सरिता विशेष

भारत माता की जय न बोलने वाले को देशद्रोही कहा जा सकता है, पर उसे नहीं जो खुलेआम कहती फिरे कि भारत को उन नागरिकों से मुक्त कराना है, जो तिलक नहीं लगाते, मंदिरों को चंदा नहीं देते, भगवा पहनने वालों के पैरों की धूल नहीं चाटते. यह किस तरह का देश है जो आज भी 15वीं सदी में जीने की कोशिश कर रहा है जब न बिजली थी, न किताबें थीं, न इतिहास था? थीं तो सिर्फ गपों से भरी धर्मगुरुओं की बेसिरपैर की बात साध्वी प्राची ने देश को मुसलिम मुक्त बनाने की बात खुलेआम कह दी और उस पर भड़काऊ भाषण देने का कोई मुकदमा नहीं चला. गाय की हत्या का नाम लेने वालों को मारने का इस देश में लाइसैंस है, पर जिंदा नागरिकों का सफाया करने की वकालत करने वालों को हार पहनाए जा रहे हैं. यह कौन सा न्याय है? यह कैसा कानून है?

देश को आज विकास की जरूरत है, पर वही पार्टी, जो विकास का नारा जापती है, देश को धर्म, जाति, उपजाति के नाम पर बांटने की खुली न सही छिपी बातें कर ले, तो कोई कुछ नहीं कहता. आज धर्म पर टिकी राजनीति ने देश के शहरों को ही नहीं, बल्कि गांवों तक को बांट दिया है. हर छोटीमोटी जाति अपना संगठन बना कर झंडा लहराती घूम रही है और कभी आरक्षण मांगती है, कभी अपने बनावटी देवता के मंदिर के लिए जगह मांगती है.इन्हीं में से एक रामवृक्ष को कोई और देवता याद नहीं आया तो उस ने सुभाषचंद्र बोस को नेता मान कर मथुरा की 280 एकड़ जमीन पर कब्जा कर शहर बसा डाला और उस की इतनी हिम्मत हो गई कि पुलिस से मोरचा ले लिया. ऐसा ही पहले एक रामपाल  ने हरियाणा में किया था.

इन की जड़ में साध्वी प्राची जैसों के बयान हैं. ये लोग कभी कहते हैं कि 5 बच्चे करो, 3 को हम हिंदू आतंकवादी बनाएंगे. कभी डराते हैं कि 20 साल में देश में मुसलिमों का राज हो जाएगा. ये कभी वर्षा के लिए साधुओं की ताकत की बात करते हैं, तो कभी गाय की हत्या करने के नाम पर 10-20 को मारपीट डालते हैं. इन्हें काबू में करने का कोई कानून नहीं है. भारत माता की जय न बोलने वाला, वंदे मातरम न गाने वाला देशद्रोही है. हार्दिक पटेल को 6 महीने से पकड़ रखा है, जबकि वह वही हक मांग रहा है, जो पहले बीसयों गुट मांगते रहे हैं. देशद्रोही तो असल में हर वह कट्टरपंथी है, जो समाज को 18वीं सदी में ले जाना चाहता है, जो उसे पूजापाठ, जाति, धर्म के गड्ढे में धकेलना चाहता है. देशद्रोही तो हर वह नेता है, जो वोट अपने काम पर नहीं, अपनी जाति पर मांगता है. देशद्रोही तो हर वह धन्ना सेठ है, जो बैंकों में जमा गरीबों के पैसा ले उड़ा है. पर इस देश को तो जयकार न करने वालों की पड़ी है. यह देश कछुए की चाल से ही बढ़ेगा, पक्का है.