सरिता विशेष

एचआईवी का संक्रमण आज भी देशभर के आम लोगों के लिए आफत है. बिना सावधानी बरते सैक्स करने से तो यह होता ही है, अस्पतालों में जहां लोग इलाज के लिए जाते हैं, वहां से भी एचआईवी ला सकते हैं. हमारे गांवों, देहातों, कसबों में सैक्स की खुली बिक्री होती रहती है और कंडोम खरीदना, हमेशा साथ रखना और जरूरत के समय बारबार बदलना एक आफत का काम है और जो जबरन और ज्यादा सैक्स के आदी हो चुके हैं, उन से तो यह उम्मीद करना बेकार है.

यह आदमी से औरत में, औरत से बच्चों और बच्चों से दूसरों तक हो सकता है. कई छोटे बच्चों को यदि एक ही सिरिंज से इंजैक्शन दिया जाए तो बिना किसी अपने दोष के वे एचआईवी फैलाने का जरीया बन सकते हैं. लखनऊ के उन्नाव जिले में जिस शातिर नीमहकीम की वजह से सैकड़ों लोग एड्स के बीमार हो गए हैं उन में 5 साल के बच्चे तक हैं और अब वे समाज, स्कूल, खेल के मैदान से निकाल दिए गए हैं. उन्हें अपने घर छोड़ने पड़ रहे हैं.

अफ्रीका के जंगलों से आया यह रोग पहले केवल समलैंगिकों में था पर धीरेधीरे सब तरह के लोगों में फैलने लगा है और इस की अचूक दवा अभी तक नहीं मिली है. हमारे गांवों में तो इस का इलाज ही नहीं किया जाता, उसे पापी मान कर मरने के लिए छोड़ दिया जाता है और समाज के श्मशान में जलाने तक नहीं दिया जाता. ऊपर से पाखंड की दुकानदारी हमारे यहां गांवगांव में खूब पनप रही है.

वैबसाइट पर नीचे वाला उपचार दिया गया है: ‘‘भगवान सूर्य ने ही पतंजलि ऋषि को वैज्ञानिक क्रिया बताई थी कि सूर्य नमस्कार प्रतिदिन 13 बार करने से रीढ़ की हड्डी में स्थित स्वाधिष्ठान चक्र में दिव्य ऊर्जा का विस्फोट होने लगता है जिस से एड्स के कीटाणु तेजी से मरने लगते हैं.’’

उन्नाव का नीमहकीम पकड़ा गया है पर सैकड़ों नहीं हजारों नीमहकीम भगवा दुपट्टा ओढ़े इस तरह का इलाज देशभर में कर रहे हैं और पागल बेवकूफ जनता पहले इन के चक्कर में बीमारी छिपाए रखती है फिर गांव तक छोड़ देने को मजबूर हो जाती है. अकसर गांव वाले छोड़े गए इन मकानों को आग लगा देते हैं और फिर दबंग लोग जमीन पर कब्जा कर लेते हैं. एड्स का भी नाजायज फायदा जम कर उठाया जा रहा है.

असल में तो इस देश को गरीबी, बेअक्ली के एड्स ने घेर रखा है. इस एड्स ने 125 करोड़ लोगों को बीमार कर रखा है, असल एड्स क्या मुकाबला करेगा.

VIDEO : ये हेयरस्टाइल आपके लुक में लगा देगी चार चांद 

ऐसे ही वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक कर SUBSCRIBE करें गृहशोभा का YouTube चैनल.