लोकसभा की अध्यक्ष सुमित्रा महाजन राष्ट्रपति पद की दौड़ में हैं. इस के पीछे वजहें उन का महिला होने के अलावा निष्ठावान भाजपाई नेत्री होना भी है. तीसरी बड़ी वजह इन का महाराष्ट्रियन होना है, इसलिए शिवसेना भी उन के नाम पर एतराज नहीं जताएगी.

नाम प्रमुखता से उछलता रहे, इस बाबत ताई के नाम से मशहूर सुमित्रा महाजन अपनी हाजिरी दर्ज कराने से चूक नहीं रहीं. अपने गृहनगर इंदौर के एक कार्यक्रम में वे अधिकारियों पर इतना बरसीं, इतना बरसीं कि कुछ अधिकारी तो सचमुच डर गए. मीडिया ने भी उन के क्रोध को प्रमुखता से प्रचारितप्रसारित किया. तब कहीं जा कर सुमित्रा को तसल्ली हुई कि लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी पर मुकदमा चलने का फायदा उन्हें मिल सकता है. दरअसल जरूरत ब्रैंडिंग की है जो गुस्से के जरिए भी की जा सकती है.