सरिता विशेष

शिकागो यूनिवर्सिटी में फुलटाइम नौकरी कर रहे रिजर्व बैंक औफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल का वह प्रस्ताव निर्ममतापूर्वक ठुकरा दिया है जिस में उन्हें आप की तरफ से राज्यसभा में भेजे जाने की बात कही गई थी.

इस में कोई शक नहीं कि रघुराम राजन के मौजूदा केंद्र सरकार से गहरे वैचारिक मतभेद हैं, पर वे राज्यसभा जा कर उन्हें हवा नहीं देना चाहते. अब यह केजरीवाल के सोचने की बात थी कि अगर राजन की मंशा किसी ऊंचे या नीचे सदन में जाने की होती तो भाजपा तो उन्हें हाथोंहाथ लेने के लिए तैयार बैठी थी.

पार्टी की अंदरूनी कलह को राजन के नाम पर शांत करने का आप का फार्मूला या दांव बेकार ही गया है. रघुराम राजन एक दृढ़ व्यक्ति हैं और जाहिर है राजनीति में आ कर खुद अपने हाथों अपनी प्रतिभा को ग्रहण नहीं लगाना चाहते.