मैं 22 वर्षीय युवक हूं. कुछ समय पहले मु झे एक लड़की से प्यार हो गया, वह भी मु झे प्यार करने लगी. मैं ने उस से विवाह करने का वादा भी किया. लेकिन कुछ दिन पहले मु झे पता चला कि वह लड़की नौर्मल यानी सामान्य नहीं है. अब मैं उस से विवाह नहीं करना चाहता. लेकिन वह लड़की कहती है कि विवाह करेगी तो केवल मु झ से ही. मैं ने उसे सम झाने की बहुत कोशिश की पर वह नहीं मान रही. उसे बिना दुख पहुंचाए मैं उस से कैसे कहूं कि हमारी शादी नहीं हो सकती. सलाह दें.

जब तक आप को वास्तविकता का पता नहीं था, आप एकदूसरे को प्यार करते थे, शादी भी करना चाहते थे. लेकिन लड़की के बारे में असलियत जान कर आप विवाह नहीं करना चाहते. आप का निर्णय ठीक है लेकिन आप ने यह नहीं बताया कि लड़की में क्या कमी है. क्या उस का इलाज संभव नहीं है? अगर ऐसा कुछ है तो आप अपनी बात उस तक पहुंचाने के लिए किसी तीसरे का सहारा लीजिए जो आप दोनों को अच्छी तरह जानता हो. समस्या जानते हुए वैवाहिक बंधन में बंधना समझदारी नहीं होगी. आप लड़की को भी समझाइए कि इस से आप दोनों ही खुश नहीं रह पाएंगे. ऐसे में विवाह बंधन में बंधना आप दोनों के लिए अनुचित होगा.*

*

मैं 40 वर्षीय सरकारी सेवा में कार्यरत विवाहित कर्मचारी हूं. मेरी समस्या यह है कि मैं एक ही चीज के बारे में सोचता रहता हूं और हमेशा डर सा लगा रहता है, हाथों में पसीना आता है, मन हमेशा उदास रहता है और मरने से भी डर लगता है. मैं सम झ नहीं पा रहा हूं कि मेरे साथ क्या समस्या है और क्या इस का कोई समाधान है?

आप ने यह नहीं बताया कि आप किस चीज के बारे में सोचते रहते हैं और आप को किस बात से डर लगता है? क्या आप के घर के पारिवारिक हालात सामान्य हैं? या वहां कोई समस्या है? अगर ऐसा कुछ है तो पहले उस का समाधान ढूंढि़ए. आप की बातों से लगता है आप डिप्रैशन की अवस्था में हैं. आप मरने के बारे में क्यों सोचते हैं? आप थोड़े दिनों के लिए कहीं घूमनेफिरने जाएं, घरपरिवार के साथ अपनी समस्या शेयर कीजिए. माहौल बदलने से आप के मन की उदासी दूर होगी. अगर इन सब से भी कोई समाधान नहीं निकलता तो किसी मनोचिकित्सक से मिलिए. वे विस्तार से आप की समस्या जान कर आप को समाधान सु झा सकते हैं. समस्याओं से भागना या मरना कोई समाधान नहीं है. उन का डट कर हिम्मत से मुकाबला कीजिए. अपने डर के बारे में खुल कर बात कीजिए, उस का सामना करने की आप को हिम्मत मिलेगी.*

*

मैं 19 वर्षीय कालेज का छात्र हूं. 3-4 महीने पहले मेरी एक लड़की से दोस्ती हुई है. इस दौरान हम केवल 5-6 बार ही मिल पाए हैं. मु झे लगता है कि वह जानबू झ कर मु झ से नहीं मिलती. वह कहती है कि जो भी बात करनी है फोन पर कर लिया करो. मिलने से वह कतराती है. लेकिन मैं उस से बारबार मिलना चाहता हूं. उसे किस करना चाहता हूं. फिर चाहे मैं उसे छोड़ दूं. मैं क्या करूं? समाधान बताइए.

आप ने बताया कि आप की दोस्ती को अभी केवल 3-4 महीने ही हुए हैं, आप दोनों 5-6 बार मिल चुके हैं और फोन पर भी बात होती रहती है. ऐसा लगता है आप कुछ ज्यादा ही जल्दबाज हैं. आप की इसी जल्दबाजी को शायद वह लड़की भांप गई है. वह आप से ज्यादा सम झदार लगती है. इसीलिए वह आप से दूरी बना रही है. वैसे भी जब आप उस से शारीरिक इच्छा के कारण दोस्ती कर रहे हैं तो यह गलत है. वह लड़की आप से न मिल कर सही कर रही है. आप अपना यह रवैया बदल डालिए सिर्फ शारीरिक इच्छाओं की पूर्ति के लिए दोस्ती का ढोंग न करें वरना आप खुद तो मुसीबत में पड़ेंगे ही, सामने वाली लड़की को भी परेशानी में डाल देंगे.*

*

मैं 24 वर्षीय अविवाहिता हूं. मेरा एक बौयफ्रैंड है. मैं उस से प्यार करती हूं. लेकिन कुछ दिन पूर्व वह मु झे छोड़ कर किसी और से प्यार करने लगा. अब वह उसे छोड़ कर दोबारा मेरे पास आ गया है और कह रहा है कि उस लड़की से गलती से प्यार हो गया था और अब वह केवल मु झ से ही प्यार करता है. इस स्थिति में मु झे क्या करना चाहिए? क्या मैं उस की बात पर विश्वास कर लूं? शंका का समाधान कीजिए.

आप के बौयफ्रैंड के इरादे ठीक नहीं लगते. वह विश्वास के योग्य भी नहीं लग रहा है. आप को छोड़ कर दूसरे के पास जाना और फिर उसे छोड़ कर आप के पास आना और इसे गलती कहना, उस के चरित्र को गलत साबित कर रहा है. आप उस से दूर ही रहिए, इसी में आप की भलाई है.

*

मैं 30 वर्षीय विवाहिता हूं. विवाह को 4 वर्ष हो गए हैं. शुरुआत के 2 सालों तक तो सब ठीक चला लेकिन आजकल मेरे व पति के बीच कुछ ठीक नहीं चल रहा. वे मु झे इग्नोर करते हैं और चाहते हैं कि मैं घर की जिम्मेदारियां ठीक से निभाऊं. इसी बीच, मेरी दोस्ती एक लड़के से हो गई है. मैं उसे पसंद करती हूं. क्या मैं उस से दोस्ती बरकरार रखूं? सलाह दीजिए.

आप ने बताया कि शुरुआत के 2 सालों तक सब ठीक रहा तो जानने की कोशिश कीजिए कि उस के बाद ऐसा क्या हो गया कि पति आप से बेरुखी दिखाने लगे. कहीं आप घरपरिवार की जिम्मेदारियों से बेरुखी तो नहीं करने लगीं? अगर ऐसा है तो अपनी जिम्मेदारियों को सही ढंग से निभाइए व समय के साथ रिश्तों में आए बदलाव में नयापन लाने की कोशिश कीजिए. पति को खुश रखने का प्रयास कीजिए. दोबारा पुराने दिन लौट आएंगे. जहां तक उस लड़के से दोस्ती का सवाल है तो उस से दूरी ही रखिए, इसी में भलाई