अब मेकअप और कौस्मैटिक प्रौडक्ट्स इस्तेमाल करना सिर्फ युवतियों की बपौती नहीं रहा बल्कि युवक भी इन का बढ़चढ़ कर इस्तेमाल करने लगे हैं. एक सर्वे के अनुसार मेकअप पर युवतियों से ज्यादा खर्च युवकों का होता है. खूबसूरत दिखने की चाह का यह नया ट्रेंड सैल्फियों और मार्केट में बनाए पुरुष प्रौडक्ट्स के कारण है. यहां तक कि पिछले 5 सालों में युवकों के इस्तेमाल वाले प्रोडक्ट्स की बिक्री 42% बढ़ी है.

अब युवक यह नहीं चाहते कि वे अगर जौब प्लेस या फिर किसी पार्टी फंक्शन में जाए तो सिर्फ वहां युवतियों की ही तारीफ हो, बल्कि वे चाहते हैं कि वहां उपस्थित लोग उन की ग्रूमिंग के कारण यह कहने पर मजबूर हो उठे कि कितना हैंडसम है यार, क्या लगता है, स्टाइल तो देखो, हेयरकट तो मस्त है यार, यार फेस तो देखो कितना ग्लो कर रहा है. इसी तरह के और भी कई कौंप्लीमैंट्स मिलने की चाह रखने लगे हैं और इस के लिए अगर उन्हें हर हफ्ते या 15 दिन में सैलूंस का भी रुख करना पड़ता है तो वे इस में भी पीछे नहीं रहते. बस उन्हें तो सिर्फ लुक में बैस्ट दिखना होता है.

क्या करते हैं ग्रूमिंग के लिए

फेशियल कराने में भी पीछे नहीं

युवतियों की तरह युवक भी 20-25 दिन में फेस क्लींजिंग या फिर फेशियल करवाते हैं ताकि डैड स्किन रिमूव हो सके. ऐसा वे घर पर नहीं बल्कि सैलूंस में जा कर करते हैं ताकि फेस को प्रोपर मसाज मिल सके.

इस दौरान अगर ब्यूटी ऐक्सपर्ट ने कह दिया कि सर, आप की स्किन को और ज्यादा केयर की जरूरत है और इस के लिए आप को वीकली सिअिंग की जरूरत है तोव े इस के लिए भी झट से राजी हो जाते हैं चाहे उन्हें कितनी भी कीमत अदा करनी पड़े. क्योंकि उन्हें हर हाल में खूबसूरत जो दिखना है.

लेटैस्ट हेयरस्टाइल का फैशन करते हैं कैरी

लुक को चेंज करने में हेयरस्टाइल का अहम रोल होता है और इसमें पुरुष पीछे भी नहीं रहते. वे सैलून में अपने फेस को सूट करने वाला हेयरकट करवाते हैं फिर उस हेयरकट के लंबे दिनों तक चलने या फिर जैसा कट आज हुआ है वैसा ही कई दिनों तक दिखे इस के लिए हेयर जेल का इस्तेमाल करते हैं, जिन की कीमत 400 रुपए से शुरू हाती है. जब एक हेयरकट से बोर हो जाते हैं तो दूसरा कट करवा लेते हैं जो फ्रैंड्स या ग्रुप में छाने के लिए काफी होता है.

फेस पर एक पिंपल भी पसंद नहीं

अभी तक यही सुना जाता था कि अगर किसी लड़की के फेस पर एक भी पिंपल आ जाए तो वह बेचैन हो जाती है. इस के लिए पिंपल्स के लिए बने ब्यूटी प्रौडक्ट्स तो खरीदती ही हैं साथ ही पार्लर्स के भी चक्करर लगाती हैं. अब यही हाल युवकों का है. उन्हें अपने फेस पर एक भी पिंपल पसंद नहीं इस के लिए वे घरेलू नुसखे तो अपनाते ही हैं साथ ही ऐसे फेसवौश का भी इस्तेमाल करते हैं जो फेस को पिंपल्स से भी प्रोटैक्ट कर सके. उन की इसी डिमांड को देखते हुए अब पुरुषों की स्किन के हिसाब से भी फेसवौश बनने लगे हैं.

