाने के बाद, अब क्या होगा, इस बारे में अभी नहीं कहा जा सकता पर सदमा तो रहेगा और जिस आजादी की वह सोच रही थी, वह महीनों सालों गायब हो सकती है, शारीरिक कारणों से और पुलिस केस बनने से.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं