सरिता विशेष

वैसे तो सिगरेट से कैंसर होने का पता 4 दशक पहले चल गया था पर फिर भी आज भी सिगरेट्स इस कदर पी जा रही हैं कि हर साल 70 लाख लोग केवल धूएं के कारण मरते हैं. फ्रांस में 34% लोग सिगरेट पीते हैं और भारत में 14% सिगरेटबीड़ी के आदी हैं. भारत का आंकड़ा कम इसलिए है कि यहां पानमसाले और खैनी में मिला कर तंबाकू ज्यादा खाया जाने लगा है.

वर्ल्ड हैल्थ और्गेनाइजेशन का कहना है कि सीमा में भी तंबाकू सेवन उसी तरह की गलतफहमी है जैसी कि शराब के बारे में है. थोड़े से सेवन से कुछ नहीं होता, नितांत गलत है. सिगरेट बीमारियां तो पैदा करेगी चाहे एक पीओ या 20. हां, कम पीने वालों के पास पैसे हों तो वे इलाज करा लेते हैं. वैसे भी कम पीने का दावा करने वाले जब तनाव में होते हैं तो धड़ाधड़ पीने लगते हैं. उन्हें फिर कोई रोक नहीं पाता. दुनिया भर में 28 हजार अरब रुपए सिगरेट से होने वाले रोगों के इलाजों पर खर्च करे जाते हैं और टोबैको कंपनियां और व्यावसायिक अस्पताल इस लत का जम कर लाभ उठाते हैं.

घर में सिगरेट न घुसे यह जिम्मेदारी औरतों की है. उन्हें प्रेम करते समय ही इस पर पाबंदी लगा देनी चाहिए. जो सिगरेट पीए वह भरोसे का नहीं क्योंकि न जाने कब वह धोखा दे जाए. फिर घर में सिगरेट पीएगा तो बाकियों यानी छोटे बच्चों तक को दुष्प्रभाव झेलना पड़ेगा. भारत को छोडि़ए, इटली जैसे देश के शहरों के फुटपाथ वैसे तो साफसुथरे दिखेंगे पर सिगरेट के टुकड़े हर जगह मुंह चिढ़ाते नजर आ जाएंगे. सिगरेट वहां भी और भारत में भी औरतों की दुश्मन नंबर एक है.

वैसे कुछ देशों में औरतें भी बराबर की सी सिगरेट पीती हैं पर वे खुद को भी नष्ट करती हैं और बच्चों को भी. बच्चों को शुरू से ही लत पड़ जाती है और 7 से 10 साल तक के बच्चे छिपछिप कर स्मोकिंग शुरू कर देते हैं. सिगरेट ही मादक दवाओं के लिए रास्ता खोलती है. ज्यादा नशा पाने के लिए हेरोइन आदि लेना शुरू करा जाता है जो बाद में लाइलाज हो जाता है.