मैनिक्योर व पैडीक्योर पर भी जोर

युवक सिर्फ फेस को ही नीट नहीं दिखाते बल्कि हाथपैरों की भी बराबर केयर करते हैं. इस के लिए वे सैलूंस का ही रुख करते हैं क्योंकि वे घर में मैनिक्योर व पैडीक्योर कराने के झमेले में नहीं पड़ना चाहते. उन्हें तो बस सब से पौजिटिव रिमार्क चाहिए होते हैं तभी तो वे बौडी पार्ट्स की प्रोपर केयर करने की ओर ज्यादा ध्यान देते हैं.

झुर्रियां भी नहीं भाती

चेहरे पर झुर्रियां दिखाई न दे और हर उम्र में जवांजवां ही दिखे इस के लिए वे झुर्रियों को दूर रखने वाले इंजैक्शंस लगवाते हैं ताकि कोई भी उन की उम्र का अंदाजा न लगा सके.

वैक्सिंग

हाथपैरों व बौडी पर ओवर हेयर्स उन्हें गवारा नहीं इस के लिए वे फुल बौडी वैक्स करवाते हैं और साथ ही युवतियों की तरह ऐसी वैक्स को प्रैफर करते हैं जिस से ग्रोथ लेट आए. यानी यह कहना गलत नहीं होगा कि वे अब मेकअप के मामले में महिलाओं से एक कदम आगे निकल रहे हैं.

क्यों बढ़ा इस तरह का चलन

प्रतिस्पर्धा ने बढ़ाया क्रेज

अब युवकों में प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ गई है. अब वे नहीं चाहते कि उन के लुक की वजह से कोई उन्हें इग्नोर करे या फिर जौब औपुचोरिनिटी उन के हाथ से जाए. क्योंकि आजकल जौब में काबिलीयत के साथसाथ लुक भी बहुत माने रखता है इसलिए वे खुद को परफैक्ट रखने के लिए अपना लुक भी गौर्जिस रखना चाहते हैं और उन की इसी चाह ने उनहें मेकअप कराने की ओर उत्साहित किया है, जिस के कारण वे बेहतरीन ब्यूटी प्रौडक्ट्स खरीदते हैं.

बदलता लाइफ स्टाइल व ज्यादा कमाई

आज यह कहना बिलकुल गलत नहीं होगा कि हमारा लाइफ स्टाइल टोटली बदल गया है और इस का एक कारण देखादेखी तो है ही साथ ही ज्यादा कमाई भी है, जिस के कारण युवक अब खुद की बौडी केयर पर भी पैसे खर्च करने लगे हैं. अब वे डेली घर पर दाढ़ी बनाने से ज्यादा सैलून में जा कर दाढ़ी बनवाना पसंद करते हैं, ताकि फेस अच्छे से क्लीन हो सके और इस के लिए वे एक दिन का 100-200 रुपए भी खर्च करने से गुरेज नहीं करते.

ब्यूटी प्रोडक्ट्स ने बढ़ाई मांग

पहले देखा जाता था कि घर में युवती व युवक एक ही ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कर लेते थे. चाहे वह प्रोडक्ट युवती की स्किन के लिए ही क्यों न बना हो लेकिन अब समय बदलने के साथसाथ युवकों की सोच भी बदली है.

अब वे मार्केट में अपने लिए बने प्रोडक्ट्स का ही इस्तेमाल करते हैं साथ ही ब्रैंड्स को भी खासा महत्त्व देते हैं ताकि उन की स्किन को कोई नुकसान न पहुंचे. उन की इसी डिमांड के कारण ब्यूटी प्रोडक्ट्स की बिक्री काफी बढ़ी है.

