पाकिस्तान में भारतीय मुद्रा के नकली नोट छपने की खबरें अकसर आती हैं. ये नकली नोट नेपाल के रास्ते भारत लाए जाते हैं. इस तरह की खबरों से लगभग सभी लोग चौकन्ना रहते हैं और सजगता के साथ बड़े नोट स्वीकार करते हैं. खुद सरकार की तरफ से नोटों की पहचान के बारे में सूचनाएं प्रसारित होती रहती हैं. इस से समाज में नकली नोटों के बारे में खासी जागरूकता आई है. उधर, होशंगाबाद की सरकारी प्रैस में ही नकली नोट छपने की खबर है. यह कर्मचारियों की लापरवाही का परिणाम है लेकिन यह लापरवाही गरीब को भारी पड़ने वाली है.

एक खबर के अनुसार, होशंगाबाद की सरकारी प्रिंटिंग प्रैस में गलती से 20 हजार करोड़ रुपए के 1 हजार मूल्य के नोट बिना सुरक्षा तार के छपे हैं. उन में से 10 हजार करोड़ रुपए के एकएक हजार के नोट बाजार में आ चुके हैं. समय रहते गलती पकड़े जाने पर 6 हजार करोड़ रुपए के 1-1 हजार रुपए के नोट जला दिए गए हैं. इस तरह की स्थिति तबाह करने वाली होती है. जिस व्यक्ति को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है उस से इस तरह की गलती की उम्मीद नहीं की जा सकती. यह बेहद और अतिमहत्त्व की जिम्मेदारी है. यह मानवीय भूल है लेकिन इस तरह की भूल भविष्य में नहीं होगी, यह सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है. 

Tags: