मैं 41 वर्षीय महिला हूं. मेरा वजन और लंबाई सामान्य है. पर मेरे स्तनों का आकार बहुत छोटा है जिस के कारण मेरा फिगर परफैक्ट नहीं दिखता और मैं कोई भी ड्रैस पहनती हूं तो वह मुझ पर फबती नहीं. मैं ऐसा क्या करूं जिस से मेरे स्तनों को सही आकार मिले और मुझ में आत्मविश्वास जगे?

स्तन का छोटा या बड़ा होना किसी भी महिला के जीन्स यानी आनुवंशिकता पर निर्भर करता है. इसी वजह से किसी के स्तनों का आकार छोटा तो किसी का बड़ा होता है. इस के अलावा छोटे स्तनों का एक अन्य कारण एस्ट्रोजन हार्मोन की कमी व टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का अधिक उत्पादन होना होता है. स्तनों के सही आकार के लिए हार्मोंस बैलेंस करना जरूरी है. एस्ट्रोजन हार्मोन बे्रस्ट यानी स्तनों के ऊतकों के विकास में मदद करता है. कई बार वजन के घटनेबढ़ने से भी स्तनों के आकार में अंतर आता है. स्तनों के सामान्य आकार के लिए बैलेंस्ड डाइट लें. इस के अतिरिक्त स्तनों का साइज बदलने का एक अन्य तरीका प्लास्टिक सर्जरी भी है. हालांकि यह सर्जरी अत्यंत महंगी होने के साथसाथ इस के साइड इफैक्ट भी हैं. बे्रस्ट को खूबसूरत व सुडौल दिखाने के लिए आप चाहें तो पैडेड ब्रा भी पहन सकती हैं.

*

मैं 24 वर्षीय युवती हूं. मैं यह जानना चाहती हूं कि अगर मैं ने विवाह से पूर्व किसी पुरुष के साथ शारीरिक संबंध स्थापित किए हैं तो क्या विवाह के बाद मेरे पति को पता चल जाएगा कि मेरा विवाह से पूर्व शारीरिक संबंध था?

विवाह से पूर्व किसी भी लड़की के शारीरिक संबंधों को जानने का एकमात्र तरीका यह माना जाता है कि लड़की को सुहागरात के दिन ब्लीडिंग होगी जबकि फैक्ट्स कहते हैं कि सिर्फ 42 फीसदी महिलाओं को पहले इंटरकोर्स के दौरान ब्लीडिंग होती है. इस का अर्थ यह है कि हो सकता है कि किसी लड़की को वर्जिन होने के बाद भी ब्लीडिंग न हो. साथ ही इस से यह भी साबित होता है कि फर्स्ट इंटरकोर्स के दौरान ब्लीडिंग न होना वर्जिनिटी की पहचान नहीं है. कई बार विवाह से पूर्व साइकिलिंग, खेलने के दौरान भी हाइमन टूट सकता है, इसलिए जब तक आप स्वयं अपने पति को अपने शारीरिक संबंध के बारे में नहीं बताएंगी, उन्हें कुछ पता नहीं चलेगा. आजकल हाइमनोप्लास्टी से आर्टिफिशियल हाइमन भी बनाई जा सकती है. इस के अलावा कुछ महिलाओं में जन्म से हाइमन नहीं होती. इसलिए बिना किसी टैंशन के वैवाहिक संबंधों की शुरुआत कीजिए.

*

मेरी समस्या यह है कि मेरी मां घर की आर्थिक समस्याओं के कारण बहुत परेशान रहती हैं. वे हंसना, खुश होना तक भूल गई हैं. मैं अपनी मां को इस हालत में नहीं देख सकता. मैं ऐसा क्या करूं जिस से अपनी मां की मदद कर सकूं और उन्हें खुश रख सकूं? सलाह दीजिए.

आप ने न तो यह बताया कि आप की उम्र क्या है और न ही यह बताया कि आप के पिताजी क्या करते हैं. क्या वे घर की आर्थिक समस्याओं को सुलझाने में आप की मदद नहीं करते? और अगर नहीं करते तो ऐसा वे किस कारण से करते हैं? अगर आप वयस्क हैं और सक्षम हैं तो अपनी मां की जिम्मेदारी में हाथ बंटाइए. जब समस्याएं दूर होंगी तो वे खुश भी रहेंगी और हंसेंगी भी.

*

मैं 48 वर्षीय पुरुष हूं. मैं हस्तमैथुन की आदत से पीडि़त हूं. मैं जानना चाहता हूं कि इस आदत से कैसे छुटकारा पा सकता हूं?

हस्तमैथुन एक स्वाभाविक प्रक्रिया है. हस्तमैथुन की आदत से छुटकारा पाने की कोई दवा या इलाज नहीं होता. संकल्प व दृढ़ इच्छाशक्ति द्वारा ही इस से छुटकारा पाया जा सकता है. आप सैक्स को रहस्य व गोपनीय मानने के बजाय इस के प्रति सकारात्मक सोच रखें व खुद को अपराधी व दोषी न मानें. स्वयं को सृजनात्मक कार्यों में व्यस्त करें व कामुक विचारों से बचें. इस के बाद भी अगर हस्तमैथुन की आदत नहीं छूटती है तो मनोचिकित्सक से मिलें.

*

मैं 32 वर्षीय विवाहित महिला हूं. मेरी समस्या यह है कि मेरे पीरियड्स अनियमित रहते हैं. कभीकभी तो 2 माह में 1 बार होता है. मैं जानना चाहती हूं कि पीरियड मिस होने का क्या कारण हो सकता है? पीरियड्स की अनियमितता के चलते मैं शंका में रहती हूं कि कहीं गर्भवती तो नहीं हो गई. प्रेग्नैंसी के अलावा पीरियड्स मिस होने के और क्या कारण हो सकते हैं?

मासिक धर्म की अवधि व रक्तस्राव हर महिला में अलगअलग होता है. कई बार तनाव, अत्यधिक डाइटिंग, अत्यधिक व्यायाम, गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन, ओवरी का सही तरीके से काम न करने व थायराइड के कारण भी मासिक धर्म अनियमित हो जाता है. आप के मामले में समस्या का क्या कारण हो सकता है, यह आप किसी गाइनीकोलौजिस्ट से मिल कर पता करें.

*

मैं 26 वर्षीय युवती हूं, नौकरी करती हूं. मुझे एक लड़का पसंद है. वह भी मुझे पसंद करता है और हम दोनों शादी करना चाहते हैं. समस्या यह है कि मेरे घर वाले इस रिश्ते के लिए राजी नहीं हैं क्योंकि लड़का हम से निम्न जाति का है. उन का कहना है कि इस रिश्ते से उन की समाज में इज्जत कम हो जाएगी.

उच्च व निम्न जाति की बात गुजरे जमाने की बात हो गई है. आप अपने घर वालों को समझाइए कि आप उस लड़के को पसंद करती हैं और उस के साथ खुश रहेंगी. उन से पूछिए कि उन के लिए उन की सामाजिक इज्जत ज्यादा महत्त्वपूर्ण है या बेटी की खुशी. और वैसे भी इस बात की क्या गारंटी है कि जिस उच्च जाति में वे आप का रिश्ता तय करेंगे वहां आप खुश ही रहेंगी.  

Tags:
COMMENT