गोरा दिखना भी एक कारण

चाहे युवकों का ब्यूटी प्रोडक्ट लौंच हो या फिर युवतियों का, उस में इस बात पर ज्यादा फोकस किया जाता है कि फलां क्रीम आप को रातोंरात चमकतादमकता बना देगी, सांवली स्किन भी गोरा रूप पाएगी, इस को सुन कर सांवले युवक खुद को गोरा रूप देने के लिए इन प्रोडक्ट्स को खरीद लेते हैं और अगर उन को रिजल्ट अच्छा मिलता है फिर तो उन का इन प्रोडक्ट्स के प्रति विश्वास बढ़ जाता है.

यहां तक कि अब वे बौडी के हर पार्ट के टोन के हिसाब से क्रीम इस्तेमाल करते हैं यानी अगर हाथों को अलग क्रीम की जरूरत है तो वे हाथ व फेस के लिए अलग ही क्रीम्स इस्तेमाल करते हैं.

गर्लफ्रैंड या कलीग पर इंप्रैशन झाड़ना

गर्लफ्रैंड पर इंप्रैशन झाड़ने के लिए वे ऐसे ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं जो उन के फेस पर ग्लो ले आए. भले ही यह ग्लो कुछ घंटों के लिए हो लेकिन गर्लफ्रैंड तो इंप्रैस हुए बिना नहीं रह पाती और आखिर आप की तरह वह भी पूछ बैठती है कि क्या करते हो जो फेस इतना ग्लो मारता है. यही बात सुनने के लिए तो युवक इन प्रोडक्ट्स की ओर भागते हैं.

कौंफिडैंस बढ़ता है

जब हम खूबसूरत दिखते हैं या फिर कोई नया चेंज किया होता है तो हमारा कौंफिडैंस तो बढ़ता ही है और अगर किसी ने तारीफ कर दी फिर तो हम खुद को हीरो समझने लगते हैं. इसी तारीफ को पाने के लिए युवक ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करने लगे हैं.

इस प्रकार यह कहना गलत नहीं होगा कि युवतियों की तुलना में युवक ज्यादा ब्यूटी प्रोडक्ट्स व खुद को संवारने पर ध्यान देने लगे हैं.

बेगम को शौहर से ज्यादा उन की क्लीन शेव से प्यार

युवक अब खुद को लुक वाइज बैस्ट दिखाने के लिए कपड़ों के साथसाथ मेकअप पर भी ध्यान देने लगे हैं तभी तो पुरुषों के लिए बने ब्यूटी प्रोडक्ट्स की मांग बढ़ी है.

इस के पीछे एक कारण यह भी है कि युवतियां अब अपने पार्टनर को बिलकुल हीरो की इमेज में देखना चाहती हैं. इस का जीता जागता उदाहरण है मेरठ के इमाम अर्शद बदरुद्दीन के सामने उन की बेगम द्वारा रखी यह शर्त कि अगर उन्होंने अपनी दाढ़ी नहीं कटरवाई तो वह आत्महत्या कर लेगी, क्योंकि बेगम को शाहरुख और सलमान की क्लीन शेव भाती है.

शायद बेगम सोच रही होंगी कि जब वे अपने शौहर के साथ चले या फिर अपने स्मार्टफोन से फोटो खींच कर डीपी सैट करे तो सब उन के शौहर को सलमान या शाहरुख समझ कर ‘हाउ, कितने हैंडसम हैं तेरे शौहर’ जैसे कौंप्लिमैंट्स मिलें न कि यह कि बेगम कहां तुम और कहां तुम्हारे लल्लू राम. इसलिए वह उन की दाढ़ी कटवाने की बात पर अड़ी बैठी है.

अपनी दाढ़ी व बेगम से रिश्ते को खतरे में देख कर बेचारे शौहर ने कलैक्टर को पत्र लिख डाला है जिस पर जल्द ही हल निकलने की उम्मीद है.