सरिता विशेष

वो दिन गए जब बहू पर सास के जुलमों की कहानियां हर दूसरे घर में सुनी जाती थीं. आज बहुएं पढ़ी लिखी और मैच्योर होती हैं. अपवाद छोड़ दें तो सताई गई बेचारी बहुएं नजर नहीं आतीं. उलटा अब तो बहुएं भी सास पर अत्याचार करने लगी हैं. ऐसा ही एक वाक्या हाल में जमशेदपुर में नजर आया.

3 अप्रैल की शाम, बहू पूनम पांडेय किसी बात पर अपने बच्चे को पीट रही थी. सास, सीता देवी (55 वर्ष) ने अपने पोते को बचाना चाहा तो पूनम ने उन की चप्पल से पिटाई कर दी. बहू की ऐसी हरकत देख सीता देवी अपने बेटे, पवन को फोन लगाने का प्रयास करने लगीं, इस पर बहू गुस्से से चिल्लाती हुई उन पर टूट पड़ी और शरीर पर केरोसिन उड़ेल कर माचिस लगा दी.

जिस वक्त बहू ने सास को जलाया, घर में कोई और नहीं था, सीतादेवी को हौस्पीटल ले जाया गया, मगर उन की मौत हो गई. मरने से पहले दिए गए अपने बयान में उन्होंने बहू की कारस्तानी का खुलासा किया.

पुलिस तहकीकात में यह बात सामने आई कि सासबहू के बीच अक्सर झगडे़ हुए करते थे. बहू अक्सर सास के साथ गालीगलौज और मारपीट करती थी, मगर पवन अपनी पत्नी से कुछ नहीं कह पाते थे.