सरिता विशेष

देवभूमि कहे जाने वाले राज्य उत्तराखंड में कांग्रेस से उम्मीद है तो उस की इकलौती वजह मुख्यमंत्री हरीश रावत की भाजपा से उधार ली गई हिंदूवादी राजनीति है जिस के तहत वे पूजापाठ ही करते रहे और तो और, एक हैरतअंगेज काम संजीवनी बूटी को खोज निकालने का कर डाला. इस मुहिम पर करोड़ों रुपए वे फूंक रहे हैं और संजीवनी ढूंढ़ने के लिए गठित टीम कड़कड़ाती ठंड में हिमालय की तराइयों में खाक छान रही है कि जैसे भी हो, मतदान से पहले संजीवनी ढूंढ़ ली जाए ताकि कांग्रेस में नई जान फूंकी जा सके. अंदरूनी कलह से जूझ रही उत्तराखंड कांग्रेस को एक बड़ा सहारा हरीश रावत की हिंदूवादी छवि और पहाड़ी वोट हैं. कुल मिला कर बात मुद्दों की नहीं, बल्कि घासफूस की हो रही है.