सरिता विशेष

ज्यादातर महिलाएं यह स्वीकारती हैं कि वे घर से निकलने से पहले अपना काफी वक्त आईने के सामने गुजारती हैं. जितना हो सके चेहरे पर महंगे सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग कर अपनी खूबसूरती बढ़ाने का प्रयास करती हैं.

वैसे भी महिलाएं मेकअप के लिए मशहूर हैं. हाल ही में स्किनस्टोर डौट कौम नामक कंपनी द्वारा किए गए एक सर्वे में पाया गया कि औसत अमेरिकन महिलाएं अकेले चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने वाले ब्यूटी प्रोडक्ट्स पर करीब क्व1 करोड़ 93 लाख अपनी पूरी जिंदगी में खर्च कर डालती हैं. 16 से 75 साल की उम्र की करीब 3000 महिलाओं पर किए गए इस सर्वे में पाया गया कि महिलाएं घर से निकलने से पहले कम से कम 16 ब्यूटी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करती हैं.

सिर्फ मेकअप काफी नहीं

क्या इस तरह मेकअप प्रोडक्ट्स पर निर्भर रहना पैसे और समय की बरबादी है? क्या वाकई मेकअप प्रोडक्ट्स लुक में आश्चर्यजनक रूप से परिवर्तन ला कर आप का आकर्षण बढ़ा पाते हैं?

हाल ही में इस विषय पर की गई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि महिलाओं को खूबसूरत दिखाने में मेकअप का योगदान काफी कम होता है. उन का नैचुरल लुक ही उन्हें आकर्षक या अनाकर्षक दिखाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है. कोई बदसूरत महिला चेहरे पर मेकअप की कितनी भी परतें चढ़ा ले पर वह स्वाभाविक रूप से खूबसूरत महिला, जिस ने कोई मेकअप नहीं किया है, के आगे नहीं टिक पाएगी.

इस संदर्भ में बैंगोर यूनिवर्सिटी नौर्थ वेल्स, अमेरिका में किया गया एक अध्ययन काफी महत्त्वपूर्ण है. इस के तहत 44 अंडरग्रैजुएट लड़कियों, जिन की उम्र 18 से 21 साल के बीच थी, की मेकअप के साथ और बिना मेकअप के तसवीरें ली गईं. इन तसवीरों को 62 छात्रों के एक दूसरे ग्रुप, जिस में स्त्रीपुरुष दोनों ही शामिल थे, को दिखाया गया और कहा गया कि वे इन्हें खूबसूरती के आधार पर 1 से 7 के बीच रेटिंग दें. इन युवकों को लड़कियों की मेकअप के साथ या बिना मेकअप में से कोई एक तसवीर ही दिखाई गई.

रेटिंग का विश्लेषण कर पाया गया कि मेकअप की वजह से खूबसूरती में महज 2% तक का ही इजाफा हुआ जबकि लड़की के नैचुरल फीचर्स और पर्सनैलिटी उसे खूबसूरत दिखाने में 69% तक उत्तरदायी रही.

असली खूबसूरती

दरअसल, खूबसूरती बहुत सी बातों पर निर्भर करती है. हाई चीकबोंस, भरे होंठ, बड़ी आंखें, शाइनी हेयर्स और कोमल बेदाग त्वचा महिलाओं के लिए तो चौड़ा जबड़ा, चौड़ा माथा और मजबूत कदकाठी पुरुषों में स्वाभाविक आकर्षण लाती है. मेकअप, फीचर्स और रंग के अलावा भी बहुत सी बातें हैं, जो आप को आकर्षक बनाती हैं:

स्माइली फेस: 2013 में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि हंसतामुसकराता चेहरा आप को दूसरों की नजरों में अधिक आकर्षक व सुंदर दिखाता है. लोग न सिर्फ मुसकराते चेहरे को देखना पसंद करते हैं वरन स्वाभाविक रूप से भी मुसकराहट रखने वालों के चेहरे पर अलग ग्लो नजर आता है.

परफैक्ट फिगर: यदि आप अपनी फिगर को 36-24-36 की माप पर मैंटेन रखती हैं, तो आप सांवली होने या मेकअप न करने के बावजूद स्वाभाविक रूप से आकर्षक नजर आएंगी, जबकि मोटी थुलथुल महिला कितना भी मेकअप पोत ले खूबसूरत नहीं लग सकती.

स्मार्ट बिहेवियर: आप की बातचीत का तरीका, चलनेबैठने का ढंग, कपड़े पहनने का सलीका, दूसरों की बातों पर रिऐक्शन देने का अंदाज जैसी बातें खूबसूरती निर्धारित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं.

इनर ब्यूटी: आप का दूसरों के प्रति नजरिया क्या है, कितनी पौजिटिव हैं, दूसरों की कितनी मदद करती हैं, क्रोध और तनाव पर कितना नियंत्रण कर सकती हैं जैसी बातें भी अंदर से आप को खूबसूरत बनाती हैं.

स्टाइलिश ड्रैसेज: कितना भी मेकअप कर लें, जब तक आप के कपड़े आप के व्यक्तित्व और फैशन के अनुरूप नहीं होंगे, आप खूबसूरत नहीं दिख सकतीं.

बेदाग कोमल त्वचा: खूबसूरत दिखने के लिए आप की त्वचा का बेदाग और मुलायम होना जरूरी है. निखरी रंगत और स्वस्थ त्वचा सहज ही लोगों को आकर्षित कर लेती है.

चमकदार काले बाल: लंबे काले बालों पर कितनी ही शायरियां की जाती रही हैं. महिला का सौंदर्य उस के स्वस्थ चमकदार बालों से है.

इन के अलावा अच्छी सेहत, तेज दिमाग, छिपा हुनर और सफलता भी व्यक्ति के आकर्षण में इजाफा करती है.