सरिता विशेष

पति, पत्नी और पौलिटिक्स

संगरूर से आम आदमी पार्टी के सांसद और हास्य अभिनेता भगवंत मान अभी भी हंसाने की अपनी आदत नहीं छोड़ पा रहे हैं. बीती 21 मार्च को वे अपनी पत्नी इंद्रप्रीत कौर के साथ एक ही कार में बैठ मोहाली जिला अदालत पहुंचे और परस्पर सहमति से तलाक की अर्जी दे डाली. विवाद दिलचस्प है, इसे इंद्रप्रीत का आरोप कहा जाए या पति की तारीफ कि वे राजनीति में इतने मशगूल हो गए हैं कि पत्नी व बच्चों को वक्त नहीं दे पा रहे. भगवंत की दलील यह है कि जनता ने पूरे विश्वास से उन्हें चुना है जिसे वे तोड़ना नहीं चाहते और जैसा कि पत्नी दबाव बना रही हैं कि कैलिफोर्निया चल कर रहो, यह उन के लिए मुमकिन नहीं. हालफिलहाल अदालत ने इन दोनों को 6 महीने का वक्त सोचने को दिया है जिस दौरान वे बीच का रास्ता निकाल लें तो ठीक, वरना जनता या इंद्रप्रीत में से किसी एक का विश्वास टूटना तय है. वैसे ये लोग चाहें तो अरविंद केजरीवाल से प्रेरणा ले सकते हैं कि कैसे वे व्यस्तता के बावजूद पत्नी व बच्चों के लिए वक्त निकालते हैं और कैसे सुनीता पति केजरीवाल की ‘पौलिटिक्स’ मैनेज करती हैं.

*

न चिट्ठी न संदेश…

संयुक्त परिवारों के लड़कों को जब अपनी बात मनवानी होती थी तो वे बगैर बताए घर से भाग जाते थे एकाध दिन में ही घर वालों की अक्ल ठिकाने आ जाती थी और वे इश्तिहार देते, बेटा, लौट आओ, तुम्हें कोई कुछ नहीं कहेगा. तुम्हारे चले जाने से तुम्हारी मां बीमार हो गई हैं. बेटा, आने से इनकार न कर दे, इसलिए इश्तिहार में कुछ इनाम की भी घोषणा कर दी जाती थी. ऐसा ही विरोध राहुल गांधी ने नए तरीके से किया. वे विदेश में कहीं चले गए लेकिन कांग्रेस में कोई खास भूचाल नहीं आया, कोई दुखी नहीं हुआ. बयानबाजी जरूर हुई. सोनिया गांधी भी अब उन के मन की बात सुनने को तैयार नहीं क्योंकि उन्हें समझ आ गया है कि पप्पू अब कुछ नहीं कर पाएगा, इसलिए खुद ही मैदान में आ गई हैं. 

*

मन की बात

रेडियो जौकी बड़ी खूबियों वाला शख्स होता है जो स्टूडियो में बैठेबैठे ही श्रोताओं को अपनी मीठी आवाज और लच्छेदार बातों में उलझाए रखने का कारोबार करता है. अब तो तकनीक की सहूलियत से लोग उस से मन की बातें भी साझा कर सकते हैं और नैतिकता का पाठ भी पढ़ा सकते हैं. संजय दत्त अभिनीत फिल्म ‘लगे रहो मुन्नाभाई’ के जरिए लोग इस की बारीकी और खूबियों से परिचित हुए थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन दिनों रेडियो के जरिए लोगों से मन की बात कर रहे हैं. इस से कुछ लोगों के मन की भड़ास निकल जाती है और पीएम मन की बात कह डालते हैं. किसानों से भी उन्होंने मन की बात की और उन्हें पुचकार कर बताया कि दरअसल, भूमि अधिग्रहण बिल उन के भले और लाभ का है, किसान भाई विपक्ष के बहकावे में न आएं. लगता नहीं कि किसान या दूसरे वर्ग के लोग आर जे नरेंद्र मोदी के बहकावे में भी आ रहे हैं.

*

कानूनी डिस्को

हिंदी व बंगला फिल्म अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती पहले कलात्मक अभिनय और बाद में डिस्को डांस करने से पहचाने गए थे. यह पहचान पूरी तरह लुप्त होती, इस से पहले ही उन्होंने ममता बनर्जी वाली तृणमूल कांग्रेस का पल्लू पकड़ लिया और सीधे संसद जा पहुंचे. मिथुन चक्रवर्ती को भी प्रवर्तन निदेशालय ने समन भेज दिया है. बहुचर्चित सारदा घोटाले की गंगा में मिथुन ने 2 करोड़ की डुबकी लगाई थी. अब फिर वे डिस्को करेंगे पर इस बार फ्लोर या स्टेज पर नहीं, बल्कि अदालत में, जहां उन के कई साथी पहले से ही चक्कर काट रहे हैं. और इधर गिनने वाले हिसाब लगा रहे हैं कि टीएमसी के कितने सांसद बचे हैं जिन का नाम इस घोटाले में अब तक नहीं आया है.