भारतीय व्यंजनों में तड़के का ज्यादा इस्तेमाल होता है. इस के अलावा फ्राई करना, ग्रिल करना, खाने में मसालों का प्रयोग भी होता रहता है. ऐसी स्थिति में एक सही चिमनी ही रसोई से धुआं और गंध आसानी से निकाल सकती है.

आजकल बाजार में कई तरह की चिमनियां बिकती हैं, जिन में से सही चिमनी का चयन करना मुश्किल होता है. इस बारे में मुंबई की ‘मेग्लियो’ शौप के चिमनी डीलर लक्ष्मण पुरोहित, जो एक दशक से भी अधिक समय से चिमनी बेच रहे हैं, का कहना है कि चिमनी की बनावट में पहले से काफी सुधार आया है. इस के 2 विकल्प ग्राहकों को ज्यादा आकर्षित करते हैं. इन विकल्पों की खूबियां इस प्रकार हैं:

– पहले विकल्प में धुआं बाहर फेंकने के लिए पाइप का प्रयोग किया जाता है.

– दूसरे में चिमनी को डक्ट से जोड़ने की जरूरत नहीं होती. इस के अंदर लगा कार्बन फिल्टर धुआं, तेल और गंध सोख लेता है और शुद्ध हवा को वापस रसोईघर में छोड़ता है. इस में समस्या यह आती है कि कार्बन में तेल जल्दी चिपक जाता है और इसे जल्दीजल्दी साफ करना पड़ता है.

दोनों तरह की चिमनियां प्रयोग में लाई जा सकती हैं, लेकिन डक्ट वाली चिमनी ज्यादा अच्छी होती है. इस में भी अगर डक्ट की पाइप ज्यादा मुड़ी या काफी लंबी हो, तो चिमनी से हवा बाहर निकलने में समय लगता है. डक्ट के लिए जगह की जरूरत होती है, इसलिए अगर आप के किचन में जगह है, तो डक्ट वाली चिमनी लगाएं. जगह की कमी हो, तो कार्बन फिल्टर वाली चिमनी सही रहेगी.

आधुनिक चिमनी

पहले चिमनी का आकार अलग होता था. ज्यादातर चिमनियां पुश बटन और डाइरैक्ट बटन द्वारा चलती थीं. आजकल बाजार में डिजिटल गैस सैंसर वाली चिमनी भी आने लगी है, जिस में यदि गैस किसी कारणवश लीक करती है, तो चिमनी औटोमैटिक चालू हो जाती है और गैस के निकल जाने के बाद बंद भी हो जाती है. यह चिमनी आजकल ज्यादा प्रयोग में लाई जा रही है.

इस के अलावा चिमनी की सक्शन पावर का भी ध्यान रखें, क्योंकि यह जितना ज्यादा होती है, रसोई उतनी ही गंध और धुएं रहित होती है. यह क्षमता चिमनी में 500 मीटर क्यूबिक प्रति घंटा से 1,200 मीटर क्यूबिक प्रति घंटा होती है. इस में 900 मीटर क्यूबिक प्रति घंटा से 1,000 मीटर प्रति घंटा सक्शन पावर वाली चिमनी है.

चिमनी लगाने की प्रक्रिया में किचन के आकार की बड़ी भूमिका है. यदि किचन बड़ा है, तो ज्यादा सक्शन पावर वाली चिमनी लगाना ठीक रहता है. एक अनुमान के अनुसार किचन की चिमनी को 1 घंटे में 10 गुना शुद्ध हवा से भरने की जरूरत होती है. इसलिए चिमनी चुनने से पहले किचन की वौल्यूम को 10 से गुणा करने के बाद जो क्षेत्रफल आए, उतनी ही सक्शन पावर वाली चिमनी किचन में लगाना सही होता है. इसे गैस चूल्हे से ढाई फीट की ऊंचाई पर लगाना ठीक रहता है.

यह भी ध्यान रखें

1 साल से 5 साल के अलावा लाइफटाइम गारंटी वाली चिमनी भी मिलती है. चिमनी की कीमत भी उस की वारंटी पर निर्भर होती है. चिमनी की कीमत कुछ हजार से ले कर लाखों तक होती है, जिसे ग्राहक अपने बजट के हिसाब से खरीदता है. एक अच्छी चिमनी 10 से 15 साल आसानी से काम कर सकती है.

चिमनी की देखभाल

– वैसे तो चिमनी की सफाई उस की उपयोगिता के आधार पर की जाती है, लेकिन यदि आप साधारण खाना बनाती हैं, तो 15 दिन बाद उस के फिल्टर को डिटर्जैंट मिले गरम पानी से अच्छी तरह धो कर, सुखा कर लगा दें. इस से फिल्टर की जाली साफ हो जाती है.

– चिमनी अगर अधिक चिपचिपी हो गई है और डिटर्जैंट पानी से साफ नहीं हो रही है, तो सोडियम हाइड्रो औक्साइड या कास्टिक सोडे से धोएं.

– कुछ फिल्टर ऐसे भी होते है जिन्हें धोया नहीं जा सकता. ऐसे में 4 से 5 महीने बाद उसे बदलना पड़ता है.

– कभी भी हार्श डिटर्जैंट से फिल्टर को न धोएं.

==============