भारतीय सेना के सीमापार जा कर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देने के बाद भारत व पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव का बाजार पर नकारात्मक असर देखने को मिला.

बौंबे स्टौक एक्सचेंज यानी बीएसई के सूचकांक में उतार चढ़ाव के बीच निवेशकों में उत्साह का माहौल रहा. सूचकांक में 7 अक्टूबर तक लगातार 3 दिनों की गिरावट के बावजूद बाजार में आटोमोबाइल्स क्षेत्र में वाहनों की बिक्री का आंकड़ा बढ़ने से मारुति व होंडा सहित कई प्रमुख कंपनियों के शेयरों के साथ ही बैंकिंग क्षेत्र में तेजी का रुख रहा. रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल के ब्याज दरों में कमी करने के निर्णय से भी बाजार में अच्छा संकेत गया.

हालांकि इस दौरान भारतीय सेना के सीमापार जा कर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देने के बाद भारत व पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव का बाजार पर नकारात्मक असर देखने को मिला लेकिन अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी आईएमएफ के भारतीय अर्थव्यवस्था के मजबूत रहने संबंधी आकलन और सकल घरेलू उत्पाद  यानी जीडीपी दर 7.5 प्रतिशत से ज्यादा रहने के अनुमान से बाजार में अच्छा माहौल रहा.

COMMENT