सरिता विशेष

लखनऊ के पानदरीबा इलाके में होटल कृष्णा पैलेस की देखभाल करने वाले 23 साल के राहुल ओझा से मिलने हर तरह के लोग आते थे. इनमें से एक महक नाम का किन्नर भी था. महक का असल नाम जीशान था. वह मूल रूप से बाराबंकी जिले का रहने वाला था. कुछ समय से वह हुसैनगंज थानाक्षेत्रा के दादामियां कर मजार के पास रहने लगा था. जीशान बेरोजगार था. उसके पास रोजगार का कोई साधन नहीं था. रोजगार की तलाश में लखनऊ में उसकी मुलाकात कुछ किन्नर साथियों से हुई. देखने सुनने में जीशान भी किसी लडकी की ही तरह सुदंर दिखता था. किन्नर साथियों की सलाह पर वह अपना पहनावा और बोलचाल में बदलाव करके किन्नर बन गया और अपना नाम महक रख लिया. अब वह किन्नर गैंग में शामिल होकर घरघर जाकर नेग की वूसली करने लगा. किन्नर बने जीशान ने जब अपना नाम महक रखा तो वह दुकानो और होटलों में भी वूसली के लिये जाने लगा. लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन के आसपास यह लोग रात में आने वाले यात्रियों को लडकी होने का झांसा देकर अपने साथ देहसबंध बनाने के नाम फंसा कर पैसा वूसल करते थे.

जीशान बने महक की मुलाकात कृष्णा होटल के राहुल ओझा से हुई. महक के साथ उसकी दोस्ती बढने लगी. महक के लिये यह दोस्ती फायदेमंद थी. राहुल और महक के बीच दोस्ती नजदीकी रिश्तो में बदल गई. लंबे समय तक यह संबंध चलने लगे. महक को एक जगह बंधकर रहने की आदत नहीं थी. इस बीच महक की दोस्ती इमरान के साथ हो गई. बहराइच का रहने वाला इमरान लखनऊ में टैंपों चलाने का काम करता था. वह भी महक के साथ दादा मियां की मजार के पास रहने लगा. एक साथ रहने से इमरान महक के ज्यादा करीब हो गया. इस बात को लेकर राहुल महक से नाराज होता था. असल में इमरान के करीब आने के बाद महक अब राहुल से दूरी बनाने लगा था.

जब राहुल की टोकाटाकी ज्यादा बढ गई तो 11 अप्रैल सोमवार की रात महक और इमरान ने राहुल को सदर इलाके मे बुलाया. पहले उन लोगों ने शराब पी. इसके बाद आपसी बातचीत में झगडा शुरू हो गया. महक और इमरान ने राहुल को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया. राहुल का बांया पैर 3 जगह से टूट चुका था. चेहरा पहचान में न आये इसलिये उसको कुचल दिया था. राहुल की बांयीं आंख पफोड दी थी. सिर में लोहे का सरिया घुसा दिया गया था. इसके बाद राहुल को रेलवे लाइन के किनारे डाल दिया गया. राहगीरों की सूचना पर पुलिस ने उसे सिविल अस्पताल पहुंचाया. जहां डाक्टरों ने उसको मरा घोषित कर दिया. उधर राहुल के घर वालों ने उसे तलाश किया पर उसका कोई पता नहीं चला. मंगलवार को 11 बजे राहुल के दोस्त मिथुन के नम्बर पर रिजवान नाम के आदमी ने फोन करके सूचना दी कि राहुल की लाश दादामियां की मजार के पास रेलवे लाइन पर पडी  है.

घर वालों को वहां कोई लाश नहीं मिली पर यह जानकारी मिली की कल एक घायल आदमी को पुलिस ले गई है. राहुल के घर वाले गौतमपल्ली पुलिस स्टेशन गयेख, तो वहां राहुल की मौत का पता चला. पुलिस ने बताया कि राहुल का शव सिविल अस्पताल में रखा है. घर वालों ने उसको देखा और राहुल के पिता दूधनाथ ओझा ने किन्नर महक और दूसरे लोगों के खिलाफ मुकदमा लिखाया. पुलिस ने जब महक को पकडा तो उसने बताया कि राहुल उसके साथ अनैतिक संबंध बनाता था. जब इमरान से उसकी दोस्ती बढ गई तो राहुल झगडा करता था. इससे परेशान होकर इमरान के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी.