सरिता विशेष

अरविंद केजरीवाल पर अरुण जेटली द्वारा दायर मानहानि का मुकदमा अब जौली एलएलबी पार्ट थ्री होता दिख रहा है. अरुण जेटली ने केजरीवाल पर 10 करोड़ रुपए की मानहानि का एक और मुकदमा ठोक दिया है जिस का श्रेय बचाव पक्ष यानी केजरीवाल के वकील रामजेठमलानी को जाता है. जीतना है तो गुस्सा दिलाओ के सिद्धांत पर चलते जेठमलानी खुद दूसरी पेशी पर गच्चा खा गए और ऐसा कुछ बोल गए जिस पर अदालत ने भी एतराज कर दिया.

वकालत में तजरबे की बड़ी अहमियत होती है लेकिन जेठमलानी ने गैरजरूरी जोश दिखाया तो नुकसान मुवक्किल का होना तय दिख रहा है, जिस की बाबत वकील कोई जिम्मेदारी नहीं लेता. अपवादस्वरूप ही मुवक्किल वकील को कठघरे में खड़ा कर पाते हैं कि तुम्हारी वजह से मुकदमा हारे. कानून के छोटेबड़े जानकार मानहानि के इस मुकदमे के बारे में कह रहे हैं कि इस में भी आखिरकार कटना तो खरबूजे को ही पड़ेगा.