मैं तलाकशुदा व्यक्ति हूं. मेरा 35 वर्षीय बेटा है जो मेरे साथ ही रहता है. उस का विवाह 5 वर्ष पूर्व एक 40 वर्षीय लड़की से हुआ था. समस्या यह है कि अब तक उन के कोई संतान नहीं हुई है. मुझे ऐसा लगता है कि उन के बीच शारीरिक संबंध पूर्णरूप से नहीं बने हैं. लड़की के मायके का माहौल भी क्लेशपूर्ण है, कहीं यह भी तो एक वजह नहीं है. दिल्ली स्थित किसी मनोचिकित्सक व यौन चिकित्सक का पता बताएं या अन्य कोई उपाय?

यह आप किस आधार पर कह सकते हैं कि उन के बीच शारीरिक संबंध नहीं बने हैं? दरअसल, आप के बेटे की पत्नी की आयु 40 वर्ष है और इस आयु में गर्भधारण कर पाना थोड़ा कठिन होता है, हार्मोनल समस्याएं जन्म लेने लगती हैं. जहां तक लड़की के मायके के माहौल का क्लेशपूर्ण होने का सवाल है, आप अपने बहूबेटे से खुल कर बात करें. क्या पता, वे परिवार आगे न बढ़ाने के बारे में स्वयं ही जिम्मेदार हों और वे परिवार न बढ़ाना चाहते हों. लेकिन अगर वे चाहते हैं और कोई शारीरिक समस्या पेश आ रही है तो किसी प्रतिष्ठित गाइनोकोलौजिस्ट से संपर्क करें और पूर्ण शारीरिक परीक्षण कराएं. टैस्ट के बाद ही गर्भधारण न कर पाने के कारणों और उस के उपचार का पता चल सकेगा.

मैं 25 वर्षीय युवक हूं. मेरी समस्या यह है कि मुझे हस्तमैथुन करने की आदत है. मैं यह जानना चाहता हूं कि क्या इस से मेरे स्वास्थ्य पर कोई गलत प्रभाव पड़ेगा? कृपया मेरी शंका का समाधान कीजिए.

आप व्यर्थ ही परेशान हो रहे हैं. एक अध्ययन के अनुसार, 95 प्रतिशत पुरुष व 89 प्रतिशत महिलाएं हस्तमैथुन करती हैं. यह किसी भी युवती या युवक की पहली सैक्सुअल क्रिया होती है और यह एक सामान्य प्रक्रिया है. यौनचिकित्सक हस्तमैथुन को हार्मोनल परिवर्तन के परिणामस्वरूप बने प्रैशर को रिलीज करने का माध्यम मानते हैं. यह आप की सैक्सुअल डिजायर का परिणाम है. यह कोई रोग नहीं बल्कि आदत है जिस से कामेच्छा शांत होती है और इस से स्वास्थ्य पर कोई गलत प्रभाव नहीं पड़ता. हालांकि अति हर चीज की बुरी होती है.

मैं विवाहित पुरुष हूं और एक अविवाहित महिला से प्यार करता हूं. वह भी मुझ से बहुत प्यार करती है. वह कहती है कि वह मेरे बिना जिंदा नहीं रह पाएगी. मुझे समझ नहीं आ रहा, मैं क्या करूं?

क्या आप की पत्नी आप के इस प्यार के बारे में जानती हैं? अवश्य ही वह नहीं जानती होंगी. ऐसे प्रेमसंबंध थोड़े समय के लिए भले ही रोमांचक, आकर्षक व संतुष्टि देने वाले लगें लेकिन इन का भविष्य अच्छा नहीं होता और अंत सदैव दुखदायी होता है. मौजूदा वैवाहिक संबंधों में दरार आती है. इसलिए आप तुरंत उस महिला से संबंध तोड़ लें, इसी में आप की व उस की भलाई है.

मेरी आयु 20 वर्ष है. मेरी शादी होने वाली है. मेरी समस्या यह है कि मैं जब भी अपने पति के साथ सैक्स संबंधों के बारे में सोचती हूं या टीवी पर सैक्स संबंधी दृश्य देखती हूं तो मेरे गुप्तांग से पानी निकलने लगता है. क्या यह कोई समस्या है या नैचुरल है? समस्या का समाधान कीजिए.

यह कोई समस्या नहीं है. यह पूर्णतया नैचुरल प्रक्रिया है. इसे वैजाइनल डिस्चार्ज कहा जाता है. ऐसा सैक्स की इच्छा के खयाल की उत्तेजना के कारण होता है. यह वैजाइना को लुब्रिकेट करता है और सैक्स के लिए तैयार करता है. यह मासिक धर्म के चक्र पर निर्भर करता है और ओव्यूलेशन से पहले अधिक होता है. बस, ध्यान रहे कि इस डिस्चार्ज में किसी तरह की दुर्गंध, दर्द या जलन न हो वरना यह किसी बैक्टीरियल या यीस्ट इन्फैक्शन का कारण भी हो सकता है.

मैं 20 वर्षीय युवती हूं. मेरे मातापिता इस दुनिया में नहीं हैं. मैं अपने भाईभाभी के साथ रहती हूं. मेरी समस्या यह है कि मेरी भाभी मुझे और भैया को ले कर गलत आरोप लगाती हैं. ऐसा वे पिछले 2 महीने से कर रही हैं. मैं बहुत परेशान हूं, क्या करूं?

सब से पहले आप यह जानने की कोशिश कीजिए कि ऐसा खयाल उन के मन में क्यों आया. क्या वे शक्की स्वभाव की हैं या उन्हें कोई गलत बात सिखा रहा है. आप इस बारे में अपने भाई से खुल कर बात करें कि आखिर भाभी को आप से क्या परेशानी है जो वे ऐसा घिनौना आरोप लगा रही हैं. आप सही हैं तो अपने को सही साबित करें और अच्छी पढ़ाईलिखाई कर के आत्मनिर्भर बनें और फिर विवाह कर के अपनी गृहस्थी बसाएं.          

मैं 22 वर्षीय अविवाहित एमए का छात्र हूं. 21 वर्षीय नवविवाहिता से शारीरिक संबंध हो गए जो आज भी बरकरार हैं. उस के छोटेछोटे 3 बच्चे हैं. इधर, मेरा ऐक्सिडैंट हो गया, मैं अस्पताल में मौत से जूझ रहा था तब वह केवल एक बार आई और कहने लगी कि घरवाले आने नहीं देते. इस बीच उस के पति की किसी ने हत्या कर दी. आप से यह जानना चाहता हूं कि क्या मैं उस से शादी कर लूं? क्या इसे समाज मान्यता देगा, क्योंकि उस की शादी अन्यत्र हो गई तो मैं न स्वयं को माफ कर पाऊंगा, न उस को. क्या हमारा वैवाहिक जीवन सुखी रहेगा? मैं उस के बच्चों को भी अपनाने को तैयार हूं, क्या करूं?

आप का यह विवाह कानूनी व सामाजिक दोनों ही रूप से मान्य है. शादी कर के आप एक अच्छा उदाहरण ही पेश करेंगे. सोच यह भी लीजिए कि तीनों बच्चों की जिम्मेदारी आप की है. रहा सवाल आप का जीवन सुखमय रहेगा या नहीं, यह सब आप दोनों पर निर्भर करता है. जिंदगी के हर पहलू का सोचविचार कर ही फैसला करें.

COMMENT